नवरात्रि में करें, युद्ध में शत्रु पर विजय के लिए मंत्र साधना

नवरात्रि में करें, युद्ध में शत्रु पर विजय के लिए मंत्र साधना

महाभारत के समय कुरुक्षेत्र में जब भगवान श्री कृष्ण ने, भीषण हथियारों के साथ, महाभयंकर कौरव सेना को युद्ध के …

Read moreनवरात्रि में करें, युद्ध में शत्रु पर विजय के लिए मंत्र साधना

आगम, यामल और तन्त्र शास्त्र के प्रमुख ग्रन्थ

Trident_Yantra_of_Parama_Siva

तंत्रशास्त्र के प्रधान रूप से तीन भेद हैं-आगम, यामल और तंत्र | वाराही तंत्र के मतानुसार सृष्टि, प्रलय, देवताओं की …

Read moreआगम, यामल और तन्त्र शास्त्र के प्रमुख ग्रन्थ

मन्त्रयोग, हठयोग, राजयोग, लययोग एवं कुण्डलिनी साधना के विभिन्न अंगों का वर्णन

मन्त्रयोग, राजयोग, लययोग, हठयोग

योग भारतवर्ष की अमूल्य निधि है | दर्शन शास्त्र के ग्रन्थ, भारतीय मनीषियों की योगविद्या के चमत्कार से ही भरे …

Read moreमन्त्रयोग, हठयोग, राजयोग, लययोग एवं कुण्डलिनी साधना के विभिन्न अंगों का वर्णन

तंत्र साहित्य में ब्रह्म के सच्चिदानन्द स्वरुप की व्याख्या

Panchmukhi-Paramshiv-Rahasyamaya

तंत्र विद्या केवल मारण, मोहन, विद्वेषण, उच्चाटन और वशीकरण तक सीमित नहीं है बल्कि इस प्रकार के अभिचार कर्म तंत्र …

Read moreतंत्र साहित्य में ब्रह्म के सच्चिदानन्द स्वरुप की व्याख्या