पाण्डवों के लाक्षागृह से सकुशल भाग निकलने की कथा


पाण्डवों के लाक्षागृह से सकुशल भाग निकलने की कथा पाँचों पांडव जब अपनी माँ के साथ वारणावत पहुंचे तो पाण्डवों के शुभागमन का समाचार सुनकर वारणावत के नागरिक शास्त्र-विधि के अनुसार मंगलमयी वस्तुओं की भेंट लेकर प्रसन्नता और उत्साह के साथ सवारियों पर चढ़कर उनकी अगवानी के लिये, उनके आगमन स्थल पर आये । उनके जय- जयकार और मंगल ध्वनि से समस्त दिशाएँ गूंज उठीं । पुरवासियों के बीच में युधिष्ठिर ऐसे जान पड़ते थे मानो स्वयं देवराज इन्द्र हो ।

स्वागत करने वालों का अभिनन्दन करके माता कुन्ती के साथ पाण्डवों ने वारणावत नगर में प्रवेश किया । उन्होंने पहले वेदपाठी, कर्मकाण्डी ब्राह्मणों से मिलकर फिर क्रमश: नगर के अधिकारी योद्धा, वैश्य और शूद्रों से भेंट की । सभी ने उन देवताओं के समान पाण्डवों का स्वागत किया |

दुर्योधन के मंत्री पुरोचन ने उनके लिये नियत वास स्थान पर आदर के साथ उन्हें ठहराया और भोजन, पलंग, आसन आदि सामग्रियों से उन्हें सन्तुष्ट करने की पूरी चेष्टा की । पाण्डव लोग सुख पूर्वक वहाँ रहने लगे । उनके निवास स्थान पर पुरवासियों की भीड़ प्रायः लगी ही रहती थी ।

इसी तरह से दस दिन बीत जाने पर पुरोचन ने पाण्डवों से उस सुन्दर नाम वाले किन्तु अमंगल भवन की चर्चा की । उसकी प्रेरणा से पाण्डव अपनी गृह सामग्रियों के साथ वहाँ जा कर उस भव्य महल (लाक्षाभवन) में रहने लगे ।

धर्मराज युधिष्ठिर ने उस घर को चारों ओर से देखकर भीमसेन से कहा, “भाई भीम ! देखते हो न? इस घर का एक-एक कोना आग भड़काने वाली सामग्रियों से ही बना है | घी, लाख और चर्बी की मिश्रित गन्ध से यही प्रमाणित होता है ।

शत्रु के कारीगरों ने बड़ी चतुराई से सन, सर्जरस (राल), मूंज, घास, बाँस आदि को घृत से तर करके इसका निर्माण किया है । निश्चय ही पुरोचन का विचार है कि जब हम लोग इसमें बेखटके रहने लगें तब वह आग लगाकर इसे जला दे । विदुर ने पहले ही यह बात ताड़ ली थी । तभी तो उन्होंने हमें स्नेहवश इसकी सूचना दे दी” । भीमसेन ने कहा, “भाई जी ! यदि ऐसी बात है तो हम लोग अपने पहले स्थान पर ही क्यों न लौट चलें” ?

युधिष्ठिर ने कहा, “भैया भीम ! हमें बड़ी सावधानी के साथ अपनी जानकारी छिपाकर यहीं रहना चाहिये | हमारे चेहरे-मोहरे या रंग-ढंग से किसी को शंका सन्देह न हो । हम लोग निकलने की घात ढूँढ़ लें । यदि हमारी भाव-भंगिमा से पुरोचन को पता चल गया तो वह बलपूर्वक भी हमें जला सकता है। उसे लोकनिन्दा अथवा अधर्म की परवाह नहीं रही अब ।

यदि हम मर ही गये तो फिर पितामह भीष्म तथा दूसरे लोग कौरवो पर किसलिये रुष्ट होंगे या उन्हें रुष्ट करेंगे? उस समय का क्रोध भी तो व्यर्थ ही जायगा । यदि हम डरकर यहाँ से भागेंगे तो दुर्योधन अपने गुप्तचरों से पता लगाकर हमें मरवा डालेगा । इस समय वह अधिकारी है । उसके पास सहायक और खजाना है । हमारे पास तीनों ही बातें नहीं हैं ।

आओ हम लोग यहाँ रह कर वन में खूब धूमें-फिरें, रास्तों का पता लगा कर रखें । सुरक्षित सुरंग बन जाने पर हम यहाँ से भाग निकलेंगे और किसी को कानोंकान इस बात की खबर भी नहीं हो पाएगी कि पाण्डव जीवित बच गये हैं” । भीमसेन ने बड़े भाई की बात मान ली और शांत हो गए | उधर एक सुरंग खोदने वाला विदुर का बड़ा विश्वासपात्र था । उसने पाण्डवों के पास आकर कहा, “मैं खुदाई के काम में बड़ा निपुण हूँ ।

