देवर्षि नारद जी की विभिन्न लीलाओं का वर्णन

देवर्षि नारद जी की विभिन्न लीलाओं का वर्णन

देवर्षि नारद जी की विभिन्न लीलाओं का वर्णन देवर्षि नारद जी ईश्वर के ही अंशावतार हैं | वे श्री भगवान् के मन के अवतार हैं । कृपासिन्धु प्रभु जो कुछ करना चाहते हैं, सर्वज्ञ और त्रिकालदर्शी, वीणापाणि नारदजी के द्वारा …

Read more

श्री कृष्ण लीला रहस्यम

श्री-कृष्ण-लीला-रहस्यम

श्री कृष्ण लीला रहस्यम परम प्रभु परमेश्वर भगवान् श्री विष्णु जी से जो कृपाप्रसाद नन्दरानी यशोदा मैया को मिला, वैसा न तो ब्रह्मा जी को, न ही शंकर जी को, और न ही उनकी अर्धांगिनी लक्ष्मी जी को भी कभी …

Read more

विष्णु के अंशावतार श्री भरत जी का भ्रातृ प्रेम अतुलनीय व अनिवर्चनीय था

विष्णु के अंशावतार श्री भरत जी का भ्रातृ प्रेम अतुलनीय व अनिवर्चनीय था

विष्णु के अंशावतार श्री भरत जी का भ्रातृ प्रेम अतुलनीय व अनिवर्चनीय था श्री भरत जी श्री राम के ही स्वरूप हैं । वे व्युहावतार माने जाते हैं और उनका वर्ण ऐसा है कि ‘भरतु रामही की अनुहारी । सहसा …

Read more

भगवान ब्रह्मा जी कौन हैं, उनका अवतरण कैसे हुआ था तथा उन्होंने ब्रह्माण्ड की रचना कैसे की थी?

भगवान ब्रह्मा जी कौन हैं, उनका अवतरण कैसे हुआ था तथा उन्होंने ब्रह्माण्ड की रचना कैसे की थी?

भगवान ब्रह्मा जी कौन हैं, उनका अवतरण कैसे हुआ था तथा उन्होंने ब्रह्माण्ड की रचना कैसे की थी? ब्रह्मा जी का अवतरण किससे, कैसे और कब हुआ इस सम्बन्ध में पुराणों में एक रोचक कथा प्राप्त होती है, जिसमें बताया …

Read more

चौदह मन्वंतर में अलग रूप में अवतार लेने वाले सप्तर्षि गण कौन हैं

saptarshi-taramandal

चौदह मन्वंतर में अलग रूप में अवतार लेने वाले सप्तर्षि गण कौन हैं ब्रह्म लोक का एक दिन हमारी सृष्टि के एक कल्प के समय के बराबर होता है और उस एक कल्प में चौदह मनु होते हैं यानी ब्रह्मा …

Read more

भगवान ब्रहमा जी की पूजा उपासना प्रचलित क्यों नहीं है

Brahma_ji_Vivaswan_Mandir_Surya_Mandir__Gwalior_-_panoramio

भगवान ब्रहमा जी की पूजा उपासना प्रचलित क्यों नहीं है सनातन धर्म में भगवान ब्रह्मा जी पूजा, उपासना उतनी प्रचलित नहीं है जितना अन्य देवी देवताओं की है लेकिन अमूर्त उपासना में ब्रहमा जी की सर्वत्र पूजा होती है और …

Read more

भूत प्रेत की रहस्यमय योनि से मुक्ति

भूत प्रेत की रहस्यमय योनि से मुक्ति

भूत प्रेत की रहस्यमय योनि से मुक्ति केवल श्राद्ध आदि संस्कार कर्मों के करने से ही नहीं मिलती | कभी-कभी स्थितियाँ विचित्र हो जाती हैं | समझ में नहीं आता गड़बड़ कहाँ हुई | प्रेत योनि से मुक्ति दिलाने में …

Read more

भगवान राम के नाम जप की महिमा अपरम्पार है, कथाओं में भी यही कहा गया है

भगवान राम के नाम जप की महिमा अपरम्पार है

कहते हैं कि सत्ययुग में भगवान नृसिंह का अवतार हुआ था, त्रेता में भगवान श्री रामचन्द्र जी अवतरित हुए, और द्वापर में भगवान श्री कृष्ण मुरारी का अवतार हुआ इसी प्रकार से वर्तमान में, कलियुग में भगवान के नाम रूप …

Read more

काकभुशुंडी जी एवं कालियानाग के पूर्व जन्म की कथा

काकभुशुंडी

एक बार विदेह नरेश बहुलाश्व की राजसभा में देवर्षि नारद पहुंचे | बहुत दिनों से उनके मन में उत्कंठा थी सो उसे उन्होंने नारद जी से पूछ लिया | उन्होंने पूछा कि “देवर्षि ! भगवान के चरण रज की महिमा …

Read more

भगवान शिव और ब्रह्मा जी का परमपिता परमेश्वर से सम्वाद

भगवान शिव और ब्रह्मा जी का परमपिता परमेश्वर से सम्वाद

मालावती की चीत्कार सुनकर वहाँ उपस्थित सभी का ह्रदय दहल उठा | प्राणों से भी अधिक प्रिय उसके पति उपबृहड़ ने भगवान कृष्ण के नाम का उच्चारण करते हुए अपना शरीर त्याग दिया था | यह ह्रदय विदारक दृश्य देख …

Read more