आखिर क्यों खतरनाक है भूत प्रेत को वश में करके जादू दिखाना


आखिर क्यों खतरनाक है भूत प्रेत को वश में करके जादू दिखानासामान्य जन के लिए भूत प्रेतों की दुनिया ख़तरनाक है | लेकिन सामर्थ्यवान लोगों के लिए नहीं | दिव्य दृष्टि प्राप्त सन्त जन बताते हैं कि आज के कुछ विदेशी, विश्व प्रसिद्ध जादूगर ऐसे भी हैं जिन्होंने भारतीय तांत्रिकों से प्रेतों और पिशाचों को वश में करने की विद्या सीखी है और वो उसी विद्या के बल पर असम्भव से दिखने वाले जादू दिखाकर करोड़ो डालर कमा रहे हैं ! ये खतरनाक है |

यह कार्य प्राचीन काल से होता आया है | सन्तजन का कहना है कि प्रेतों से इस तरह अपना काम करवाने में कई तरह के जोखिम और नुकसान भी हैं, जो प्रथम दृष्टया नहीं समझ में आते हैं लेकिन कुछ समय बीतने के बाद ये समझ में आने लगता है !

जैसे प्रेत अपने द्वारा किये गए कामों के बदले में उस जादूगर के द्वारा खाए पीये गए भोजन में से सूक्ष्म तत्व खीच सकता है जिससे उस जादूगर का शरीर धीरे धीरे निस्तेज होने लगता है और सबसे महत्वपूर्ण बात अगर जादूगर ने अपने मरने से पहले उस प्रेत को मुक्त नहीं किया तो जादूगर की मौत के बाद प्रेत उसकी आत्मा को भी अपने प्रेत लोक में ले जाता है जहाँ वो बहुत कष्ट पाता है |

कहने का अर्थ ये है कि ऐसी स्थिति में उस जादूगर की भी गति प्रेत योनी में हो सकती है, जो की वह कतई नहीं चाहेगा | ये एक जोखिम है जिसका अंदाज़ा उन्हें आम तौर पर नहीं होता | लेकिन समय बीतने के साथ-साथ ये बात उसे भी समझ आ सकती है |

कई बार तो ऐसा भी होता है कि जादूगर जिस प्रेत को जबरदस्ती वश में करना चाहते हैं, वही प्रेत उसे श्राप भी दे देते हैं जिसका खामियाजा उस जादूगर को निश्चित भोगना पड़ता है ! ये और ज्यादे बुरी स्थिति होती है | इसलिए भूत प्रेतों से किसी भी तरह की नजदीकी शेर की सवारी की तरह होती है, मतलब ज्यादा देर तक आप शेर पर बैठे नहीं रह सकते और उतरे तो शेर का खुद ही पर हमला करने का डर बना रहता है !

यही अन्तर होता है किसी ऋषि सत्ता से नजदीकी बनाने में और किसी प्रेत से सम्पर्क बढ़ाने में ! इसलिए इस तरह के निर्णय बहुत ही सोच समझ कर करना चाहिए | लेने के देने पड़ सकते हैं |

अगर कोई परोपकारी व्यक्ति, कर्म योग, भक्ति योग या हठ योग में काफी परिश्रम करता है तो उस आदमी के पास ईश्वर के ही आदेश से, ईश्वर दर्शन प्राप्त दिव्य ऋषि सत्ताएं खुद आती हैं और वे सत्ताएं, उस आदमी को, प्रेत और पिशाचों की तरह पैसा कमाने का जरिया तो नहीं बताती लेकिन उच्च आध्यात्मिक उन्नति का दुर्लभ ज्ञान अवश्य प्रदान करते हैं जो कि निश्चित रूप से किसी भी हीरा मोती से अनन्त गुना महंगा होता है क्योंकि धन दौलत तो यहीं रह जाती है पर साथ जाते हैं आपके कर्म और उनका लेखा-जोखा यानि आपका पाप और पुण्य !

इसलिए बेहतर यही है कि जीवन में धन, प्रसिद्धी और ऐश्वर्य के पीछे नहीं भागना चाहिए बल्कि हमेशा अच्छे कर्म करना चाहिए |

अन्य रहस्यमय आर्टिकल्स पढ़ने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक्स पर क्लिक करें
https://rahasyamaya.com/mysterious-help-to-james-watt/
https://rahasyamaya.com/the-secret-meditation-in-hindi-sarp-raag/
https://rahasyamaya.com/the-origin-of-all-of-the-secret-rahasya-mahabharata/
https://rahasyamaya.com/the-mystery-of-jeev-prakruti-and-bramh/