गुरु द्रोणाचार्य की आज्ञा से अर्जुन ने द्रुपद की नगरी में हाहाकार मचा दिया और द्रुपद को बंदी बनाकर द्रोणाचार्य के पास ले गए

गुरु द्रोणाचार्य की आज्ञा से अर्जुन ने द्रुपद की नगरी में हाहाकार मचा दियाजब द्रोणाचार्य ने देखा कि सभी राजकुमार अस्त्रविद्या के अभ्यास में पूर्णतः निपुण हो चुके हैं, तब उन्होंने निश्चय किया कि अब गुरु दक्षिणा लेने का समय आ गया है । उन्होंने सब राजकुमारों को अपने पास बुलाकर कहा, “तुम लोग पांचालराज द्रुपद को युद्ध में पकड़कर ले आओ । यही मेरे लिये सबसे बड़ी गुरु दक्षिणा होगी” । सबने बड़ी प्रसन्नता से गुरुदेव की आज्ञा स्वीकार की और उनके साथ शस्त्र धारण कर रथ पर सवार हो द्रुपद नगर की यात्रा कर दी ।

दुर्योधन, कर्ण, युयुत्सु, दुःशासन और दूसरे राजकुमार “पहले आक्रमण कर के मैं पकडूँगा”-ऐसा निश्चय करके आपस में स्पर्धा करने लगे । उन्होंने क्रमश: देश में और फिर राजधानी में प्रवेश किया । पांचालराज द्रुपद ने बड़ी शीघ्रता से किले से बाहर निकलकर अपने भाइयों के साथ आक्रमण कारियों पर बाण वर्षा शुरू कर दी ।

अर्जुन ने दुर्योधन आदि कौरवों को बहुत घमण्ड करते देखकर पहले ही द्रोणाचार्य से कहा था, “आचार्य ! इन लोगों को पहले अपना पराक्रम दिखा लेने दीजिये । ये लोग पांचालराज को नहीं पकड़ सकेंगे । इनके बाद हम लोगों की बारी आयेगी” । अर्जुन अपने भाइयों के साथ नगर से आधा कोस इधर ही ठहर गये थे ।

उधर द्रुपद ने अपने बाणों की बौछार से कौरवों की सेना को चकित कर दिया । वे इतनी फुर्ती और सफाई से बाण चला रहे थे कि कौरव भय वश उन्हें अनेक रूपों में देखने लगे । जिस समय द्रुपद घमासान बाण-वर्षा कर रहे थे, उस समय शंख, भेरी, मृदंग और सिंह नाद से सारी राजधानी गूंज उठी । धनुष की टंकार आकाश का स्पर्श करने लगी ।

इधर दुर्योधन, विकर्ण, सुबाहु और दुःशासन आदि भी बाण चलाने में कोई कोर-कसर नहीं रखते थे । द्रुपद अलातचक्र (बनेठी) की तरह घूम-घूमकर अकेले ही सबका सामना कर रहे थे । उस समय पांचाल राज की राजधानी के सभी साधारण और असाधारण नागरिक-जिनमें बच्चे, बूढ़े और स्त्रियाँ भी थीं-लाठी, मूसल आदि लेकर निकल पड़े और बरसते हुए बादलों के समान कौरवो पर टूट पड़े ।

कौरवों की सेना पर ऐसी मार पड़ी कि वे उस भयंकर मार के सामने एक क्षण भी नहीं ठहर सके, रोते-चिल्लाते पाण्डवों के पास भाग आये । कौरवों का करुण क्रन्दन सुनकर पाण्डवों ने द्रोणाचार्य के चरणों में प्रणाम किया और रथ पर सवार हुए । अर्जुन ने युधिष्ठिर को रोक दिया | नकुल और सहदेव को अपने रथ के चक्कों का रक्षक बनाया ।

भीम सेन हाथ में भीषण गदा लेकर सेना के आगे-आगे स्वयं चलने लगे । अभी द्रुपद आदि वीर कौरवों को हराकर हर्षनाद कर ही रहे थे कि अर्जुन का रथ दिशाओं को गुंजायमान करता हुआ वहाँ जा पहुंचा । भीमसेन दण्डपाणि काल के समान हाथ में गदा लेकर द्रुपद की सेना के भीतर घुस गये और गदा मार-मारकर हाथियों के सिर तोड़ने लगे ।

