दुशासन वध

दुशासन वध

महाभारत के युद्ध में दुशासन की दर्दनाक मौत का वर्णन जिस किसी ने भी पढ़ा वह अंदर तक कांप गया। किसी पापी को उसके पाप के दंड के लिए ऐसी भी हृदय विदारक मौत मिल सकती है़, कोई नहीं जानता …

Read more

महाभारत कर्ण वध

महाभारत कर्ण वध

इतिहास प्रसिद्ध कुरुक्षेत्र का महाभारत का युद्ध कुल 18 दिन चला। आज हम आपको महाभारत के 17 वें दिन की घटना से अवगत करा रहे हैं। जो महाभारत के युद्ध में कर्ण और अर्जुन संग्राम के नाम से जानी जाती …

Read more

कर्ण की उत्पत्ति कैसे हुई और महाभारत के सारे पात्र किन-किन देवता, दानव और असुरों के अंश से उत्पन्न हुए

महाभारत के सारे पात्र किन-किन देवता, दानव और असुरों के अंश से उत्पन्न हुए

जरासन्ध, शिशुपाल, शल्य, धृष्टकेतु और कंस पूर्व जन्म में कौन थे  वैशम्पायन जी कहते हैं, जनमेजय! अब मैं यह वर्णन करता हूँ कि किन-किन देवता और दानवों ने किन-किन मनुष्यों के रूप में जन्म लिया था। दानवराज विप्रचित्ति जरासन्ध और …

Read more

श्री कृष्णद्वैपायन, वेदव्यास जी की आज्ञा से वैशम्पायन जी का जनमेजय को महाभारत की कथा सुनाना

श्रीवेदव्यास जी की आज्ञा से वैशम्पायन जी का कथा प्रारम्भ करना

शौनक जी ने कहा, सूतनन्दन! महाभारत की कथा बड़ी ही पवित्र है। इस में पाण्डवों का यश गाया गया है। सर्प-सत्र के अन्त में जनमेजय की प्रार्थना से भगवान् श्रीकृष्णद्वैपायन ने वैशम्पायन जी को यह आज्ञा दी थी कि तुम …

Read more

अंगूठा कट जाने बाद भी एकलव्य ने धनुष-बाण चलाने की नयी विद्या का आविष्कार कर डाला

एकलव्य

अजीब संयोग था वह सब, न पांडव राजकुमारों का वह कुत्ता ईश वंदना में तल्लीन एकलव्य का ध्यान भंग करने के लिए उनके पास पहुंचता, न ही उनकी प्रार्थना में विध्न पहुंचता, न ही एकलव्य उस कुत्ते को भौंकने से …

Read more

पाण्डवों के लाक्षागृह से सकुशल भाग निकलने की कथा

पाण्डवों के लाक्षागृह से सकुशल भाग निकलने की कथा

पाँचों पांडव जब अपनी माँ के साथ वारणावत पहुंचे तो पाण्डवों के शुभागमन का समाचार सुनकर वारणावत के नागरिक शास्त्र-विधि के अनुसार मंगलमयी वस्तुओं की भेंट लेकर प्रसन्नता और उत्साह के साथ सवारियों पर चढ़कर उनकी अगवानी के लिये, उनके …

Read more

दुर्योधन ने कुटिलता पूर्वक पांडवों को वारणावत भेजने की योजना बनाई और धृतराष्ट्र के साथ मिल कर उन्हें भेज दिया

Cunning fellow Duryodhana made a plan to send the Pandavas to Varnavat

कुरुवंश के राजकुमार, कौरव और पाण्डव अब बड़े हो रहे थे | दुर्योधन ने जब देखा कि युधिष्ठिर के छोटे भाई भीमसेन की शक्ति असीम है और अर्जुन का अस्त्र-ज्ञान तथा अभ्यास विलक्षण है तो उसका कलेजा जलने लगा । …

Read more

जब पाण्डवों को विवश हो कर वारणावत की यात्रा के लिए निकलना पड़ा तो विदुर ने सांकेतिक और गुप्त भाषा में उन्हें खतरे से आगाह क्या

vidhura

दुर्योधन की कुटिल चालों के अनुसार जब धृतराष्ट्र ने पाण्डवों को वारणावत जाने की आज्ञा दे दी, तब दुरात्मा दुर्योधन को बड़ी प्रसन्नता हुई उसने अपने मन्त्री पुरोचन को एकान्त में बुलाया और उसका दाहिना हाथ पकड़कर कहा, “भाई पुरोचन …

Read more

व्यासजी द्वारा पांडवों को द्रौपदी के पूर्वजन्म के बारे में बताना

Draupadi

परीक्षित नंदन जन्मेजय को महाभारत की कथा सुनते हुए वैशम्पायन जी कहते हैं-जनमेजय ! द्रौपदी के जन्म की कथा और उसके स्वयंवर का समाचार सुनकर पाण्डवों का मन उसे देखने के लिए बेचैन हो गया । उनकी व्याकुलता और द्रौपदी …

Read more

कर्ण वध के पश्चात्, दुर्योधन का पाण्डव सेना में अपना पराक्रम दिखाना, अपनी भागती हुई सेना को प्रेरित करते हुए एकत्रित करने का असफल प्रयास करना और अंत में घोर विलाप करना

Duryodhana

कर्ण वध के पश्चात्, युद्ध स्थल का आँखों देखा हाल बताते हुए संजय धृतराष्ट्र से कहते हैं-महाराज ! उस समय कौरव-सैनिक भीमसेन के भय से व्याकुल होकर भाग रहे थे । उनकी यह अवस्था देख दुर्योधन हाहाकार करके उठा और …

Read more