क्या महर्षि च्यवन के पौत्र ऋषि रुरु ने अपनी आधी आयु, अपनी मृत पत्नी को दे कर उसे जीवित किया था और क्या रुरु ने ही अपनी, सर्पों के विनाश की प्रतिज्ञा के चलते महर्षि सहस्त्रपाद को सर्पयोनी से मुक्त किया था

क्या महर्षि च्यवन के पुत्र ऋषि रुरु ने अपनी आधी आयु

उग्रश्रवा जी कहते है “ब्रह्मन् ! भृगु पुत्र च्यवन ने अपनी पत्नी सुकन्या के गर्भ से एक पुत्र को जन्म …

Read moreक्या महर्षि च्यवन के पौत्र ऋषि रुरु ने अपनी आधी आयु, अपनी मृत पत्नी को दे कर उसे जीवित किया था और क्या रुरु ने ही अपनी, सर्पों के विनाश की प्रतिज्ञा के चलते महर्षि सहस्त्रपाद को सर्पयोनी से मुक्त किया था

अर्जुन का धर्मराज युधिष्ठिर से क्षमा माँगना तथा उनके सामने कर्ण के वध की प्रतिज्ञा करना

अर्जुन का धर्मराज युधिष्ठिर के सामने कर्ण के वध की प्रतिज्ञा करना

महाभारत युद्ध के बीच जब श्री कृष्ण के समझाने पर अर्जुन ने धर्मराज युधिष्ठिर का अपमान कर दिया तो युधिष्ठिर …

Read moreअर्जुन का धर्मराज युधिष्ठिर से क्षमा माँगना तथा उनके सामने कर्ण के वध की प्रतिज्ञा करना

महाभारत युद्ध के बीच में कर्ण और शल्य के बीच हुए वाकयुद्ध का क्या परिणाम निकला

महाभारत युद्ध के बीच में कर्ण और शल्य के बीच हुए वाकयुद्ध का क्या परिणाम निकला

कुरुक्षेत्र के मैदान में होने वाले महाभारत के युद्ध से अत्यंत दूर बैठे संजय ने धृतराष्ट्र से कहा “महाराज ! …

Read moreमहाभारत युद्ध के बीच में कर्ण और शल्य के बीच हुए वाकयुद्ध का क्या परिणाम निकला

द्रोणाचार्य ने अर्जुन को कौन से अमोघ शक्ति दी, उसका क्या नाम था और क्या-क्या क्षमतायें थी

द्रोणाचार्य ने अर्जुन को कौन से अमोघ शक्ति दी

महाभारत काल में जब द्रोणाचार्यन अर्जुन, भीम, युधिष्ठिर आदि पांडवों तथा दुर्योधन आदि कौरवों को अस्त्र और शस्त्र शिक्षा दे …

Read moreद्रोणाचार्य ने अर्जुन को कौन से अमोघ शक्ति दी, उसका क्या नाम था और क्या-क्या क्षमतायें थी

रंगमण्डप में अर्जुन ने विचित्र और मायावी हथियारों का प्रदर्शन किया, उसे कर्ण से महान चुनौती मिली और वंश को लेकर अन्य लोगों से अपमानित हुए कर्ण को दुर्योधन को अंगदेश का शासक बनाया

रंगमण्डप में अर्जुन ने विचित्र और मायावी हथियारों का प्रदर्शन किया

परीक्षित नंदन जन्मेजय को महाभारत कथा सुनाते हुए वैशम्पायन जी कहते हैं “जनमेजय ! द्रोणाचार्य ने राजकुमारों को अस्त्रविद्या में …

Read moreरंगमण्डप में अर्जुन ने विचित्र और मायावी हथियारों का प्रदर्शन किया, उसे कर्ण से महान चुनौती मिली और वंश को लेकर अन्य लोगों से अपमानित हुए कर्ण को दुर्योधन को अंगदेश का शासक बनाया

जब मयासुर दैत्य द्वारा रचित दिव्य, अद्भुत त्रिपुरों के नाश के लिए भगवान शिव ने योद्धा का रूप धारण किया और उनके रथ के सारथी बने भगवान ब्रह्मा जी

जब मयासुर दैत्य द्वारा रचित दिव्य, अद्भुत त्रिपुरों के नाश के लिए भगवान शिव ने योद्धा का रूप धारण किया

एक बार दुर्योधन ने कर्ण के विषय में समझते हुए राजा शल्य से कहा “महाराज शल्य ! पूर्वकाल में महर्षि …

Read moreजब मयासुर दैत्य द्वारा रचित दिव्य, अद्भुत त्रिपुरों के नाश के लिए भगवान शिव ने योद्धा का रूप धारण किया और उनके रथ के सारथी बने भगवान ब्रह्मा जी

पाण्डवों के प्रति धृतराष्ट्र के मन में जहर किसने भरा, किसने उनकी बुद्धि भ्रष्ट की, क्या वो शकुनी नहीं कोई और था

पाण्डवों के प्रति धृतराष्ट्र के मन में जहर किसने भरा, किसने उनकी बुद्धि भ्रष्ट की

परीक्षित के पुत्र जन्मेजय को महाभारत की कथा सुनते हुए वैशम्पायन जी कहते हैं “जनमेजय ! द्रुपद को जीत लेने …

Read moreपाण्डवों के प्रति धृतराष्ट्र के मन में जहर किसने भरा, किसने उनकी बुद्धि भ्रष्ट की, क्या वो शकुनी नहीं कोई और था

क्या श्रीकृष्ण के कहने पर अर्जुन ने युधिष्ठिर का घोर अपमान किया था और अपना गुणगान किया था तथा बाद में श्रीकृष्ण और अर्जुन दोनों ने युधिष्ठिर से क्षमा मांगी थी

क्या श्रीकृष्ण के कहने पर अर्जुन ने युधिष्ठिर का घोर अपमान किया था

महाभारत युद्ध के दौरान जब अर्जुन द्वारा कर्ण का वध न किये जाने पर, युधिष्ठिर ने अर्जुन को धिक्कारा और …

Read moreक्या श्रीकृष्ण के कहने पर अर्जुन ने युधिष्ठिर का घोर अपमान किया था और अपना गुणगान किया था तथा बाद में श्रीकृष्ण और अर्जुन दोनों ने युधिष्ठिर से क्षमा मांगी थी

मद्र्राज शल्य को अपना सारथी बनाने के लिए अंगराज कर्ण और दुर्योधन ने अथक परिश्रम किया

मद्र्राज शल्य को अपना सारथी बनाने के लिए अंगराज कर्ण और दुर्योधन

राजा शल्य को समझाते हुए दुर्योधन ने कहा “वीरवर ! सारथि तो रथी से भी बढ़कर होना चाहिये । इसलिये …

Read moreमद्र्राज शल्य को अपना सारथी बनाने के लिए अंगराज कर्ण और दुर्योधन ने अथक परिश्रम किया

महाभारत युद्ध के समाप्त होने पर अश्वत्थामा द्वारा पाण्डवों का कपट पूर्वक वध करने का विचार करना

महाभारत युद्ध के समाप्त होने पर अश्वत्थामा द्वारा पाण्डवों का कपट पूर्वक वध करने का विचार करना

महाभारत युद्ध समाप्त हो चुका था और भीमसेन ने दुर्योधन का बेरहमी से वध कर डाला था | तब अश्वत्थामा, …

Read moreमहाभारत युद्ध के समाप्त होने पर अश्वत्थामा द्वारा पाण्डवों का कपट पूर्वक वध करने का विचार करना