ब्रह्मा जी के अंशावतार ऋक्षराज जाम्बवन्त जी की कथा

ब्रह्मा जी के अंशावतार ऋक्षराज जाम्बवन्त जी की कथा

ब्रह्मा जी के अंशावतार ऋक्षराज जाम्बवन्त जी की कथा ब्रह्मा जी के अंशावतार ऋक्षराज जाम्बवन्त जी की कथा, भारतीय धर्म के कई पौराणिक एवं धार्मिक ग्रंथों में दी हुई है | उन कथाओं के अनुसार एक बार भगवान ब्रह्मा जी …

Read more

जब वेदव्यास जी ने अपने तपोबल से एक कीड़े को मोक्ष दिलाया

ved vyas ji

महाभारत का युद्ध समाप्त हो चुका था | महाराजा युधिष्ठिर ने इस पूरे युद्ध के परिणाम स्वरुप अपने स्वजनों को खो देने के कारण बहुत समय तक विलाप किया | भगवन कृष्ण के समझाने पर उनकी तन्द्रा टूटी लेकिन वे …

Read more

महाभारत काल के चार रहस्यमय पक्षी जिन्हें अपना पूर्वजन्म याद था

महाभारत काल के चार रहस्यमय पक्षी जिन्हें अपना पूर्वजन्म याद था

एक बार महर्षि जैमिनी को महाभारत में आये कुछ तथ्यों से सम्बंधित कुछ संदेह उत्पन्न हो गया | मन में चल रही उहापोह के बीच उन्हें मार्कंडेय मुनि का ध्यान आया | वे उनके पास गए और उनसे अपने संदेह …

Read more

अबोध बालकों की हत्यारी पूतना पूर्वजन्म में कौन थी

बालकों-की-हत्यारी-पूतना-पूर्वजन्म-में-कौन-थी

अबोध बालकों की हत्यारी पूतना पूर्वजन्म में कौन थी, इस सम्बन्ध में अलग-अलग पुराणों में अलग-अलग कथाएं दी हुई हैं | भागवत में पूतना को ‘लोक बालघ्नी राक्षसा रुधिराशना’ अर्थात पूतना संसार के बालकों की हत्या करने वाली एवं उनका …

Read more

कहानी, सूपर्णखा, मंथरा, और कुब्जा के पूर्वजन्म की

कहानी-सूपर्णखा-मंथरा-और-कुब्जा-के-पूर्वजन्म-की

भारतीय पौराणिक ग्रंथों में कुब्जा एक ऐसी पात्र है जिसके जन्मांतरों के संबंध में बड़ी रोचक तथा आश्चर्य जनक कथायें मिलती हैं | गर्ग संहिता के ग्यारहवें अध्याय में राजा बहुलाश्व की एक कथा आती है | एक बार बहुलाश्व …

Read more

राजा नल और दमयन्ती के पूर्वजन्म की कथा

नल और दमयन्ती के पूर्वजन्म की कथा

राजा नल की कथा किसी समय आबू पर्वत (Mount Abu) के पास ‘आहुक’ नाम का एक भील रहता था | उसकी परम सुन्दरी स्त्री का नाम आहुआ था | वह बड़ी पतिव्रता तथा धर्मशील थी | दोनों ही पति-पत्नी बड़े …

Read more

भारतीय पौराणिक ग्रंथों में विभिन्न लोकों के कालान्तर का वर्णन

NASA-Planet-Image

पौराणिक ग्रंथो के रचयिता महर्षि वेदव्यास जी ने काल यानी समय के वर्गीकरण को प्राचीन आर्ष ग्रंथों में समुचित रीति से समझाया है उनके अनुसार परमेश्वर कल्प के प्रारम्भ में सृष्टि और कल्पके अन्त में प्रलय करते है । कल्प …

Read more

पौराणिक ग्रंथों में ब्रह्माण्ड की विभिन सृष्टियों की उत्पत्ति का मनोरम वर्णन

Maharishi-Vedavyas-JI

भारतीय पौराणिक ग्रंथों में पृथ्वी समेत समूची सृष्टि और ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति का वृहद वर्णन है | कुछ आलंकारिक वर्णनों के साथ विभिन्न पुराणों में भिन्नता होते हुए भी वैज्ञानिक तथ्यों में उनमे गज़ब का साम्य है | इन पुराण …

Read more