धरती के प्रथम सम्राट पृथु कौन थे, वो और उनकी पत्नी अर्चि की उत्पत्ति कैसे हुई थी, क्या उन्ही के नाम पर धरती का नाम पृथ्वी पड़ा

सम्राट पृथु द्वारा पृथ्वी को आतंकित करना

ब्रह्माण्ड के प्रथम मनु यानि स्वायम्भुव मनु के वंश में अंग नामक प्रजापति का विवाह मृत्यु की मानसिक पुत्री सुनीथा …

Read moreधरती के प्रथम सम्राट पृथु कौन थे, वो और उनकी पत्नी अर्चि की उत्पत्ति कैसे हुई थी, क्या उन्ही के नाम पर धरती का नाम पृथ्वी पड़ा

विक्रम बेताल की कहानियां, स्त्री को अपमानित करने का पाप किसको लगा

विक्रम बेताल की कहानियां, स्त्री को अपमानित करने का पाप किसको लगा

मार्ग में कथा सुनाने के लिए विक्रम की अनुमति मिलने के बाद बेताल ने कथा सुनाना प्रारंभ किया | किसी …

Read moreविक्रम बेताल की कहानियां, स्त्री को अपमानित करने का पाप किसको लगा

राजा विक्रमादित्य के स्वर्ण सिंहासन का क्या हुआ, सिंहासन बत्तीसी की अंतिम कथा

राजा विक्रमादित्य के स्वर्ण सिंहासन का क्या हुआ, सिंहासन बत्तीसी की अंतिम कथा

राजा विक्रमादित्य के स्वर्ण सिंहासन की अंतिम यानी बत्तीसवीं पुतली का नाम था रानी रूपवती | बत्तीसवें दिन जब रानी …

Read moreराजा विक्रमादित्य के स्वर्ण सिंहासन का क्या हुआ, सिंहासन बत्तीसी की अंतिम कथा

राजा विक्रमादित्य की मृत्यु कैसे हुई, उनकी मृत्यु के बाद उनके स्वर्ण सिंहासन का क्या हुआ, क्या वह आज भी धरती के अन्दर दबा हुआ है

राजा विक्रमादित्य की मृत्यु कैसे हुई, उनकी मृत्यु के बाद उनके स्वर्ण सिंहासन का क्या हुआ

इकत्तिस्वें दिन राजा भोज जब स्वर्ण सिंहासन की तरफ बढ़े तो उनके क़दमों को इकत्तीसवीं पुतली कौशल्या ने रोक लिया …

Read moreराजा विक्रमादित्य की मृत्यु कैसे हुई, उनकी मृत्यु के बाद उनके स्वर्ण सिंहासन का क्या हुआ, क्या वह आज भी धरती के अन्दर दबा हुआ है

जब विक्रमादित्य ने राजकुमार को उसका राज्य वापस दिलाने के लिए शत्रुओं से पैशाचिक युद्ध किया

जब विक्रमादित्य ने राजकुमार को उसका राज्य वापस दिलाने के लिए शत्रुओं से पैशाचिक युद्ध किया

जयलक्ष्मी तीसवीं पुतली थी जिसने राजा भोज का रास्ता रोका था | जयलक्ष्मी ने राजा भोज को, सम्राट विक्रमादित्य की …

Read moreजब विक्रमादित्य ने राजकुमार को उसका राज्य वापस दिलाने के लिए शत्रुओं से पैशाचिक युद्ध किया

राजा विक्रमादित्य की बहन के विवाह की कथा

राजा विक्रमादित्य की बहन के विवाह की कथा

सिंहासन बत्तीसी की उन्तीसवीं पुतली मानवती ने राजा भोज को बताया कि राजा विक्रमादित्य वेश बदलकर रात में, अपने राज्य …

Read moreराजा विक्रमादित्य की बहन के विवाह की कथा

जब देवताओं ने विक्रमादित्य को सपने में स्वर्ग आने का निमंत्रण भेजा और उन्होंने स्वर्ग तक की यात्रा की

जब देवताओं ने विक्रमादित्य को सपने स्वर्ग आने का निमंत्रण भेजा और उन्होंने स्वर्ग तक की यात्रा की

स्वर्ण सिंहासन की अट्ठाईसवीं पुतली का नाम वैदेही था और उसने राजा भोज को आगे बढ़ने से रोक कर उनसे …

Read moreजब देवताओं ने विक्रमादित्य को सपने में स्वर्ग आने का निमंत्रण भेजा और उन्होंने स्वर्ग तक की यात्रा की

राजा विक्रमादित्य ने दानवीर राजा बलि से पाताल लोक में मिलने के लिए भगवान विष्णु को, कठोर तपस्या करके प्रसन्न किया

राजा विक्रमादित्य ने दानवीर राजा बलि से पाताल लोक में मिलने के लिए भगवान विष्णु को

राजा भोज, स्वर्ण सिंहासन की सत्ताईसवीं पुतली, मलयवती को देख कर मुग्ध हुए जा रहे थे | जीवंत होने के …

Read moreराजा विक्रमादित्य ने दानवीर राजा बलि से पाताल लोक में मिलने के लिए भगवान विष्णु को, कठोर तपस्या करके प्रसन्न किया

जब विक्रमादित्य ने अपने राज्य के निर्धन ब्राहमण तथा भाट को पुत्रियों के विवाह के लिए राजकीय सहायता देने में न्याय किया

जब विक्रमादित्य ने अपने राज्य के निर्धन ब्राहमण तथा भाट को पुत्रियों के विवाह के लिए राजकीय सहायता देने में न्याय किया

खुदायी में प्राप्त सम्राट विक्रमादित्य के स्वर्ण सिंहासन की पचीसवी पुतली त्रिनेत्री ने राजा भोज को एक बार फिर रोक दिया …

Read moreजब विक्रमादित्य ने अपने राज्य के निर्धन ब्राहमण तथा भाट को पुत्रियों के विवाह के लिए राजकीय सहायता देने में न्याय किया