कौरव पाण्डव जिस कुरु वंश में जन्मे थे उसके प्रवर्तक सम्राट कुरु कौन थे, क्या उनके नाना भगवान सूर्य थे

कौरव पाण्डव जिस कुरु वंश में जन्मे थे उसके प्रवर्तक सम्राट कुरु कौन थे

जन्मेजय को महाभारत कथा सुनाते हुए वैशम्पायन जी कहते हैं “जनमेजय ! गन्धर्व के मुख से ‘तपतीनन्दन’ सम्बोधन सुनकर अर्जुन ने कहा, “गन्धर्वराज ! हम लोग तो कुन्ती के पुत्र हैं । फिर तुमने तपतीनन्दन क्यों कहा ? यह तपती …

Read more

अर्जुन का धर्मराज युधिष्ठिर से क्षमा माँगना तथा उनके सामने कर्ण के वध की प्रतिज्ञा करना

अर्जुन का धर्मराज युधिष्ठिर के सामने कर्ण के वध की प्रतिज्ञा करना

महाभारत युद्ध के बीच जब श्री कृष्ण के समझाने पर अर्जुन ने धर्मराज युधिष्ठिर का अपमान कर दिया तो युधिष्ठिर अत्यंत दुखी हो कर वन को जाने लगे तब श्री कृष्ण ने उन्हें रोक लिया और अर्जुन की प्रतिज्ञा और …

Read more

महाभारत युद्ध के बीच में कर्ण और शल्य के बीच हुए वाकयुद्ध का क्या परिणाम निकला

महाभारत युद्ध के बीच में कर्ण और शल्य के बीच हुए वाकयुद्ध का क्या परिणाम निकला

कुरुक्षेत्र के मैदान में होने वाले महाभारत के युद्ध से अत्यंत दूर बैठे संजय ने धृतराष्ट्र से कहा “महाराज ! जब महान् धनुर्धर कर्ण युद्ध के लिये तैयार हो गया तो उसे देखकर समस्त कौरव वीर हर्षध्वनि करने लगे । …

Read more

द्रोणाचार्य ने अर्जुन को कौन से अमोघ शक्ति दी, उसका क्या नाम था और क्या-क्या क्षमतायें थी

द्रोणाचार्य ने अर्जुन को कौन से अमोघ शक्ति दी

महाभारत काल में जब द्रोणाचार्यन अर्जुन, भीम, युधिष्ठिर आदि पांडवों तथा दुर्योधन आदि कौरवों को अस्त्र और शस्त्र शिक्षा दे रहे थे तो उनमे में से उन्हें अर्जुन सबसे मेधावी लगे | अर्जुन गुरु द्रोणाचार्य के प्रिय शिष्य थे | …

Read more

रंगमण्डप में अर्जुन ने विचित्र और मायावी हथियारों का प्रदर्शन किया, उसे कर्ण से महान चुनौती मिली और वंश को लेकर अन्य लोगों से अपमानित हुए कर्ण को दुर्योधन को अंगदेश का शासक बनाया

रंगमण्डप में अर्जुन ने विचित्र और मायावी हथियारों का प्रदर्शन किया

परीक्षित नंदन जन्मेजय को महाभारत कथा सुनाते हुए वैशम्पायन जी कहते हैं “जनमेजय ! द्रोणाचार्य ने राजकुमारों को अस्त्रविद्या में निपुण देखकर कृपाचार्य, सोमदत्त, बाह्रीक, भीष्म, व्यास और विदुर आदि के सामने धृतराष्ट्र से कहा, ‘राजन् ! सभी राजकुमार सब …

Read more

पाण्डवों के प्रति धृतराष्ट्र के मन में जहर किसने भरा, किसने उनकी बुद्धि भ्रष्ट की, क्या वो शकुनी नहीं कोई और था

पाण्डवों के प्रति धृतराष्ट्र के मन में जहर किसने भरा, किसने उनकी बुद्धि भ्रष्ट की

परीक्षित के पुत्र जन्मेजय को महाभारत की कथा सुनते हुए वैशम्पायन जी कहते हैं “जनमेजय ! द्रुपद को जीत लेने के एक वर्ष बाद राजा धृतराष्ट्र ने पाण्डु नन्दन युधिष्ठिर को युवराज पद पर अभिषिक्त कर दिया । एक तो …

Read more

क्या श्रीकृष्ण के कहने पर अर्जुन ने युधिष्ठिर का घोर अपमान किया था और अपना गुणगान किया था तथा बाद में श्रीकृष्ण और अर्जुन दोनों ने युधिष्ठिर से क्षमा मांगी थी

क्या श्रीकृष्ण के कहने पर अर्जुन ने युधिष्ठिर का घोर अपमान किया था

महाभारत युद्ध के दौरान जब अर्जुन द्वारा कर्ण का वध न किये जाने पर, युधिष्ठिर ने अर्जुन को धिक्कारा और उनके गांडीव को धिक्कारा तथा उन्हें अपना गाण्डीव किसी अन्य योद्धा को सौंप देने को कहा तो अर्जुन अत्यंत क्रोधित …

Read more

मद्र्राज शल्य को अपना सारथी बनाने के लिए अंगराज कर्ण और दुर्योधन ने अथक परिश्रम किया

मद्र्राज शल्य को अपना सारथी बनाने के लिए अंगराज कर्ण और दुर्योधन

राजा शल्य को समझाते हुए दुर्योधन ने कहा “वीरवर ! सारथि तो रथी से भी बढ़कर होना चाहिये । इसलिये आप संग्राम भूमि में कर्ण के घोड़ों का नियन्त्रण कीजिये । जिस प्रकार त्रिपुरों के नाश के लिये देवताओं ने …

Read more

महाभारत युद्ध के समाप्त होने पर अश्वत्थामा द्वारा पाण्डवों का कपट पूर्वक वध करने का विचार करना

महाभारत युद्ध के समाप्त होने पर अश्वत्थामा द्वारा पाण्डवों का कपट पूर्वक वध करने का विचार करना

महाभारत युद्ध समाप्त हो चुका था और भीमसेन ने दुर्योधन का बेरहमी से वध कर डाला था | तब अश्वत्थामा, कृपाचार्य और कृत वर्मा ये तीनों वीर दक्षिण की ओर चले और सूर्यास्त के समय शिविर के पास पहुँच गये …

Read more

क्या महाभारत में अर्जुन ने अपने ही बड़े भाई युधिष्ठिर का वध करने के लिए तलवार उठा ली थी और फिर श्री कृष्ण ने युधिष्ठिर की जान बचायी थी

why-arjun-wanted-to-kill-yudhidtir

महाभारत युद्ध में जब कर्ण से पराजित, अपमानित और अत्यंत घायल हो कर युधिष्ठिर अपनी छावनी में लौट आये तो अर्जुन और श्रीकृष्ण उनका कुशल क्षेम जानने, बीच युद्ध से छावनी आये | उस समय कृष्ण और अर्जुन को अपने …

Read more