क्या प्रणव यानी ऊँकार, साक्षात परमात्मा का नामावतार और नादावतार है तथा इसके जप से भगवान की प्राप्ति हो जाती है

क्या समस्त वेदों का सार वह परब्रह्म ऊँकार ही है

ब्रह्म एक ही है | एकोहम द्वितीयो नास्ति। उस एक ही सत् (ब्रह्म), को ज्ञानी जन इन्द्र, मित्र, वरूण, अग्नि, दिव्य सुपर्ण गुरूत्मान, यम और मातारिश्वा के नाम से भी पुकारते हैं। भारतीय शास्त्रों के अनुसार नाम दो प्रकार का …

Read more

हज़ारों वर्ष जीवित रखने वाली रहस्यमय भारतीय विद्या

हज़ारों वर्ष जीवित रखने वाली रहस्यमय भारतीय विद्या

हज़ारों वर्ष जीवित रखने वाली रहस्यमय भारतीय विद्या भारतवर्ष में अंग्रेजी राज के दौरान अंग्रेज सैन्य ऑफिसर श्री एल. पी. फेरल काफी समय तक भारतीय सेना के प्रधान बने रहे | संयोग से आध्यात्मिक विद्या में उनकी गहरी रुची शुरू …

Read more

हठयोग के यम, नियम और आसन क्या हैं ?

HATHA-YOGA

हठयोग के प्रणेता भगवान शिव हैं | भगवान शिव के अनुसार राजयोग सर्वोत्तम है और एक सिद्ध राजयोगी बनने के लिए हठयोग सीढ़ी के समान है | यद्यपि कहीं-कहीं यह भी कहा गया है कि यह दोनों अन्योनाश्रित है अर्थात …

Read more

रहस्यमयी षन्मुखी मुद्रा के, योग साधना में चमत्कार

षन्मुखी-मुद्रा

योग साधना में वैसे तो प्राणायाम का अत्यधिक महत्व है लेकिन ध्यान साधना में मुद्राओं की महत्ता को नकारा नहीं जा सकता | बिना मुद्राओं के यौगिक साधनायें वैसे ही हैं जैसे बिना पंख के पक्षीगण | इन रहस्यमयी मुद्राओं …

Read more

कुण्डलिनी शक्ति तंत्र, षट्चक्र, और नाड़ी चक्र के रहस्य

मूलाधार_चक्र

कुण्डलिनी की सर्वत्र व्याख्या एक ऐसी शक्ति की रूप में की गयी है जिसकी तुलना किसी से नहीं की जा सकती | यह सर्वशक्तिमान की अधिष्ठात्री शक्ति है | मानव जीवन का दुर्लभतम वरदान है यह जिसको साध लेने से …

Read more

हस्तरेखा विशेषज्ञ कीरो का प्रेतात्मा से सामना

Cheiro-Rahasyamaya

कीरो (Cheiro), वास्तविक नाम विलियम जॉन वार्नर (William John Warner) का जन्म 1 नवम्बर सन 1866 को हुआ था | बीसवीं शताब्दी के इस प्रसिद्ध भविष्यवक्ता को कौन नहीं जानता | हस्तरेखा, सामुद्रिक शास्त्र के द्वारा भविष्यवाणी करने वाले कीरो …

Read more

क्या लोहे को सोने में बदलना संभव है?

god-particles

तीसरा व अन्तिम भाग… इन प्रणव रुपी सूर्य की दो अवस्थाएं हैं | एक अवस्था में इनकी रश्मियाँ चारो ओर विकीर्ण यानि फैली हुई हैं और दूसरी अवस्था में इनकी समस्त रश्मियाँ संहृत होकर मध्यबिंदु में विलीन हो गयी हैं …

Read more

वैमानिक शास्त्र: प्राचीन भारतीय ग्रंथों में आये विमानों का रहस्य

Ancient Viman

प्रकृति की बनायी इस सृष्टि में जहाँ हमारी पहुँच नहीं, अक्सर उनका रहस्य हमें आकर्षित करता है | प्राचीन काल के मानवों को उड़ने वाले पक्षी चकित कर दिया करते थे, क्योकि वो स्वयं उड़ नहीं सकता था | उसे …

Read more

नास्त्रेदमस की भविष्यवाणियाँ

नास्त्रेदमस की भविष्यवाणियाँ

दुनिया भर के लोगों की भविष्यवाणियाँ एक तरफ़ और नास्त्रेदमस (Nostradamus) की भविष्यवाणियाँ दूसरी तरफ़, कहना मुश्किल है किस पर लोग ज्यादा यकीन करेंगे लेकिन इतना तो तय है कि भविष्यवाणियों की दुनिया में जितना प्रसिद्ध नाम नास्त्रेदमस का है …

Read more

भाग-२ (क्या लोहे को सोने में बदलना संभव है ?)

ब्रह्माण्ड और प्रति-ब्रह्माण्ड

ब्रह्माण्ड और प्रति-ब्रह्माण्ड “तुम लोगों ने शास्त्रों में जिन विद्याओं के नाम मात्र सुने हैं, वे तथा उनके अतिरिक्त और भी न मालूम कितनी और हैं ?” इसी प्रकार बातें होते-होते शाम हो चली थी | पास में ही घड़ी …

Read more