क्या समुद्र मंथन की मोहिनी अवतार कथा में आयी मोहिनी ब्रह्माण्ड की सर्वांग सुंदरी थी

समुद्र मंथन की मोहिनी अवतार कथा

कल्पान्त तक अपनी आयु और अपने रूप को सजीव रखने के लिए तथा अतुलनीय रूप से शक्ति शाली बनने के …

Read moreक्या समुद्र मंथन की मोहिनी अवतार कथा में आयी मोहिनी ब्रह्माण्ड की सर्वांग सुंदरी थी

पंचतन्त्र की कहानियाँ-गवैये गधे की मूर्खता की कहानी

गवैये गधे की मूर्खता की कहानी

एक धोबी के पास एक गधा था । गधा प्रतिदिन मैले कपड़ों की गठरी पीठ पर लादकर घाट पर जाता …

Read moreपंचतन्त्र की कहानियाँ-गवैये गधे की मूर्खता की कहानी

पंचतन्त्र की कहानियाँ-मूर्ख उल्लुओं की बस्ती में हंस को बहस करना मंहगा पड़ गया

fool owls and hansa

एक वृक्ष पर एक उल्लू रहता था । उल्लू को दिन में दिखाई नहीं पड़ता, इसीलिए इसको दिवांध भी कहते …

Read moreपंचतन्त्र की कहानियाँ-मूर्ख उल्लुओं की बस्ती में हंस को बहस करना मंहगा पड़ गया

पंचतन्त्र की कहानियां-कृतघ्नता का फल बुरा होता है

the stories of panchtantra, the consequence of dis-obligation

एक गांव में एक ब्राह्मण रहता था । ब्राह्मण बड़ा गरीब था । भिक्षा को छोड़कर उसकी जीविका का कोई …

Read moreपंचतन्त्र की कहानियां-कृतघ्नता का फल बुरा होता है

कूर्म अवतार के रूप में क्या विष्णु भगवान् ने एक विशालकाय कछुए का रूप धारण किया था

koorm avatar

समुद्र मंथन के समय जब भगवान् ने कच्छपरूप धारण किया था और उनकी पीठ पर बड़ा भारी मन्दराचल पर्वत मथानी …

Read moreकूर्म अवतार के रूप में क्या विष्णु भगवान् ने एक विशालकाय कछुए का रूप धारण किया था

भगवान् ऋषभदेव जी के अवतार की कहानी

the story of bhagwan rishabh dev ji

“निरन्तर सांसारिक विषय-भोगों की अभिलाषा करने के कारण अपने वास्तविक श्रेय से चिरकाल तक बेसुध हुई जीवात्माओं को जिन्होंने करूणावश …

Read moreभगवान् ऋषभदेव जी के अवतार की कहानी

पंचतन्त्र की कहानियाँ-अधिक बात करने वाले को पछताना पड़ता है, कभी-कभी जान से भी हाँथ धोना पड़ सकता है

अधिक बात करने वाले को पछताना पड़ता है

एक तालाब में एक कछुआ रहता था । कछुए को अधिक बात करने की आदत थी । वह जब तक …

Read moreपंचतन्त्र की कहानियाँ-अधिक बात करने वाले को पछताना पड़ता है, कभी-कभी जान से भी हाँथ धोना पड़ सकता है

पक्षिराज गरुड़ कौन हैं, उनकी उत्पत्ति कैसे हुई, सर्प और नाग जाति से उनका क्या सम्बन्ध था, क्या वो बिना अमृत पिए ही अजर और अमर हैं तथा क्या उन्होंने इंद्र को भी हरा कर भगवान विष्णु के वाहन की शोभा प्राप्त की

पक्षिराज गरुड़ कौन हैं, उनकी उत्पत्ति कैसे हुई, सर्प और नाग जाति से उनका क्या सम्बन्ध था, क्या वो बिना अमृत पिए ही अजर और अमर हैं तथा क्या उन्होंने इंद्र को भी हरा कर भगवान विष्णु के वाहन की शोभा प्राप्त की

जब महर्षि उग्रश्रवा, शौनक आदि ऋषियों को महाभारत की कथा सुना रहे थे तो उसी समय सर्प जाति और भगवान् …

Read moreपक्षिराज गरुड़ कौन हैं, उनकी उत्पत्ति कैसे हुई, सर्प और नाग जाति से उनका क्या सम्बन्ध था, क्या वो बिना अमृत पिए ही अजर और अमर हैं तथा क्या उन्होंने इंद्र को भी हरा कर भगवान विष्णु के वाहन की शोभा प्राप्त की