जानिये अचूक शनि मंत्र जो आपको नौकरी दिला सकता है, विपरीत परिस्थितियों में भी

जानिये अचूक शनि मंत्र जो आपको नौकरी दिला सकता है, विपरीत परिस्थितियों में भी

बेरोजगारी की स्थिति में व्यक्ति रोजगार पाने के लिए अपनी स्टडी और एक्सपीरियंस को तो बढ़ाता ही है लेकिन यदि वह साथ-साथ अध्यात्म का भी सहारा ले तो निश्चय ही उसे जल्द कामयाबी और परिणाम अपने अनुकूल प्राप्त होने की …

Read more

ॐ, जिस मंत्र के उच्चारण मात्र से बढ़ती हुई उम्र थम जाती है

ॐ, जिस मंत्र के उच्चारण मात्र से बढ़ती हुई उम्र थम जाती है

हर किसी की चाह होती है कि वह सदा जवां और खूबसूरत दिखे। इसके लिए लोग पार्लर में हजारों रुपए खर्च कर देते हैं। लेकिन आज हम आपको एक ऐसा उपाय बताने जा रहे हैं जिसमें आपका एक पैसा भी …

Read more

चमत्कारिक मन्त्र है ॐ सूर्याय नमः

चमत्कारिक मन्त्र है ॐ सूर्याय नमः

वह छोटा सा मंत्र है जो आपको रोगों से दूर रखता है। दुनिया में हर व्यक्ति सदैव स्वस्थ रहना चाहता है। कोई नहीं चाहता कि वह कभी किसी बीमारी के चपेट में आये। कुछ ऐसे आध्यात्मिक कार्य और मंत्र हैं …

Read more

भीषण शक्तिशाली है गायत्री मन्त्र, जिसकी तुलना किसी से नहीं की जा सकती

भीषण शक्तिशाली है गायत्री मन्त्र, जिसकी तुलना किसी से नहीं की जा सकती

मुश्किल की घड़ी हर किसी के जीवन में आती है। यदि हम राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की बात करें तो देश की आजादी के लिए अंग्रेजों से लोहा लेने वाले बापू के जीवन में अनगिनत मुश्किल की घड़ियाँ आयीं। लेकिन उन …

Read more

सूर्य मंत्र, जो वेदों में आये हैं, उनके जप एवं प्रभाव

सूर्य मंत्र

भगवान सूर्य की स्तुति में भक्त प्रातःकाल प्रार्थना करते हुए कहता है कि ‘हे भगवान सूर्य! मैं आपके उस श्रेष्ठ रूप का स्मरण करता हूँ , जिसका मण्डल ऋग्वेद है, तनु यर्जुर्वेद है, किरणें सामवेद हैं तथा जो ब्रह्मा और …

Read more

नवरात्रि में करें, युद्ध में शत्रु पर विजय के लिए मंत्र साधना

नवरात्रि में करें, युद्ध में शत्रु पर विजय के लिए मंत्र साधना

महाभारत के समय कुरुक्षेत्र में जब भगवान श्री कृष्ण ने, भीषण हथियारों के साथ, महाभयंकर कौरव सेना को युद्ध के लिए उपस्थित देखा तो उन्होंने कुछ सोचकर, अर्जुन से उनके हित के लिए कहा- हे अर्जुन तुम रणक्षेत्र में इन …

Read more

मन्त्र विद्या के रहस्य

मन्त्र-विद्या-के-रहस्य

मन्त्र विद्या के रहस्य मन्त्र विद्या के रहस्य इस दुनिया के ऐसे अजूबे हैं कि जिनके समझ में आ गए, उनके लिए किसी दिव्य अनुदान से कम नहीं हैं | सुप्रसिद्ध वैज्ञानिक डॉ॰ एहरन, हमेशा अपनी कमर में एक तुलसी …

Read more

आगम, यामल और तन्त्र शास्त्र के प्रमुख ग्रन्थ

Trident_Yantra_of_Parama_Siva

तंत्रशास्त्र के प्रधान रूप से तीन भेद हैं-आगम, यामल और तंत्र | वाराही तंत्र के मतानुसार सृष्टि, प्रलय, देवताओं की पूजा, सब का साधन और मन्त्रों के पुरश्चरण तथा पट्कर्म साधन और चार प्रकार के ध्यानयोग, जिसमें यह सात प्रकार …

Read more

मन्त्रयोग, हठयोग, राजयोग, लययोग एवं कुण्डलिनी साधना के विभिन्न अंगों का वर्णन

मन्त्रयोग, राजयोग, लययोग, हठयोग

योग भारतवर्ष की अमूल्य निधि है | दर्शन शास्त्र के ग्रन्थ, भारतीय मनीषियों की योगविद्या के चमत्कार से ही भरे पड़े हैं | योग साधना एवं आध्यात्मिक ज्ञान के लिए, ये विश्व सदियों से ऋणी रहा है भारतवर्ष का | …

Read more

तंत्र साहित्य में ब्रह्म के सच्चिदानन्द स्वरुप की व्याख्या

Panchmukhi-Paramshiv-Rahasyamaya

तंत्र विद्या केवल मारण, मोहन, विद्वेषण, उच्चाटन और वशीकरण तक सीमित नहीं है बल्कि इस प्रकार के अभिचार कर्म तंत्र का निकृष्टतम रूप हैं | ये तंत्र का विकृत रूप हैं जो भौतिकता से प्रेरित अपरा तंत्र के अंतर्गत आते …

Read more