प्राचीन वाइकिंग्स द्वारा प्रयोग किया जाने वाला जादुई सूर्य रत्न क्या एक कल्पना थी या वास्तविकता ?


vikings sunstoneवाइकिंग्स (Vikings), स्कैंडिनेविया (Scandinavia) के समुद्री लुटेरे, कौन नहीं जानता इन्हें | प्राचीन अभिलेख हों या आधुनिक जगत की फिल्मे हर जगह आपको इनसे सम्बंधित तथ्य मिल जायेंगे |

लेकिन वाइकिंग्स पर बनने वाली आधुनिक फिल्मो को मिलने वाली सफलता इस ओर भी इशारा करती हैं कि तथ्यों में निहित यथार्थ, सम्मोहक रहस्यों की कल्पना में कहीं गुम हो गए हैं | लेकिन ये कल्पनायें भी उस पथ को जन्म देती हैं जिस पर चल कर यथार्थ को पाया जा सकता है |

उत्तरी समुद्र से लेकर अटलांटिक महासागर के यूरोपियन तट तक, हर कहीं इन वाइकिंग्स की समुद्री यात्रायें होती थी | इनसे सम्बंधित कई सारे मिथकों में से एक मिथक उस जादुई सूर्य रत्न से सम्बंधित है जिसके बारे में कहा जाता था कि यह अन्तरिक्ष में सूर्य का स्थान तब भी बताता था जब आकाश पूरी तरह से बादलों से घिरा हो और समंदर में दिशा-भ्रम की स्थिति बनी हुई हो |

यहाँ तक कि सूर्यास्त के बाद भी यह सूर्य की स्थिति और उससे सम्बंधित कई जानकारियाँ बताता था | उत्तरी यूरोप के कई देशों की पारंपरिक कथायें आज भी उस सूर्यमणि का ज़िक्र करती हैं जिससे अन्तरिक्षीय हलचल की कई रहस्यमय जानकारियाँ प्रगट होती थीं |

सदियों तक इस मिथक को सिर्फ प्राचीन कथायें ही पालती-पोसती रहीं | लेकिन 2010 में जब, चैनल द्वीप समूह (Channel Islands) के समुद्र तट के पास, एक प्राचीन डूबे हुए जहाज के मलबे में, एक अदभुत स्फटिक मणि मिला तो उस पर शोध करने वाले वैज्ञानिको का माथा ठनका |

उन्हें उसमे एक अनोखी क्षमता का आभास हो रहा था लेकिन सार्वजनिक रूप से कुछ भी कहने से पहले वे प्रयोगों द्वारा पूरी तरह आश्वस्त हो लेना चाह रहे थे |

तीन वर्षों के गहन शोध के पश्चात् वैज्ञानिकों ने घोषणा की, कि यह स्फटिक चूनापत्थर के ही एक अज्ञात खनिज से बना हुआ था जिसमे नौपरिवहन के दिशासूचक सम्बन्धी कार्यों में प्रयोग हो पाने की अद्भुत क्षमता थी | उन शोधकर्ताओं के अनुसार ऐसा उस दिव्य स्फटिक के, दोहरे अपवर्तन की असामान्य क्षमता के कारण हो पा रहा था |

वह स्फटिक अपने दोहरे अपवर्तन की क्षमता की वजह से, कोहरे या धुंध होने पर तथा बादलों की उपस्थिति में भी सूर्य की अचूक स्थिति बताता था | अभी हाल ही में हंगरी के एक विश्वविद्यालय (Eötvös Loránd University) ने यह जानने के लिए कि वह ‘सूर्य-मणि’ नौपरिवहन में कितना अचूक था, एक दिलचस्प प्रयोग किया |

उन्होंने आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस का प्रयोग करते हुए, नोर्वे से ग्रीनलैंड के बीच प्राचीन काल की लगभग 1000 यात्राओं के, (अलग-अलग बदली की परिस्थितियों में), उनके परिणामों के साथ, आंकड़ो को कंप्यूटर में एक मॉडल बना कर चलाया |

