एलियंस का विमान बाल्टिक सागर में मिला

23445समंदर की स्याह परतें वैसे भी अपने अन्दर बहुत कुछ दबाये पड़ी हैं लेकिन इस बार मामला कुछ अलग है | बाल्टिक सागर में एक रहस्यमय ऑब्जेक्ट देखा गया है | बाल्टिक उत्तरी यूरोप का एक ऐसा सागर है जो लगभग सभी ओर से जमीन से घिरा हुआ है | इसके उत्तर में स्वीडन है, उत्तर-पूर्व में फ़िनलैंड, पूर्व में इस्टोनिया, दक्षिण में पोलैंड और दक्षिण-पश्चिम में जर्मनी है |

लगभग दो वर्ष पूर्व पोलैंड के गोताखोरों ने समुद्र की गहराई में ४० फीट नीचे एक जहाज के मलबे से २०० साल पुरानी एक १२ इंच (लगभग १ फुट) लम्बी मिनरल वाटर से भरी सुराही ढूँढ निकाली थी लेकिन इस बार एक विचित्र विमान खोजकर्ताओं को हैरत में डाले हुए है |

पहली बार एक एलियन विमान समुद्र की गहराइयों में मिला है | दूसरी दुनिया के पर-ग्रहियों में विश्वास रखने वालों का कहना है कि ये एलियंस का स्पेसक्राफ्ट है जो समंदर में लैंड किया हुआ है | हांलाकि ये चीज क्या है इस बारे में कोई दावे से कुछ नहीं कह पा रहा है | बाल्टिक सागर की स्याह तलहटी में दिखाई दिया यह रहस्यमय विमान एकदम अजीबोगरीब है |

पीटर लिडेन बर्ग के नेतृत्व में स्वीडिश ओसेन एक्स टीम ने इसकी खोज की है | डेनिस ऐशबर्ग इस टीम के को-रिसर्चर और कैप्टेन थे | समंदर की सतह से लगभग ३०० फीट की गहराई पर मिला ये विमान दिखने में एकदम स्टार-वार मूवी में नज़र आये स्पेसक्राफ्ट जैसा है |

इस पूरे प्रकरण में सबसे चौंकाने वाला तथ्य यह है कि जब गोताखोरों की टीम इस स्पेसक्राफ्ट के नज़दीक पहुंची तो उन गोताखोरों के सारे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों ने काम करना बंद कर दिया, यही बात सबके दिलो-दिमाग में खलबली मचाये हुए है |

इस टीम के सदस्य रहे प्रोफेशनल डाइवर स्टीफेन होगरबोर्न का कहना है कि संभवतः वहां से कोई रहस्यमय इलेक्ट्रोमैग्नेटिक वेव निकल रही थी जिसकी वजह से उनके सैटेलाइट फ़ोन्स ने भी, उस स्पेसक्राफ्ट के नजदीक पहुँचाने के बाद काम करना बंद कर दिया | उनका कहना था कि उस वक्त हमारी टीम उस स्पेसक्राफ्ट के ठीक ऊपर थी |

उन्होंने कहा “हैरान करने वाली बात ये थी कि जैसे ही हम उस स्पेसक्राफ्ट से तकरीबन २०० मीटर दूर गए होंगे, हमारे उपकरण फिर से चालू हो गए” |

बाल्टिक सागर में मिला गोलाकार विमान लगभग २०० फीट चौड़ा और २६ फीट लम्बा है | दिखने में मशरूम जैसा दिख रहा था | स्पेसक्राफ्ट के बारे में एक और बात हैरान करने वाली है कि जिस धातु का बना हुआ है वो प्रकृति में कहीं पायी नहीं जाती |

यद्यपि इसके नमूने को जांच के लिए भेजा गया है फिर भी वैज्ञानिक इस रहस्यमय धातु को लेकर भी चकित हैं | इन्ही सब वजहों से ज्यादातर लोग ये मान रहे हैं कि ये कोई परग्रही विमान है जो किसी कारण से समंदर के अन्दर समाया हुआ है |

अन्य रहस्यमय आर्टिकल्स पढ़ने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक्स पर क्लिक करें

https://rahasyamaya.com/reincarnation-of-ancient-egyptian-priestess-farao-seti-i-akhenaten-nefertiti-set-osiris-isis/
https://rahasyamaya.com/when-the-soul-revealed-the-secret-rahasya/
https://rahasyamaya.com/the-salvation-of-ghost-vampire-devil/
https://rahasyamaya.com/divine-miracles-of-mantra-shakti/