व्यासजी द्वारा पांडवों को द्रौपदी के पूर्वजन्म के बारे में बताना

Draupadiपरीक्षित नंदन जन्मेजय को महाभारत की कथा सुनते हुए वैशम्पायन जी कहते हैं-जनमेजय ! द्रौपदी के जन्म की कथा और उसके स्वयंवर का समाचार सुनकर पाण्डवों का मन उसे देखने के लिए बेचैन हो गया । उनकी व्याकुलता और द्रौपदी के प्रति प्रेम देखकर कुन्ती ने कहा कि “बेटा ! हम लोग बहुत दिनों से इस ब्राह्मण के घर में आनन्द पूर्वक रह रहे हैं ।

अब यहाँ का सब कुछ हम लोग देख चुके, चलो न, तुम्हारी इच्छा हो तो पंचाल देश में चलें” । युधिष्ठिर ने कहा कि यदि सब भाइयों की सम्मति हो तो चलने में क्या आपत्ति है । सबने स्वीकृति दे दी । प्रस्थान की तैयारी हुई ।

उसी समय श्री कृष्ण द्वैपायन व्यास ऋषि पाण्डवों से मिलने के लिये एक चक्रा नगरी में आये । सब उनके चरणों में प्रणाम करके हाथ जोड़ खड़े हो गये । व्यास जी ने, एकान्त में पाण्डवो का किया सत्कार स्वीकार करके उनके धर्म, सदाचार, शास्त्राज्ञा-पालन, पूज्यपूजा, ब्राह्मण पूजा आदि के सम्बन्ध में पूछकर धर्मनीति और अर्थ नीति का उपदेश किया |

उन्हें चित्र-विचित्र लोकों की कथाएँ सुनायीं इसके बाद प्रसंगानुसार कहने लगे, “पाण्डवो ! बहुत पहले की बात है । एक बड़े महात्मा ऋषि की सुन्दरी और गुणवती कन्या थी । परंतु रूपवती, गुणवती और सदाचारिणी होने पर भी पूर्व जन्मों के बुरे कर्मो के फल स्वरूप किसी ने उसे पत्नी के रूप में स्वीकार नहीं किया । इससे दुःखी होकर वह तपस्या करने लगी ।

उसकी उग्र तपस्या से भगवान् शंकर सन्तुष्ट हुए । उन्होंने उसके सामने प्रकट होकर कहा, “तू मुंह मांगा वर माँग ले” । उस कन्या को भगवान् शंकर के दर्शन से और वर माँगने के लिये कहने से इतना हर्ष हुआ कि वह बारबार कहने लगी “मैं सर्व गुणयुक्त पति चाहती हूँ” । शंकर भगवान् ने कहा कि “तुझे पाँच भरतवंशी पति प्राप्त होंगे” ।

कन्या बोली, “मैं तो आपकी कृपा से एक ही पति चाहती हूँ” । भगवान् शंकर ने कहा, “तूने पति प्राप्त करने के लिये मुझसे पाँच बार प्रार्थना की है । मेरी बात अन्यथा नहीं हो सकती । दूसरे जन्म में तुझे पाँच ही पति प्राप्त होंगे” । पाण्डवो ! वही देव रूपिणी कन्या द्रुपद की यज्ञवेदी से प्रकट हुई है ।

तुम लोगों के लिये विधि-विधान के अनुसार वही सर्वांगसुन्दरी कन्या निश्चित है | तुम जाकर पांचालनगर में रहो । उसे पाकर तुम लोग सुखी होओगे” । इस प्रकार कहकर पाण्डवों की अनुमति से व्यासजी ने प्रस्थान किया । उनके जाने के पश्चात् पांडव भी धर्म-अधर्म की सोच विचार में पड़े हुए आगे की ओर प्रस्थान किये |