पक्षिराज गरुड़ कौन हैं, उनकी उत्पत्ति कैसे हुई, सर्प और नाग जाति से उनका क्या सम्बन्ध था, क्या वो बिना अमृत पिए ही अजर और अमर हैं तथा क्या उन्होंने इंद्र को भी हरा कर भगवान विष्णु के वाहन की शोभा प्राप्त की

पक्षिराज गरुड़ कौन हैं, उनकी उत्पत्ति कैसे हुई, सर्प और नाग जाति से उनका क्या सम्बन्ध था, क्या वो बिना अमृत पिए ही अजर और अमर हैं तथा क्या उन्होंने इंद्र को भी हरा कर भगवान विष्णु के वाहन की शोभा प्राप्त की

जब महर्षि उग्रश्रवा, शौनक आदि ऋषियों को महाभारत की कथा सुना रहे थे तो उसी समय सर्प जाति और भगवान् …

Read moreपक्षिराज गरुड़ कौन हैं, उनकी उत्पत्ति कैसे हुई, सर्प और नाग जाति से उनका क्या सम्बन्ध था, क्या वो बिना अमृत पिए ही अजर और अमर हैं तथा क्या उन्होंने इंद्र को भी हरा कर भगवान विष्णु के वाहन की शोभा प्राप्त की

समुद्र मंथन से आयुर्वेद के जनक धन्वतरि कैसे प्रकट हुए, क्या वो भगवान् विष्णु के अवतार थे

समुद्र मंथन से आयुर्वेद के जनक धन्वतरि कैसे प्रकट हुए, क्या वो भगवान् विष्णु के अवतार थे

पौराणिक ग्रंथों में ईश्वर के धन्वन्तरी अवतार के विषय में आया है “असुरों के द्वारा पीड़ित होने से जो दुर्बल …

Read moreसमुद्र मंथन से आयुर्वेद के जनक धन्वतरि कैसे प्रकट हुए, क्या वो भगवान् विष्णु के अवतार थे

दत्तात्रेय जी कौन हैं, क्या दत्तात्रेय, सोम और दुर्वासा ऋषि, ब्रह्मा विष्णु और महेश के अवतार हैं

दत्तात्रेय जी कौन हैं, क्या दत्तात्रेय, सोम और दुर्वासा ऋषि, ब्रह्मा विष्णु और महेश की अवतार हैं

इस जगत में जो अज्ञान रुपी अन्धकार को दूर कर हृदय में ज्ञान का प्रकाश फैलाते हैं, उन्हें ‘गुरू’ कहते …

Read moreदत्तात्रेय जी कौन हैं, क्या दत्तात्रेय, सोम और दुर्वासा ऋषि, ब्रह्मा विष्णु और महेश के अवतार हैं

यज्ञ क्या है, हिन्दू धर्म में यज्ञ का इतना महत्व क्यों है

यज्ञ क्या है, हिन्दू धर्म में यज्ञ का इतना महत्व क्यों है

यज्ञ क्या हैं ? यह बात अगर आप आज किसी, हिन्दू धर्म को मानने वाले सामान्य व्यक्ति से पूछेंगे तो …

Read moreयज्ञ क्या है, हिन्दू धर्म में यज्ञ का इतना महत्व क्यों है

ध्रुव कौन थे, भगवान श्री हरी विष्णु की उन पर कृपा कैसे हुई, और अंत समय में उन्होंने पृथ्वी से ब्रह्माण्ड के केंद्र तक की दूरी कैसे तय की

ध्रुव कौन थे, भगवान श्री हरी विष्णु की उन पर कृपा कैसे हुई

ब्रह्मा जी के पुत्र स्वायम्भुव मनु और शतरूपा के अत्यन्त प्रतापी पुत्र उत्तानपाद की दो पत्नियाँ थीं । उनमें से …

Read moreध्रुव कौन थे, भगवान श्री हरी विष्णु की उन पर कृपा कैसे हुई, और अंत समय में उन्होंने पृथ्वी से ब्रह्माण्ड के केंद्र तक की दूरी कैसे तय की

भगवान शिव के सद्योजात, वाम देव, तत्पुरूष, अघोर और ईशान अवतार

भगवान शिव के सद्योजात, वाम देव, तत्पुरूष, अघोर और ईशान अवतार

इस सृष्टि में जो परमानन्दमय हैं, जिनकी लीलाएं अनंत हैं, जो ईश्वरों के भी ईश्वर, सर्व व्यापक, महान गौरी के …

Read moreभगवान शिव के सद्योजात, वाम देव, तत्पुरूष, अघोर और ईशान अवतार

भगवान शंकर के ‘गृहपति’ नामक अग्न्यवतार की कथा

भगवान शंकर के ‘गृहपति’ नामक अग्न्यवतार की कथा

बहुत प्राचीन काल की बात है, नर्मदा नदी के रमणीय तट पर अवस्थित नर्मपुर नामक नगर में विश्वानर नाम के …

Read moreभगवान शंकर के ‘गृहपति’ नामक अग्न्यवतार की कथा