श्री कृष्ण की राधा कौन थीं

श्री कृष्ण की राधा कौन थीं

श्री कृष्ण की राधा जी कौन थीं, इस सम्बन्ध में पुराणों में आख्यान बिखरे पड़े हैं | ‘अनया राधितो नूनं भगवान हरिरीश्वरः’-इस वचन के द्वारा श्री शुकदेव जी ने श्रीमद भागवत के दशम स्कन्ध में परोक्ष रूप से श्री राधिका …

Read more

द्रौपदी की लाज बचाने के लिए जब भगवान कृष्ण ने वस्त्र के रूप में अवतार लिया

द्रौपदी की लाज बचाने के लिए जब भगवान कृष्ण ने वस्त्र के रूप में अवतार लिया

अवतार की अवधारणा सनातन संस्कृति का अभिन्न अंग रही है। अवतारवाद हमारी आस्था, श्रद्धा और भावना तो है ही, साथ ही एक उच्च आदर्श परम्परा भी है। ‘सम्भवामि युगे युगे’-यह श्री भगवान का बहुत स्पष्ट उदघोष है। साधुजनों का संरक्षण, …

Read more

भगवान के व्यूहावतार, वासुदेव, संकर्षण, प्रद्युम्न एवं अनिरूद्ध की कथा

भगवान के व्यूहावतार, वासुदेव, संकर्षण, प्रद्युम्न एवं अनिरूद्ध की कथा

परब्रह्म परमेश्वर प्रकृति और प्रकृति द्वारा निर्मित इस जगत से परे हैं और प्रकृतिमय भी हैं। इस प्रकार उनकी दो विभूतियां हैं-एक त्रिपाद्विभूति है और दूसरी एकपाद्विभूति | त्रिपाद्विभूति को नित्यविभूति और एकपाद्विभूति को लीलाविभूति भी कहा गया है। एकपाद्विभूति …

Read more

नर्मदा जी के अवतरण की कथा

नर्मदा जी के अवतरण की कथा

नर्मदा मैया का अवतरण इस ब्रह्म सृष्टि में पृथ्वी पर नर्मदा मैया का अवतरण तीन बार हुआ है। प्रथम बार पाद्यकल्प के प्रथम सतयुग में, दूसरी बार दक्षसावर्णि मन्वन्तर के प्रथम सयतुग में और तृतीय बार वर्तमान वैवस्वत के प्रथम …

Read more

क्या हनुमान जी में इतना बल था कि वो रावण, कुम्भकर्ण आदि को पराजित करके उनका वध कर सकते थे ?

हनुमान जी

सृष्टि के संहारक भगवान रूद्र ही अपने प्रिय श्री हरि की सेवा का पर्याप्त अवसर प्राप्त करने तथा कठिन कलिकाल में भक्तों की रक्षा की इच्छा से ही पवन देव के औरस पुत्र और वानरराज केसरी के क्षेत्रज पुत्र हनुमान …

Read more

भगवान शिव का नटराज अवतार किस लिए है? क्या समस्त ब्रह्माण्ड उनके इस अवतार में समाहित है?

भगवान शिव का नटराज अवतार किस लिए है

सनातन धर्म के त्रिदेवों में भगवान शिव का स्थान बहुत महत्वपूर्ण है। यद्यपि भगवान् शिव संहारक तथा प्रलयकर्ता माने गये हैं, परंतु उनके अनन्य उपासक उन्हें ब्रह्मा एवं विष्णु से सम्बन्धित कार्य-सृष्टि एवं स्थिति के कर्ता भी मानते हैं। शिव …

Read more

नल और दमयंती पूर्व जन्म में कौन थे, भगवान् शिव ने उनकी किस प्रकार से परीक्षा ली

who was nal and damyanti

प्राचीन समय की बात है | भारतवर्ष के पश्चिम की तरफ अर्बुदाचल नामक पर्वत के पास अहुक नाम का एक भील रहता था। उसकी पत्नी का नाम आहुका था। पति-पत्नी दोनों ही भगवान शिव के भक्त थे। वे दोनों अपने …

Read more

वेदव्यास कौन थे, क्या वो अलौकिक शक्तियों के स्वामी और भगवान् के अवतार थे

Vedvyas

दिव्य शक्ति सम्पन्न वेदव्यास जी भगवान नारायण के कला अवतार थे। वे महा ज्ञानी महर्षि पराशर के पुत्र के रूप में प्रकट हुए थे। उनका जन्म कैवर्तराज की पोष्य पुत्री महाभागा सत्यवती के गर्भ से यमुना जी के द्वीप में …

Read more

परशुराम जी कौन हैं ? उन्होंने इक्कीस बार धरती से क्षत्रियों का विनाश क्यों किया

Parashuram ji kaun hain

परशुराम जी किसके पुत्र थे महर्षि जमदग्नि की पति परायणा पत्नी (महाराज रेणु की पुत्री) रेणुका के गर्भ से पांच पुत्र उत्पन्न हुए-रूमण्वान, सुषेण, वसु, विश्वासु और पांचवें सबसे छोटे परशुराम। इनमें से सबसे छोटे पुत्र परशुराम निखिल सृष्टिनायक श्री …

Read more

भगवान शिव के राधावतार और भगवती महाकाली के कृष्णावतार का रहस्य

भगवान शिव के राधावतार और भगवती महाकाली के कृष्णावतार का रहस्य

एक बार की बात है देवर्षि नारद जी ने भगवान शिव जी से निवेदन किया-प्रभो! अनेक तत्व ज्ञानी लोग बताते हैं कि परात्पर विद्या स्वरूपिणी भगवती काली हैं। उन्होंने ही स्वयं पृथ्वी पर श्री कृष्ण रूप में अवतार ग्रहण कर …

Read more