कर्ण वध के पश्चात् पूरे कौरव पक्ष में मरघट का सन्नाटा छा गया

कर्ण वध के पश्चात् पूरे कौरव पक्ष में मरघट का सन्नाटा छा गया

अर्जुन द्वारा कर्ण का वध हो जाने के पश्चात् कौरव पक्ष में मरघट सा सन्नाटा था । समस्त कौरव सूतपुत्र …

Read moreकर्ण वध के पश्चात् पूरे कौरव पक्ष में मरघट का सन्नाटा छा गया

कर्णवध के समाचार से प्रसन्न हुए युधिष्ठिर ने कृष्ण और अर्जुन की जमकर प्रशंसा की

कर्णवध के समाचार से प्रसन्न हुए युधिष्ठिर ने कृष्ण और अर्जुन की जमकर प्रशंसा की

महाभारत युद्ध के सत्रहवें दिन जब अर्जुन ने कर्ण का वध कर दिया तो कौरव सेना में हाहाकार मच गया …

Read moreकर्णवध के समाचार से प्रसन्न हुए युधिष्ठिर ने कृष्ण और अर्जुन की जमकर प्रशंसा की

पाण्डवों के वारणावत के लिए निकल जाने पर क्या विदुर ने पहेलियों की भाषा में युधिष्ठिर को सब समझा दिया था कि क्या होने वाला है और उससे कैसे बचना है

पाण्डवों के वारणावत के लिए निकल जाने पर क्या विदुर ने पहेलियों की भाषा

दुष्ट दुर्योधन की योजना के अनुसार जब धृतराष्ट्र ने पाण्डवों को वारणावत जाने की आज्ञा दे दी, तब दुरात्मा दुर्योधन …

Read moreपाण्डवों के वारणावत के लिए निकल जाने पर क्या विदुर ने पहेलियों की भाषा में युधिष्ठिर को सब समझा दिया था कि क्या होने वाला है और उससे कैसे बचना है

विदुर की चतुराई भरी सहायता से पाण्डव अपनी माँ कुंती के साथ लाक्षाभवन से सकुशल निकलने में सफल हुए और घनघोर जंगल में पहुंचे

विदुर की चतुराई भरी सहायता से पाण्डव अपनी माँ कुंती के साथ लाक्षाभवन se

जलते हुए लाक्षागृह से सकुशल बच निकलने के पश्चात् पांडव और कुंती सुरंग द्वारा जंगल में गंगा किनारे निकले | …

Read moreविदुर की चतुराई भरी सहायता से पाण्डव अपनी माँ कुंती के साथ लाक्षाभवन से सकुशल निकलने में सफल हुए और घनघोर जंगल में पहुंचे

दुर्योधन और धृतराष्ट्र ने छल से पाण्डवों और कुन्ती को वारणावत भेजा

दुर्योधन और धृतराष्ट्र ने छल से पाण्डवों और कुन्ती को वारणावत भेजा

जब दुर्योधन ने देखा कि भीमसेन की शक्ति असीम है और अर्जुन का अस्त्र-ज्ञान तथा अभ्यास विलक्षण है । उसका …

Read moreदुर्योधन और धृतराष्ट्र ने छल से पाण्डवों और कुन्ती को वारणावत भेजा

गुरु द्रोणाचार्य की आज्ञा से अर्जुन ने द्रुपद की नगरी में हाहाकार मचा दिया और द्रुपद को बंदी बनाकर द्रोणाचार्य के पास ले गए

गुरु द्रोणाचार्य की आज्ञा से अर्जुन ने द्रुपद की नगरी में हाहाकार मचा दिया

जब द्रोणाचार्य ने देखा कि सभी राजकुमार अस्त्रविद्या के अभ्यास में पूर्णतः निपुण हो चुके हैं, तब उन्होंने निश्चय किया …

Read moreगुरु द्रोणाचार्य की आज्ञा से अर्जुन ने द्रुपद की नगरी में हाहाकार मचा दिया और द्रुपद को बंदी बनाकर द्रोणाचार्य के पास ले गए

भीमसेन ने बकासुर का वध क्यों और किस प्रकार किया, क्या उन्हें इसके लिए माता कुन्ती ने आज्ञा दी थी

भीमसेन ने बकासुर का वध क्यों और किस प्रकार किया, क्या उन्हें इसके लिए माता कुन्ती ने आज्ञा दी थी

वारणावत के बाद युधिष्ठिर आदि पाँचों भाई अपनी माता कुन्ती के साथ एकचक्रा नगरी में रहकर तरह-तरह के दृश्य देखते …

Read moreभीमसेन ने बकासुर का वध क्यों और किस प्रकार किया, क्या उन्हें इसके लिए माता कुन्ती ने आज्ञा दी थी

द्रुपद की पुत्री द्रौपदी के स्वयंवर का भव्य आयोजन, द्रुपद के मन में अर्जुन को अपना दामाद बनाने की प्रबल लालसा का होना

द्रुपद की पुत्री द्रौपदी के स्वयंवर का भव्य आयोजन

जब नर-रत्न पाण्डव अपनी माता के साथ राजा द्रुपद के श्रेष्ठ देश, उनकी पुत्री द्रौपदी और उसके स्वयंवर-महोत्सव को देखने …

Read moreद्रुपद की पुत्री द्रौपदी के स्वयंवर का भव्य आयोजन, द्रुपद के मन में अर्जुन को अपना दामाद बनाने की प्रबल लालसा का होना

वेदव्यास जी के द्वारा समझाने पर द्रुपद का, द्रौपदी के साथ पाँचों पाण्डवों के विवाह का निर्णय

द्रौपदी के साथ पाँचों पाण्डवों के विवाह का निर्णय

धर्मराज युधिष्ठिर की बात सुनकर द्रुपद की आँखें प्रसन्नता से खिल उठीं । आनन्द मग्न हो जाने के कारण वे …

Read moreवेदव्यास जी के द्वारा समझाने पर द्रुपद का, द्रौपदी के साथ पाँचों पाण्डवों के विवाह का निर्णय

कौरव पाण्डव जिस कुरु वंश में जन्मे थे उसके प्रवर्तक सम्राट कुरु कौन थे, क्या उनके नाना भगवान सूर्य थे

कौरव पाण्डव जिस कुरु वंश में जन्मे थे उसके प्रवर्तक सम्राट कुरु कौन थे

जन्मेजय को महाभारत कथा सुनाते हुए वैशम्पायन जी कहते हैं “जनमेजय ! गन्धर्व के मुख से ‘तपतीनन्दन’ सम्बोधन सुनकर अर्जुन …

Read moreकौरव पाण्डव जिस कुरु वंश में जन्मे थे उसके प्रवर्तक सम्राट कुरु कौन थे, क्या उनके नाना भगवान सूर्य थे