हिडिम्बा कौन थी, उस परम सुन्दरी राक्षसी का विवाह भीमसेन से कैसे हुआ, उन दोनों का पुत्र घटोत्कच क्या परम बलिशाली तथा मायावी था

हिडिम्बा कौन थी, उस परम सुन्दरी राक्षसी का विवाह भीमसेन से कैसे हुआहिडिम्बासुर का वध करने के बाद भी, उसकी बहन हिडिम्बा राक्षसी को पीछे आते देखकर भीमसेन ने कहा, “हिडिम्बे ! मैं जानता हूँ कि राक्षस मोहिनी माया के सहारे पहले वैर का बदला लेते हैं । इसलिये जा, तू भी अपने भाई का रास्ता नाप” । युधिष्ठिर ने कहा, “राम-राम ! क्रोधवश होकर भी स्त्री पर हाथ नहीं छोड़ना चाहिये ।

हमारे शरीर की रक्षा से भी बढ़कर धर्म की रक्षा है । तुम धर्म की रक्षा करो । जब इसके भाई को तुमने मार डाला, तब यह हम लोगों का क्या बिगाड़ सकती है” । इसके बाद हिडिम्बा कुन्ती और युधिष्ठिर को प्रणाम करके हाथ जोड़कर कुन्ती से बोली, “आर्ये ! आप तो जानती हैं कि स्त्रियों को कामदेव की पीड़ा कितनी दुस्सह होती है ।

मैं आपके पुत्र के कारण बहुत देर से व्यथित हो रही हूँ । अब मुझे सुख मिलना चाहिये । मैंने अपने सगे-सम्बन्धी, कुटुम्बी और धर्म को तिलांजलि देकर आपके पुत्र को पति के रूप में वरण किया है | मैं आप और आपके पुत्र दोनों की स्वीकृति प्राप्त करने योग्य हूँ । यदि आप लोग मुझे स्वीकार न करेंगे तो मैं अपने प्राण त्याग दूंगी । यह बात मैं सत्य-सत्य शपथपूर्वक कहती हूँ ।

आप मुझ पर कृपा कीजिये । मैं मूढ़, भक्त या सेवक जो कुछ हूँ, आपकी हूँ । मैं आपके पुत्र को लेकर जाऊँगी और थोड़े ही दिनों में लौट आऊँगी । आप मेरा विश्वास कीजिये । जब आप लोग याद करेंगे, मैं आ जाऊँगी । आप जहाँ कहेंगे, पहुँचा दूंगी । बड़ी से बड़ी कठिनाई और आपत्ति के समय मैं आप लोगों को बचाऊँगी ।

आप लोग कहीं जल्दी पहुँचना चाहेंगे तो मैं पीठ पर ढोकर शीघ्र-से-शीघ्र पहुँचा दूंगी । जो आपातकाल में भी अपने धर्म की रक्षा करता है, वह श्रेष्ठ धर्मात्मा है” । युधिष्ठिर ने कहा “हिडिम्बे ! तुम्हारा कहना ठीक है । सत्य का कभी उल्लंघन मत करना । प्रतिदिन सूर्यास्त के पूर्व तक तुम पवित्र होकर भीमसेन की सेवा में रह सकती हो । भीमसेन दिनभर तम्हारे साथ रहेंगे सायंकाल होते ही तुम इन्हें मेरे पास पहुँचा देना” ।

राक्षसी के स्वीकार कर लेने पर भीमसेन ने कहा, “मेरी भी एक प्रतिज्ञा है । जब तक पुत्र नहीं होगा, तभी तक मैं तुम्हारे साथ जाया करूँगा । पुत्र हो जाने पर नहीं” । हिडिम्बा ने यह भी स्वीकार कर लिया । इसके बाद वह भीमसेन को साथ लेकर आकाशमार्ग से उड़ गयी ।

अब हिडिम्बा अत्यन्त सुन्दर रूप धारण करके दिव्य आभूषणों से आभूषित हो मीठी-मीठी बातें करती हुई पहाड़ों की चोटियों पर, जंगलों में, तालाबों में, गुफाओं में, नगरों में और दिव्य भूमियों में भीमसेन के साथ विहार करने लगी । समय आने पर उसके गर्भ से एक पुत्र हुआ । विकट नेत्र, विशाल मुख, नुकीले कान, भीषण शब्द, लाल होंठ, तीखी डाढ़ें, बड़ी-बड़ी बाँह, विशाल शरीर, अपरिमित शक्ति और मायाओं का खजाना ।

