भगवान शिव के अवधूतेश्वर अवतार की कथा

भगवान शिव के अवधूतेश्वर अवतार की कथा

पूरे त्रैलोक्य के लिए कल्याणकारी परमात्मा भगवान शिव सबके गर्वापहारी हैं । उनका अवधूतेश्वर अवतार देवराज इन्द्र के गर्वापहरण के लिये हुआ । यश, स्वर्ग, भोग, मोक्ष तथा सम्पूर्ण मनोवांछित फलों को प्राप्त कराने वाली है, भगवान्य शिव की यह …

Read moreभगवान शिव के अवधूतेश्वर अवतार की कथा

महाभारत काल में हुए भगवान शंकर के किरात अवतार की कथा

महाभारत काल में हुए भगवान शंकर के किरात अवतार की कथा

महाभारत में कथा आती है अर्जुन की जब महान धनुर्धर, किरात वेशधारी भगवान् शिव से उनका सामना हुआ | भगवान शिव निगुर्ण, निराकार, निरंजन, परब्रह्म परमात्मा हैं फिर भी धर्माचरण करने वाले साधुपुरुषों के कल्याण के लिये साकार रूप में …

Read moreमहाभारत काल में हुए भगवान शंकर के किरात अवतार की कथा

हिन्दुओं के ह्रदय में बसते हैं श्री राम

हिन्दुओं के ह्रदय में बसते हैं श्री राम

काफी पहले की बात है | मगध क्षेत्र के कोथवा, रामपुर, नयनचक्र, मुस्तफापुर, आदमपुर और आसोपुर आदि गाँवों में, कुल मलकर एक ही विद्यालय था, जो काफी प्रसिद्ध था, उसका नाम था ‘वेदरत्न विद्यालय’ | इस विद्यालय में कुल छः …

Read moreहिन्दुओं के ह्रदय में बसते हैं श्री राम

पार्वती नन्दन, भगवान् मयूरेश्वर के अवतार की कथा

पार्वती नन्दन, भगवान् मयूरेश्वर के अवतार की कथा

आज से काफी समय पूर्व त्रेतायुग की बात है । देश के दक्षिणी भाग में स्थित मैथल क्षेत्र में एक प्रसिद्ध नगर हुआ करता था जिसका नाम था गण्डकी | वहां के धर्म परायण नरेश चक्रपाणि के पुत्र सिन्धु के …

Read moreपार्वती नन्दन, भगवान् मयूरेश्वर के अवतार की कथा

जब भगवान स्वयम मांगने आये राजा बलि से

जब भगवान स्वयम मांगने आये राजा बलि से

सूक्ष्म जगत में हलचल तेज़ हो गयी थी | सब कुछ उलट-पुलट हो रहा था | ऐसा लग रहा था मानो कुछ अविस्मर्णीय अकल्पनीय होने वाला था | वर्षों से ब्रह्माण्डीय शक्तियों का सञ्चालन अपने हाँथ में रखने वाले देवताओं …

Read moreजब भगवान स्वयम मांगने आये राजा बलि से

पाण्डव कौन थे, देवताओं के अंश से उनका अवतरण किस प्रकार संभव हुआ?

पाण्डव कौन थे, देवताओं के अंश से उनका अवतरण किस प्रकार संभव हुआ?

पाण्डव कौन थे, देवताओं के अंश से उनका अवतरण किस प्रकार संभव हुआ? प्राचीन काल की बात है | यादवों में शूरसेन नामक एक श्रेष्ठ राजा हुए, जो वसुदेव जी के पिता थे । कालान्तर में शूरसेन को एक कन्या …

Read moreपाण्डव कौन थे, देवताओं के अंश से उनका अवतरण किस प्रकार संभव हुआ?

चूड़ाला कौन थीं और परकाया प्रवेश से उन्होंने कौन सा अभूतपूर्व कार्य किया था

चूड़ाला कौन थीं और परकाया प्रवेश से उन्होंने कौन सा अभूतपूर्व कार्य किया था

चूड़ाला कौन थीं और परकाया प्रवेश से उन्होंने कौन सा अभूतपूर्व कार्य किया था पुनर्जन्म और परकाया प्रवेश दोनों दो अलग-अलग तथ्य हैं | यद्यपि इन दोनों का संबंध एक ही जीव आत्मा से अवश्य हो सकता है इसलिए कई …

Read moreचूड़ाला कौन थीं और परकाया प्रवेश से उन्होंने कौन सा अभूतपूर्व कार्य किया था

आदि शंकराचार्य जी के परकाया प्रवेश की घटना

adi shankarachaya

जगतगुरु आदि शंकराचार्य जी के परकाया प्रवेश की घटना विश्व प्रसिद्द है | घटना के अनुसार, वैदिक धर्म की पुनर्स्थापना के लिए आदि गुरु शंकराचार्य ने जब वाराणसी में विरोधी विद्वानों को शास्त्रों में परास्त कर दिया तो उनका शास्त्रार्थ …

Read moreआदि शंकराचार्य जी के परकाया प्रवेश की घटना

देवासुर संग्राम के बाद देवताओं के घमण्ड को चूर-चूर करने वाले परब्रह्म परमेश्वर

देवासुर-संग्राम-के-बाद-देवताओं-के-घमण्ड-को-चूर-चूर-करने-वाले-परब्रह्म-परमेश्वर

देवासुर संग्राम के बाद देवताओं के घमण्ड को चूर-चूर करने वाले परब्रह्म परमेश्वर जीत का नशा कुछ ऐसा होता है कि सिर चढ़ कर बोलता है फिर चाहे वो देव शक्तियाँ ही क्यों न हो | जिन शक्तियों को ईश्वर …

Read moreदेवासुर संग्राम के बाद देवताओं के घमण्ड को चूर-चूर करने वाले परब्रह्म परमेश्वर

अरुन्धती कौन थीं और उनका वशिष्ठ जी के साथ विवाह कैसे हुआ

Arundhati Kaun thi

अरुन्धती कौन थीं और उनका वशिष्ठ जी के साथ विवाह कैसे हुआ परमेश्वर की प्रेरणा से कल्प के प्रारंभ में भगवान् ब्रह्मा जी ने कई मानस पुत्र और पुत्रियाँ उत्पन्न की थी | ब्रह्मा जी की यह सृष्टि, उनके द्वारा …

Read moreअरुन्धती कौन थीं और उनका वशिष्ठ जी के साथ विवाह कैसे हुआ