महामना विदुर को आज्ञा से आपके पास आया हूँ । आप मुझ पर विश्वास कीजिये । विदुर ने संकेत के तौर पर मुझे बतलाया है कि ‘चलते समय मैंने युधिष्ठिर से म्लेच्छ-भाषा में कुछ कहा था और उन्होंने ‘मैंने आपकी बात भलीभाँति समझ ली है’ यह कहा था । पुरोचन जल्दी ही आग लगाने वाला है । मैं आपकी क्या सेवा करूँ”? युधिष्ठिर ने कहा “भैया ! मैं तुम पर पूरा विश्वास करता हूँ ।

हमारे जैसे हितचिन्तक विदुर हैं, वैसे ही तुम भी हो । हमें अपना ही समझो और जैसे वे हमारी रक्षा करते हैं, वैसे ही तुम भी करो । इस अग्नि के भय से तुम हमें बचा लो । इस घर में चारों ओर ऊँची दीवारें हैं, एक ही दरवाजा है” | तब सुरंग खोदने वाला कारीगर युधिष्ठिर को आश्वासन देकर खाई की सफाई करने के बहाने अपने काम पर डट गया ।

उसने उस घर के बीचो-बीच एक बड़ी भारी सुरंग बनायी और जमीन के बराबर ही किवाड़ लगा दिये । पुरोचन उस महल के दरवाजे पर ही सर्वदा रहता था । कहीं वह आकर देख न ले, इसलिये सुरंग का मुँह बिलकुल बन्द रखा गया ।

पाण्डव अपने साथ शस्त्र रखकर बड़ी सावधानी से उस महल में रात बिताते थे । दिन भर शिकार खेलने के बहाने जंगलों में घूमा करते । विश्वास न होने पर भी वे ऐसी ही चेष्टा करते मानो पूरे विश्वासी हैं । उस खोदने वाले कारीगर के अतिरिक्त पाण्डवों की इस स्थिति का पता किसी को नहीं था ।

पुरोचन ने देखा एक वर्ष के लगभग हो गया, और पाण्डव इसमें बड़े विश्वास से नि:शंक हो कर रह रहे हैं । उसे बड़ी प्रसन्नता हुई । उसकी प्रसन्नता देखकर युधिष्ठिर ने भाइयों से कहा, “पापी पुरोचन समझ रहा है कि ये ठग लिये गये । यह भुलावे में आ गया है । अतः अब यहाँ से निकल चलना चाहिये । शस्त्रागार और पुरोचन को भी जलाकर अलक्षित रूप से भाग निकलना चाहिये” ।

एक दिन कुन्ती ने दान देने के लिये ब्राह्मण-भोजन कराया । बहुत-सी स्त्रियाँ भी आयी थीं । जब सब खा पी कर चले गये, तब संयोगवश एक भील की स्त्री अपने पाँच पुत्रों के साथ वहाँ भोजन माँगने के लिये आयी । वे सब मदिरा पीकर पहले से ही मस्त थे, इसलिये चेतना शून्य होकर लाक्षाभवन में ही सो रहे । रात्रि के तीसरे प्रहर जब सब लोग सो चुके थे, उस समय आँधी चल रही थी, भयंकर अंधकार था ।

भीमसेन उस स्थान पर पहुँचे, जहाँ पुरोचन सो रहा था । भीमसेन ने पहले उस मकान के दरवाजे पर आग लगायी और फिर चारों तरफ आग भभका दी । बात-की-बात में विकराल लपटें उठने लगीं । पाँचों भाई अपनी माता के साथ सुरंग में घुस चले | जब अग्नि की असह्य गर्मी और उत्कट उजाला चारों ओर फैल गया और भवन के चटचटाने तथा गिरने से धाड़-धाड़ सी होने लगी, तब पुरवासी जगकर वहाँ दौड़े आये ।

उस घर की भयानक दुर्दशा देख कर सब कहने लगे कि “दुरात्मा दुर्योधन की प्रेरणा से पुरोचन ने यह जाल रचा होगा । हो-न हो, यह उसी की करतूत है | धृतराष्ट्र की इस स्वार्थपरता को धिक्कार है ! हाय हाय ! उन्होंने सीधे और सच्चे पाण्डवों को जलवाकर मार डाला ! पुरोचन को भी अच्छा फल मिला ! वह निर्दयी भी इसी में जलकर राख का ढेर हो गया । इस तरह वारणावत के नागरिक रोते-कलपते रात भर उस महल को घेरे रहे ।

पाण्डव माता कुन्ती को अपने साथ लिये सुरंग से बाहर एक वन में निकले । सब चाहते थे कि यहाँ से जल्दी भाग चलें, परन्तु नींद और डर के मारे सब लाचार थे | माता कुन्ती के कारण फुर्ती से चलना असम्भव हो रहा था । तब भीमसेन माता को कंधे पर और नकुल-सहदेव को गोद में बैठाकर युधिष्ठिर और अर्जुन को दोनों हाथों का सहारा देते जल्दी-जल्दी ले चले । उस समय भीमसेन बड़ी तेज गति से चलकर गंगाजी के तट पर पहुँच गये ।