नवरात्रि में करें, युद्ध में शत्रु पर विजय के लिए मंत्र साधना

नवरात्रि में करें, युद्ध में शत्रु पर विजय के लिए मंत्र साधना

महाभारत के समय कुरुक्षेत्र में जब भगवान श्री कृष्ण ने, भीषण हथियारों के साथ, महाभयंकर कौरव सेना को युद्ध के …

Read moreनवरात्रि में करें, युद्ध में शत्रु पर विजय के लिए मंत्र साधना

क्या हिमांचल क्षेत्र में कोई रहस्यमय अग्नि स्वरुप शक्ति है जो राक्षसों का संहार करती है

क्या हिमांचल क्षेत्र में कोई रहस्यमय अग्नि स्वरुप शक्ति है जो राक्षसों का संहार करती है

इस रहस्यमयी शक्ति का ज़िक्र पहली बार महाभारत में हुआ है | महाभारत में आई कथा के अनुसार एक बार …

Read moreक्या हिमांचल क्षेत्र में कोई रहस्यमय अग्नि स्वरुप शक्ति है जो राक्षसों का संहार करती है

भगवान् नरसिंह के अवतार, भक्त प्रह्लाद एवं हिरण्यकशिपु के वध की कहानी

bhakt prahlad

बहुत पुरानी बात है, उस समय सत्य युग चल रहा था | एक बार भगवन ब्रह्मा के मानस-पुत्र सनकादि, जिनकी …

Read moreभगवान् नरसिंह के अवतार, भक्त प्रह्लाद एवं हिरण्यकशिपु के वध की कहानी

धरती के प्रथम सम्राट पृथु कौन थे, वो और उनकी पत्नी अर्चि की उत्पत्ति कैसे हुई थी, क्या उन्ही के नाम पर धरती का नाम पृथ्वी पड़ा

सम्राट पृथु द्वारा पृथ्वी को आतंकित करना

ब्रह्माण्ड के प्रथम मनु यानि स्वायम्भुव मनु के वंश में अंग नामक प्रजापति का विवाह मृत्यु की मानसिक पुत्री सुनीथा …

Read moreधरती के प्रथम सम्राट पृथु कौन थे, वो और उनकी पत्नी अर्चि की उत्पत्ति कैसे हुई थी, क्या उन्ही के नाम पर धरती का नाम पृथ्वी पड़ा

विक्रम बेताल की कहानियां, स्त्री को अपमानित करने का पाप किसको लगा

विक्रम बेताल की कहानियां, स्त्री को अपमानित करने का पाप किसको लगा

मार्ग में कथा सुनाने के लिए विक्रम की अनुमति मिलने के बाद बेताल ने कथा सुनाना प्रारंभ किया | किसी …

Read moreविक्रम बेताल की कहानियां, स्त्री को अपमानित करने का पाप किसको लगा

राजा विक्रमादित्य के स्वर्ण सिंहासन का क्या हुआ, सिंहासन बत्तीसी की अंतिम कथा

राजा विक्रमादित्य के स्वर्ण सिंहासन का क्या हुआ, सिंहासन बत्तीसी की अंतिम कथा

राजा विक्रमादित्य के स्वर्ण सिंहासन की अंतिम यानी बत्तीसवीं पुतली का नाम था रानी रूपवती | बत्तीसवें दिन जब रानी …

Read moreराजा विक्रमादित्य के स्वर्ण सिंहासन का क्या हुआ, सिंहासन बत्तीसी की अंतिम कथा

राजा विक्रमादित्य की मृत्यु कैसे हुई, उनकी मृत्यु के बाद उनके स्वर्ण सिंहासन का क्या हुआ, क्या वह आज भी धरती के अन्दर दबा हुआ है

राजा विक्रमादित्य की मृत्यु कैसे हुई, उनकी मृत्यु के बाद उनके स्वर्ण सिंहासन का क्या हुआ

इकत्तिस्वें दिन राजा भोज जब स्वर्ण सिंहासन की तरफ बढ़े तो उनके क़दमों को इकत्तीसवीं पुतली कौशल्या ने रोक लिया …

Read moreराजा विक्रमादित्य की मृत्यु कैसे हुई, उनकी मृत्यु के बाद उनके स्वर्ण सिंहासन का क्या हुआ, क्या वह आज भी धरती के अन्दर दबा हुआ है

जब विक्रमादित्य ने राजकुमार को उसका राज्य वापस दिलाने के लिए शत्रुओं से पैशाचिक युद्ध किया

जब विक्रमादित्य ने राजकुमार को उसका राज्य वापस दिलाने के लिए शत्रुओं से पैशाचिक युद्ध किया

जयलक्ष्मी तीसवीं पुतली थी जिसने राजा भोज का रास्ता रोका था | जयलक्ष्मी ने राजा भोज को, सम्राट विक्रमादित्य की …

Read moreजब विक्रमादित्य ने राजकुमार को उसका राज्य वापस दिलाने के लिए शत्रुओं से पैशाचिक युद्ध किया