हिडिम्बासुर कौन था, क्या वो बलवान राक्षस पाण्डवों को खाने आया था, और भीमसेन ने उसका वध किस प्रकार किया

हिडिम्बासुर कौन था, क्या वो बलवान राक्षस पाण्डवों को खाने आया था

अपने वन गमन के दौरान जिस वन में युधिष्ठिर आदि सो रहे थे, उससे थोड़ी ही दूर पर एक शाल-वृक्ष था । उस पर हिडिम्बासुर बैठा हुआ था । वह बड़ा क्रूर, पराक्रमी एवं मांसभक्षी था । उसके शरीर का …

Read more

महाभारत में कर्ण वध के पश्चात् पूरे कौरव पक्ष में मरघट का सन्नाटा छा गया

कर्ण वध के पश्चात् पूरे कौरव पक्ष में मरघट का सन्नाटा छा गया

महाभारत में अर्जुन द्वारा अविश्वसनीय पराक्रम दिखते हुए, कर्ण का वध हो जाने के पश्चात् कौरव पक्ष में मरघट सा सन्नाटा था । समस्त कौरव सूतपुत्र के वध से दुःखी थे, अतः ‘हा कर्ण! हा कर्ण!!’ पुकारते हुए बड़ी तेजी …

Read more

कर्णवध के समाचार से प्रसन्न हुए युधिष्ठिर ने कृष्ण और अर्जुन की जमकर प्रशंसा की

महाभारत युद्ध के सत्रहवें दिन जब अर्जुन ने कर्ण का वध कर दिया तो कौरव सेना में हाहाकार मच गया | पूरी कौरव सेना छिन्न-भिन्न हो गयी | सब-के-सब उद्विग्न होकर भाग गये । अब उन्हें अपने जीवन और राज्य …

Read more

पाण्डवों के वारणावत के लिए निकल जाने पर क्या विदुर ने पहेलियों की भाषा में युधिष्ठिर को सब समझा दिया था कि क्या होने वाला है और उससे कैसे बचना है

पाण्डवों के वारणावत के लिए निकल जाने पर क्या विदुर ने पहेलियों की भाषा

दुष्ट दुर्योधन की योजना के अनुसार जब धृतराष्ट्र ने पाण्डवों को वारणावत जाने की आज्ञा दे दी, तब दुरात्मा दुर्योधन को बड़ी प्रसन्नता हुई | उसने अपने मन्त्री पुरोचन को एकान्त में बुलाया और उसका दाहिना हाथ पकड़कर कहा, “भाई …

Read more

विदुर की चतुराई भरी सहायता से पाण्डव अपनी माँ कुंती के साथ लाक्षाभवन से सकुशल निकलने में सफल हुए और घनघोर जंगल में पहुंचे

विदुर की चतुराई भरी सहायता से पाण्डव अपनी माँ कुंती के साथ लाक्षाभवन se

जलते हुए लाक्षागृह से सकुशल बच निकलने के पश्चात् पांडव और कुंती सुरंग द्वारा जंगल में गंगा किनारे निकले | उसी समय विदुर का भेजा हुआ एक विश्वासपात्र गुप्तचर पाण्डवों के पास आया । उसने पाण्डवों को विदुर का बतलाया …

Read more

दुर्योधन और धृतराष्ट्र ने छल से पाण्डवों और कुन्ती को वारणावत भेजा

दुर्योधन और धृतराष्ट्र ने छल से पाण्डवों और कुन्ती को वारणावत भेजा

जब दुर्योधन ने देखा कि भीमसेन की शक्ति असीम है और अर्जुन का अस्त्र-ज्ञान तथा अभ्यास विलक्षण है । उसका कलेजा जलने लगा । उसने कर्ण और शकुनि से मिलकर पाण्डवों को मारने के बहुत उपाय किये, परन्तु पाण्डव सबसे …

Read more

गुरु द्रोणाचार्य की आज्ञा से अर्जुन ने द्रुपद की नगरी में हाहाकार मचा दिया और द्रुपद को बंदी बनाकर द्रोणाचार्य के पास ले गए

गुरु द्रोणाचार्य की आज्ञा से अर्जुन ने द्रुपद की नगरी में हाहाकार मचा दिया

जब द्रोणाचार्य ने देखा कि सभी राजकुमार अस्त्रविद्या के अभ्यास में पूर्णतः निपुण हो चुके हैं, तब उन्होंने निश्चय किया कि अब गुरु दक्षिणा लेने का समय आ गया है । उन्होंने सब राजकुमारों को अपने पास बुलाकर कहा, “तुम …

Read more

भीमसेन ने बकासुर का वध क्यों और किस प्रकार किया, क्या उन्हें इसके लिए माता कुन्ती ने आज्ञा दी थी

भीमसेन ने बकासुर का वध क्यों और किस प्रकार किया, क्या उन्हें इसके लिए माता कुन्ती ने आज्ञा दी थी

वारणावत के बाद युधिष्ठिर आदि पाँचों भाई अपनी माता कुन्ती के साथ एकचक्रा नगरी में रहकर तरह-तरह के दृश्य देखते हुए विचरने लगे । वे भिक्षावृत्ति से अपना जीवन-निर्वाह करते थे । नगरनिवासी उनके गुणों से मुग्ध होकर उनसे बड़ा …

Read more

द्रुपद की पुत्री द्रौपदी के स्वयंवर का भव्य आयोजन, द्रुपद के मन में अर्जुन को अपना दामाद बनाने की प्रबल लालसा का होना

द्रुपद की पुत्री द्रौपदी के स्वयंवर का भव्य आयोजन

जब नर-रत्न पाण्डव अपनी माता के साथ राजा द्रुपद के श्रेष्ठ देश, उनकी पुत्री द्रौपदी और उसके स्वयंवर-महोत्सव को देखने के लिये रवाना हुए, तब उन्हें मार्ग में एक साथ ही बहुत-से ब्राह्मणों के दर्शन हुए । ब्राह्मणों ने पाण्डवों …

Read more

वेदव्यास जी के द्वारा समझाने पर द्रुपद का, द्रौपदी के साथ पाँचों पाण्डवों के विवाह का निर्णय

द्रौपदी के साथ पाँचों पाण्डवों के विवाह का निर्णय

धर्मराज युधिष्ठिर की बात सुनकर द्रुपद की आँखें प्रसन्नता से खिल उठीं । आनन्द मग्न हो जाने के कारण वे कुछ भी बोल न सके । द्रुपद ने ज्यों-त्यों करके अपने को सम्हाला और युधिष्ठिर से वारणावत नगर के लाक्षा-भवन …

Read more