उन्होंने हाथी, घोड़े, रथ और पैदल-समस्त सेना को तहस-नहस कर दिया । अर्जुन ने उस महान् और विलक्षण युद्ध में बाणों की ऐसी झड़ी लगायी कि पांचालराज की सारी सेना ढक गयी । पहले सत्यजित ने अर्जुन पर बड़ा भीषण आक्रमण किया, परन्तु अर्जुन ने थोड़ी ही देर में उसे युद्ध से विमुख कर दिया । इसके बाद अर्जुन ने द्रुपद का धनुष और ध्वजा काटकर जमीन पर गिरा दिये और पाँच बाणों से चार घोड़ों तथा सारथि को मारा ।

अभी द्रुपद राज दूसरा धनुष उठाना ही चाहते थे कि अर्जुन हाथ में खड्ग लेकर अपने रथ से कूद पड़े और द्रुपद के रथ पर जाकर उन्हें पकड़ लिया । जब अर्जुन द्रुपद को लेकर द्रोणाचार्य के पास चले, तब सारे राजकुमार द्रुपद की राजधानी में लूटपाट मचाने लगे । अर्जुन ने कहा, “भैया भीमसेन ! राजा द्रुपद कौरवों के सम्बन्धी हैं । इनकी सेना का संहार मत कीजिये, केवल गुरु दक्षिणा रूप से द्रुपद को ही गुरु के अधीन कर दीजिये” ।

यद्यपि भीमसेन अभी लड़ने से तृप्त नहीं हुए थे, फिर भी उन्होंने अर्जुन की बात मान ली और लौट आये । इस प्रकार पाण्डव द्रुपद को पकड़ कर द्रोणाचार्य के पास ले आये । अब उनका घमण्ड चूर-चूर हो चुका था, धन भी छिन गया था । वे सर्वथा द्रोणाचार्य के अधीन हो रहे थे । उनकी यह स्थिति देख कर आचार्य द्रोण बोले, “द्रुपद ! मैंने बल पूर्वक तुम्हारे देश और नगर को रौंद डाला है ।

अब तुम्हारा जीवन तुम्हारे शत्रु के अधीन है । क्या तुम पुरानी मित्रता को सातत्य में रखना चाहते हो” ? उन्होंने तनिक हँसकर और भी कहा, “द्रुपद ! तुम प्राणों से निराश मत होओ । हम तो स्वभाव से ही क्षमाशील ब्राह्मण हैं । बचपन में हम लोग एक साथ खेला करते थे । वह प्रेम सम्बन्ध अब भी है । राजन् ! मैं चाहता हूँ कि हम लोग फिर वैसे ही मित्र बन जायँ ।

मैं तुम्हें वर देता हूँ कि तुम आधे राज्य के स्वामी रहो । तुमने कहा था कि जो राजा नहीं है, वह राजा का सखा नहीं हो सकता । इसलिये मैं भी तुम्हारा आधा राज्य लेकर राजा हो गया हूँ । तुम गंगाजी के दक्षिण तट के राजा रहो और मैं उत्तर तट का । अब तुम मुझे अपना मित्र समझो” । द्रुपद ने कहा “ब्रह्मन् ! आप-जैसे पराक्रमी उदार हृदय महात्माओं के लिये यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है ।

मैं आपसे प्रसन्न हूँ और आपका अनन्त प्रेम चाहता हूँ” । अब द्रोण ने उन्हें मुक्त कर दिया तथा बड़ी प्रसन्नता से सत्कार करके आधा राज्य दे दिया । द्रुपद माकन्दी प्रदेश के श्रेष्ठ नगर काम्पिल्य में रहने लगे । उसे दक्षिण-पांचाल कहते हैं, वहाँ चर्मण्वती नदी है ।

इस प्रकार यद्यपि द्रोण ने द्रुपद को पराजित करके भी उनकी रक्षा ही की, परन्तु द्रुपद के मन में सन्तोष नहीं हुआ । इधर अहिच्छत्र-प्रदेश की अहिच्छत्रा नगरी में द्रोणाचार्य रहने लगे । अर्जुन के पराक्रम से ही उन्हें यह राज्य प्राप्त हुआ था ।