उन्होंने इसे (इस कंप्यूटर मॉडल को) सूर्य के उत्तरायण और दक्षिणायन में होने के दौरान, किन्ही दो दिनों के बीच कई बार चलाया और परिणाम चौकाने वाले थे | उन्होंने पाया कि अगर इन यात्राओं के दौरान इस सूर्य-मणि को हर तीन घंटे बाद प्रयोग किया गया होगा तो उसकी सफलता के परिणाम लगभग नब्बे प्रतिशत से सौ प्रतिशत के बीच रहे होंगे |

ये शोध परिणाम यह बताने के लिए पर्याप्त हैं कि क्यों सैकड़ों सालों तक इन जल दस्युओं ने अटलांटिक महासागर में राज किया और किस प्रकार वे बिना किसी चुम्बकीय दिक्सूचक यंत्र के, उत्तरी अमेरिका पहुंचे होंगे |

शोधकर्ताओं का मानना है कि वाइकिंग्स (स्कैंडिनेवियाई जलदस्यु) उस जादुई सूर्यमणि के साथ-साथ एक दिक्सूचक यंत्र (या एक प्रकार की सूर्य घड़ी) का भी प्रयोग करते रहे होंगे जो उन्हें घोर रात्रि में भी दिशा का भान कराती होगी |

शोधकर्ताओं के इस मान्यता के पीछे वो लकड़ी का टुकड़ा है जो 1948 में ऊनार्तोक (Uunortoq), ग्रीनलैंड में मिला था | दिखने में यह ऐसा था मानो किसी दिशा-सूचक यंत्र या सूर्य घड़ी का हिस्सा हो |

ऊनार्तोक (Uunortoq), ग्रीनलैंड में वो जगह है जिसे दसवीं शताब्दी में स्कैंडिनेवियाई किसानों ने ही बसाया था | पहली बार जब वो लकड़ी का टुकड़ा अचानक मिला तो उसे स्कैंडिनेवियाई किसानों के घरों में प्रयोग होने वाले सजावटी सामान का हिस्सा समझा गया लेकिन जब उसपर बारीक़ छोटी-छोटी रेखाएं खिंची हुई दिखाई दीं तो समझा गया कि यह किसी दिशा सूचक यंत्र का हिस्सा रहा होगा |

इन्ही स्कैंडिनेवियाई जलदस्युओं द्वारा प्रयुक्त होने वाले दिशा सूचक यंत्र और तथाकथित रहस्यमयी सूर्य मणि के ऊपर कुछ टेलीविज़न चैनल्स ने, कुछ समय पहले, अपना प्रोग्राम भी दिखाया था |

अटलांटिक महासागर वैसे भी अपने अन्दर गहरे रहस्यों को समाये हुए है, चाहे वो स्कैंडिनेवियाई जलदस्युओं का रहस्य हो अटलांटिस सभ्यता का | कभी-कभी ये रहस्य अचानक, समंदर की गहराई से उसकी सतह पर प्रकट होते हैं और कभी-कभी उन्ही गहराइयों में समा जाते हैं (शायद हमेशा के लिए) | रह जाती हैं सिर्फ़ कहानियाँ….सुनाने के लिए !

