सिंघासन बत्तीसी की पांचवी पुतली लीलावती ने विक्रमादित्य के प्रजापालन व दानवीरता की कथा सुनायी

सिंघासन बत्तीसी की पांचवी पुतली लीलावती

विक्रमादित्य के स्वर्ण सिंहासन को प्राप्त करने के बाद, पांचवें दिन राजा भोज का रास्ता रोकने वाली लीलावती थी, जो …

Read moreसिंघासन बत्तीसी की पांचवी पुतली लीलावती ने विक्रमादित्य के प्रजापालन व दानवीरता की कथा सुनायी

जब देवराज इंद्र का मान रखने के लिए विक्रमादित्य, अंतरिक्ष में भगवान् सूर्य के निकट गये, सिंहासन बत्तीसी की चौथी कहानी

जब देवराज इंद्र का मान रखने के लिए विक्रमादित्य, अंतरिक्ष में भगवान् सूर्य के निकट गये, सिंहासन बत्तीसी की चौथी कहानी

चौथे दिन फिर राजा भोज, सम्राट विक्रमादित्य के स्वर्ण सिंहासन पर विराजमान होने के लिए बढे, तो उनका रास्ता सिंहासन …

Read moreजब देवराज इंद्र का मान रखने के लिए विक्रमादित्य, अंतरिक्ष में भगवान् सूर्य के निकट गये, सिंहासन बत्तीसी की चौथी कहानी

सिंघासन बत्तीसी की दूसरी पुतली चित्रलेखा ने राजा भोज को विक्रम और बेताल की कथा सुनायी

सिंघासन बत्तीसी की दूसरी पुतली चित्रलेखा ने राजा भोज

जमीन की खुदाई से निकले विक्रमादित्य के स्वर्ण सिंहासन की दूसरी पुतली ने राजा भोज को विक्रम और बेताल की …

Read moreसिंघासन बत्तीसी की दूसरी पुतली चित्रलेखा ने राजा भोज को विक्रम और बेताल की कथा सुनायी

सिंघासन बत्तीसी की पहली पुतली रत्नमंजरी द्वारा कही गयी, सम्राट विक्रमादित्य के जन्म, शंख से युद्ध तथा स्वर्ण सिंहासन प्राप्त होने की कथा

सिंघासन बत्तीसी की पहली पुतली रत्नमंजरी

अपने राज्य में खुदाई द्वारा प्राप्त हुए उस अद्भुत, दिव्य राज सिंहासन पर आरूढ़ होने के लिए राजा भोज जैसे …

Read moreसिंघासन बत्तीसी की पहली पुतली रत्नमंजरी द्वारा कही गयी, सम्राट विक्रमादित्य के जन्म, शंख से युद्ध तथा स्वर्ण सिंहासन प्राप्त होने की कथा

क्या महर्षि च्यवन के पौत्र ऋषि रुरु ने अपनी आधी आयु, अपनी मृत पत्नी को दे कर उसे जीवित किया था और क्या रुरु ने ही अपनी, सर्पों के विनाश की प्रतिज्ञा के चलते महर्षि सहस्त्रपाद को सर्पयोनी से मुक्त किया था

क्या महर्षि च्यवन के पुत्र ऋषि रुरु ने अपनी आधी आयु

उग्रश्रवा जी कहते है “ब्रह्मन् ! भृगु पुत्र च्यवन ने अपनी पत्नी सुकन्या के गर्भ से एक पुत्र को जन्म …

Read moreक्या महर्षि च्यवन के पौत्र ऋषि रुरु ने अपनी आधी आयु, अपनी मृत पत्नी को दे कर उसे जीवित किया था और क्या रुरु ने ही अपनी, सर्पों के विनाश की प्रतिज्ञा के चलते महर्षि सहस्त्रपाद को सर्पयोनी से मुक्त किया था

जब मयासुर दैत्य द्वारा रचित दिव्य, अद्भुत त्रिपुरों के नाश के लिए भगवान शिव ने योद्धा का रूप धारण किया और उनके रथ के सारथी बने भगवान ब्रह्मा जी

जब मयासुर दैत्य द्वारा रचित दिव्य, अद्भुत त्रिपुरों के नाश के लिए भगवान शिव ने योद्धा का रूप धारण किया

एक बार दुर्योधन ने कर्ण के विषय में समझते हुए राजा शल्य से कहा “महाराज शल्य ! पूर्वकाल में महर्षि …

Read moreजब मयासुर दैत्य द्वारा रचित दिव्य, अद्भुत त्रिपुरों के नाश के लिए भगवान शिव ने योद्धा का रूप धारण किया और उनके रथ के सारथी बने भगवान ब्रह्मा जी

पंचतन्त्र की कहानियां-घमण्डी सौबुद्धि और सहस्त्रबुद्धि मछलियों के घमंड और मूर्खता की वजह से बेचारी मछलियों को अपनी जान से हाँथ धोना पड़ा

पंचतन्त्र की कहानियां-घमण्डी सौबुद्धि और सहस्त्रबुद्धि

एक सरोवर में बहुत-सी छोटी-छोटी मछलियां रहती थीं । उन मछलियों में दो मछलियां ऐसी थीं, जिनमें एक का नाम …

Read moreपंचतन्त्र की कहानियां-घमण्डी सौबुद्धि और सहस्त्रबुद्धि मछलियों के घमंड और मूर्खता की वजह से बेचारी मछलियों को अपनी जान से हाँथ धोना पड़ा

पंचतंत्र की कहानियां-जंगल के हंस की बुद्धिमानी

एक जंगल में एक बहुत बड़ा सधन वृक्ष था । वृक्ष में बड़ी-बड़ी डालियां और शाखाएं थीं | पत्ते भी …

Read moreपंचतंत्र की कहानियां-जंगल के हंस की बुद्धिमानी

पंचतन्त्र की कहानियां-शेरनी का तीसरा पुत्र सियार का बेटा

पंचतन्त्र की कहानियां-शेरनी का तीसरा पुत्र सियार का बेटा

एक वन में एक शेर अपनी शेरनी के साथ रहता था । दोनों में परस्पर बड़ा प्रेम था । दोनों …

Read moreपंचतन्त्र की कहानियां-शेरनी का तीसरा पुत्र सियार का बेटा