धर्मं

क्या कपिल मुनि के नेत्रों से ही राजा सगर के साठ हज़ार पुत्र जल कर भस्म हो गए थे

क्या कपिल मुनि के नेत्रों से ही ...

यह सत्ययुग की बात है | अत्यन्त प्राचीनकाल में ‘स्यूमरश्मि’ नाम के एक ऋषि हुआ करते थे | वो दिव्य तेज़ के स्वामी थे लेकिन एक बार उन्हें परम प्रभु परमेश्वर के सम्बन्ध में अनेक महान कौतूहल उत्पन्न हुए | उन्होंने अपने ध्यान से अनुमान लगाया कि उनके प्रश्नों का समाधान कपिल मुनि ही कर सकते हैं | इसलिए वो कपिल मुनि के पास गए | उन्होंने कपिल मुनि से अत्यन्त श्रद्धापूर्वक ...

यह सत्ययुग की बात है | अत्यन्त प्राचीनकाल More...

भगवान शिव के अटठाईस योगेश्वर और महाकाल आदि दस अवतार क्या हैं

भगवान शिव के अटठाईस योगेश्वर और महाकाल आदि दस अवतार क्या हैं

जिस प्रकार से प्रत्येक मन्वन्तर के प्रत्येक द्वापर युग में भगवान नारायण स्वयं ...

जिस प्रकार से प्रत्येक मन्वन्तर के प्रत्येक More...

भगवान शिव के एकादश रूद्र अवतार

भगवान शिव के एकादश रूद्र अवतार

पूर्वकाल की बात है, एक बार इन्द्र आदि समस्त देवता दैत्यों से पराजित और भयभीत होकर ...

पूर्वकाल की बात है, एक बार इन्द्र आदि समस्त More...

ब्रह्माण्ड के विभिन्न लोकों की रचना करने वाले विधाता के भ्रम को जब मुरलीधर श्रीकृष्ण ने दूर किया

ब्रह्माण्ड के विभिन्न लोकों की रचना करने वाले विधाता के भ्रम को जब मुरलीधर श्रीकृष्ण ने दूर किया

एक बार ब्रह्मा जी को भी श्री कृष्ण के परमेश्वर होने पर संदेह हुआ | जीवों को माया ...

एक बार ब्रह्मा जी को भी श्री कृष्ण के परमेश्वर More...

गुरु गोरखनाथ की कथा, गोरखपुर में स्थित गोरखनाथ मंदिर उनके कौन से युग की तपःस्थली है

गुरु गोरखनाथ की कथा, गोरखपुर में स्थित गोरखनाथ मंदिर उनके कौन से युग की तपःस्थली है

गुरू गोरक्षनाथ या गुरु गोरखनाथ भारतीय मानस में देवाधिदेव शिव के अवतार के रूप ...

गुरू गोरक्षनाथ या गुरु गोरखनाथ भारतीय More...

वराह अवतार क्या है, भगवान ने इस रूप मे अवतार क्यों लिया

वराह अवतार क्या है, भगवान ने इस रूप मे अवतार क्यों लिया, हिरण्याक्ष कौन था, उसका वध भगवान ने क्यों किया

एक बार की बात है । परम अनासक्त, समस्त लोकों में आकाश मार्ग से विचरण करने वाले, चतुर्मुख ...

एक बार की बात है । परम अनासक्त, समस्त लोकों More...

भगवान गणेश, श्री गजानन ने, भगवान ब्रह्मा जी के मुख से उत्पन्न असुरराज, सिंदूर, का वध किस प्रकार किया एवं महर्षि पराशर को उन्होंने किस प्रकार पुत्र सुख प्रदान किया

भगवान गणेश, श्री गजानन ने, भगवान ब्रह्मा जी के मुख से उत्पन्न असुरराज, सिंदूर, का वध किस प्रकार किया एवं महर्षि पराशर को उन्होंने किस प्रकार पुत्र सुख प्रदान किया

एक बार द्वापर युग की बात है । एक दिन पार्वती वल्लभ भगवान् शिव, ब्रह्म-सदन पहुँचे ...

एक बार द्वापर युग की बात है । एक दिन पार्वती More...

शिवपुराण, पद्मपुराण, ब्रह्मवैवर्त पुराण, लिंगपुराण, स्कन्दपुराण व अन्य पुराणों में उपलब्ध भगवान् गणेश के प्राकट्य की कहानियां

शिवपुराण, पद्मपुराण, ब्रह्मवैवर्त पुराण, लिंगपुराण, स्कन्दपुराण व अन्य पुराणों में उपलब्ध भगवान् गणेश के प्राकट्य की कहानियां

ब्रह्माण्ड से परे क्षीरसागर (Milky way) में शेष शय्या पर लेटे हुए श्रीनारायण और उनके ...

ब्रह्माण्ड से परे क्षीरसागर (Milky way) में शेष More...

भगवान गणेश के महोत्कट विनायक के रूप में अवतार की कथा

भगवान गणेश के महोत्कट विनायक के रूप में अवतार की कथा

एक बार की बात है, महान वैज्ञानिक महर्षि कश्यप अग्निहोत्र कर चुके थे । दैवीय, सुगन्धित ...

एक बार की बात है, महान वैज्ञानिक महर्षि More...

श्री सनकादि मुनि कौन हैं, उनके श्राप से हिरण्यकशिपु, हिरण्याक्ष, रावण, कुम्भकर्ण और शिशुपाल आदि जैसे राक्षस कैसे पैदा हुए

श्री सनकादि मुनि कौन हैं, उनके श्राप से हिरण्यकशिपु, हिरण्याक्ष, रावण, कुम्भकर्ण और शिशुपाल आदि जैसे राक्षस कैसे पैदा हुए

जगतपिता परमेश्वर के अध्यक्षता में प्रकृति द्वारा रची गयी सृष्टि के प्रारम्भ ...

जगतपिता परमेश्वर के अध्यक्षता में प्रकृति More...