रहस्यमय के अन्य आर्टिकल्स पढ़ने के लिए कृपया निम्नलिखित लिंक्स पर क्लिक करें

मिनोआन सभ्यता का रहस्यमय चक्र जो अभी तक अनसुलझा है

ब्रह्माण्ड के चौदह भुवन, स्वर्ग और नर्क आदि अन्यान्य लोकों का वर्णन

मार्क ट्वेन के भयावह सपने का रहस्य

भूत, प्रेत, जिन्हें अपने जीवित होने पर पूर्ण विश्वास था

भारतीय पौराणिक ग्रंथों में विभिन्न लोकों के कालान्तर का वर्णन

एलियंस की पहेली

पौराणिक ग्रंथों में ब्रह्माण्ड की विभिन सृष्टियों की उत्पत्ति का मनोरम वर्णन

रहस्यमयी षन्मुखी मुद्रा के, योग साधना में चमत्कार

भूत, प्रेतों, पिशाचों की रहस्यमय दुनिया इसी जगत में है

क्या वो प्रेतात्मा थी





Aliens Planet

एलियन, एवं उनके दिव्य सूक्ष्म संसार का रहस्य

एलियन, उनके सूक्ष्म संसार एवं पृथ्वी की दुनिया में उनका हस्तक्षेप आदि कुछ ऐसे विषय है जिनमे आज के ब्रह्माण्ड वैज्ञानिकों की सर्वाधिक रूचि है […]

एलियंस श्वेत द्वीप रहस्यमय

एलियंस की पहेली

स्वर्ग और नर्क समेत अन्यान्य लोकों की अवधारणा दुनिया के कई धर्मों में हैं | इसी अवधारणा ने आज के समय में, परग्रही एलियंस एवं […]

aliens-RAHASYAMAYA

क्या अमेरिकी वैज्ञानिक पूरा सच बोल रहें हैं बरमूडा ट्राएंगल के बारे में

लम्बे समय से ब्रह्मांड सम्बंधित सभी पहलुओं पर रिसर्च करने वाले, कुछ शोधकर्ताओं के निजी विचार- अमेरिकी वैज्ञानिकों की यह थ्योरी जिसे आजकल मीडिया द्वारा […]

aliens-RAHASYAMAYA

Are American Scientists telling the complete truth about Bermuda Triangle ?

(This article is English version of published article titled – ” क्या अमेरिकी वैज्ञानिक पूरा सच बोल रहें हैं बरमूडा ट्राएंगल के बारे में”)- Personal […]

Real Aliens-Rahasyamaya

How aliens move and how they disappear all of sudden

Continued from The Part – 1)……Part 2 – To begin with, we need to know that ghosts are not Aliens. Ghosts are lower level species […]

roman-empire-Rahasyamaya

रोमन साम्राज्य के रहस्यमय राशिचक्रीय यंत्र

किसी समय रोमन साम्राज्य दुनिया के सबसे शक्तिशाली राज्यों में से एक हुआ करता था | दुनिया के उन सभी क्षेत्रों में, जो कभी रोमन […]

Gray Alien-Rahasyamaya

कुछ वास्तविकता ऐन्शिएंट एलियन्स थ्योरी की

दुनिया भर में और भारत में लाखो लोग ये मानते हैं कि अतीत में और अब भी दूसरे ग्रहों एवं लोकों से प्राणी हमारे ग्रह […]

Real Aliens-Rahasyamaya

एलियन्स कैसे घूमते और अचानक गायब हो जाते हैं

(भाग -1 से आगे)………..भाग -2 – सबसे पहली बात की भूत प्रेत एलियन नहीं होते हैं ! भूत प्रेत, मानवों से निचले स्तर की प्रजातियाँ […]

Hitler's Alien Relationship-Rahasyamaya

तो क्या हिटलर के रहस्यमय एलियंस से सम्बन्ध थे

प्रथम विश्व युद्ध की समाप्ति पर जर्मनी को मित्र राष्ट्रों के साथ बहुत ही अपमानजनक संधियों पर हस्ताक्षर करने पड़े थे | दस्तावेज़ बताते हैं […]

Alien UFO-Rahasyamaya

जानिये कौन हैं एलियन और क्या हैं उनकी विशेषताएं

(भाग- 1) – ब्रह्माण्ड के आकार को लेकर बड़ा मतभेद बना हुआ है ! अलग अलग वैज्ञानिक अलग अलग तर्क पिछले कई साल से देते […]