वह क्षण भर में ही बड़े-बड़े राक्षसों से भी बढ़ गया और तत्काल ही जवान, सर्वास्त्रविद् और वीर हो गया । वास्तव में राक्षसियाँ तुरंत गर्भ धारण कर लेती, बच्चा पैदा कर देती और चाहे जैसा रूप बना लेती हैं । हिडिम्बा के बालक के सिर पर बाल नहीं थे | उसने धनुष धारण किये माता-पिता के पास आकर प्रणाम किया ।

माता-पिता ने उसके ‘घट’ अर्थात सिर को ‘उत्कच’ यानी केशहीन देखकर उसका ‘घटोत्कच’ नाम रख दिया । घटोत्कच पाण्डवों के प्रति बड़ी ही श्रद्धा और प्रेम रखता था और वे भी उसके प्रति बड़ा स्नेह रखते थे । हिडिम्बा ने सोचा कि अब भीमसेन की प्रतिज्ञा का समय पूरा हो गया । इसलिये वह वहाँ से चली गयीं ।

घटोत्कच ने माता कुन्ती और पाण्डवों को नमस्कार करके कहा, “आप लोग हमारे पूजनीय हैं । आप नि:संकोच बतलाइये कि मैं आपकी क्या सेवा करूँ” । कुन्ती ने कहा, “बेटा ! तू कुरुवंश में उत्पन्न हुआ है और स्वयं भीमसेन के समान है । इन पाँचों के पुत्रों में तू सबसे बड़ा है । इसलिये समय पर इनकी सहायता करना” ।

कुन्ती के इस प्रकार कहने पर घटोत्कच ने कहा, “मैं रावण और इन्द्रजित के समान पराक्रमी तथा विशालकाय हूँ । जब आप लोगों को कोई आवश्यकता हो तो मेरा स्मरण करें । मैं आ जाऊँगा” । यह कहकर उसने उत्तर की ओर प्रस्थान किया । आगे चलकर पाण्डवों ने सिर पर जटाएँ रख ली और वृक्षों की छाल तथा मृगचर्म पहन लिये ।

इस प्रकार तपस्वियों का वेष धारण करके वे अपनी माता के साथ विचरने लगे । एक बार वे शास्त्रों के स्वाध्याय में लग रहे थे, उसी समय भगवान् श्री वेदव्यास उनके पास आये । उन्होंने उठकर उनके चरणों में प्रणाम किया । व्यासजी ने कहा, “युधिष्ठिर ! मुझे तुम लोगों की यह विपत्ति पहले ही मालूम हो गयी थी । मैं जानता था कि दुर्योधन आदि ने अन्याय करके तुम्हें राजधानी से निर्वासित कर दिया है ।

मैं तुम लोगों का हित करने के लिये ही आया हूँ । तुम इस विषादमयी परिस्थिति से दुःखी मत होना । यह सब तुम्हारे सुख के लिये ही हो रहा है । इसमें सन्देह नहीं कि मेरे लिये तुमलोग और धृतराष्ट्र के लड़के समान ही हैं, फिर भी तुम लोगों की दीनता और बचपन देखकर अधिक स्नेह होता है । इसलिये मैं तुम्हारे हित की बात कहता हूँ ।

यहाँ से पास ही एक बड़ा रमणीय नगर है । वहाँ तुम लोग छिपकर रहो और फिर मेरे आने की बाट जोहो” । पाण्डवों को इस प्रकार आश्वासन देकर और उन्हें साथ लेकर वे एकचक्रा नगरी की ओर चले । वहाँ पहुँचकर उन्होंने कुन्ती से कहा, “कल्याणि ! तुम्हारे पुत्र युधिष्ठिर बड़े धर्मात्मा हैं । ये धर्म के अनुसार सारी पृथ्वी जीतकर समस्त राजाओं पर शासन करेंगे ।

तुम्हारे और माद्री के सभी पुत्र महारथी होंगे और अपने राज्य में बड़ी प्रसन्नता के साथ जीवन-निर्वाह करेंगे । ये लोग राजसूय, अश्वमेध आदि बड़े-बड़े यज्ञ करेंगे, अपने सगे-सम्बन्धी और मित्रों को सुखी करेंगे और परम्परागत राज्य का चिरकाल तक उपभोग करेंगे” । व्यासजी ने इस प्रकार कहकर कुन्ती और पाण्डवों को एक ब्राह्मण के घर में ठहरा दिया और जाते-जाते कहा, “एक महीने तक मेरी बाट जोहना । मैं फिर आऊँगा । देश और काल के अनुसार सोच-समझकर काम करना । तुम्हें बड़ा सुख मिलेगा” । सबने हाथ जोड़कर उनको आज्ञा स्वीकार की । फिर वे चले गये ।