टेक्सास की रहस्यमय उड़नतश्तरी

टेक्सास की रहस्यमय उड़नतश्तरीजिस अमेरिका को हम सब आज जानते हैं, वो वास्तव में एक बड़ी ही रहस्यमय जगह है | अनोखे शिला-चित्र, अद्भुत प्राचीन निर्माण और परग्रही उड़नतश्तरियों के एक से बढ़कर एक हैरत अंगेज़ नज़ारे अपने आप में इस बात के गवाह हैं कि अमेरिका सिर्फ एक महाद्वीप नहीं बल्कि ये ‘रहस्यों की धरती’ है |

सिर्फ़ कुछ सौ वर्षों पहले वहाँ औपनिवेशिक बस्ती बसाने आये यूरोपीय लोगों का सामना अब ऐसी चीजों से होने लगा है जो किताबों में लिखे गए अमेरिकी इतिहास को बदल देने को आतुर हैं | इस महाद्वीप के अलग-अलग हिस्सों से जुड़ी रहस्यमय कहानियाँ और जगह-जगह मिलने वाले अवशेषों को देखकर विद्वान भी अब इस संभावना से इंकार नहीं करते कि अतीत में कभी इस धरती पर परग्रहियों का जबरदस्त हस्तक्षेप था |

टेक्सास, अमेरिका का स्टीफेनवील ! दुनिया में ‘काऊबॉय कैपिटल’ नाम से मशहूर ये जगह उस समय फिर से सुर्ख़ियों में आ गयी जब 8 जनवरी 2008 की रात एक पुलिस अधिकारी और एक निजी विमान चालक के साथ करीब तीन दर्ज़न लोगों ने, साफ़ आसमान में, एक गोल लेकिन बेहद चमकदार वस्तु को ख़ामोशी से उड़ते देखा |

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना था कि उस वस्तु से काफ़ी तेज़ रौशनी निकल रही थी और वो काफ़ी दूर से भी दिखाई दे रही थी | जिस गति से वो उड़ रही थी उसे देख कर भी लोग भौचक्के थे | स्थानीय समयानुसार ये शाम के करीब सवा छह बजे (6:15 PM) से साढ़े सात (7:30 PM) बजे के बीच का वक़्त रहा होगा जब लोगों ने इस ‘उड़नतश्तरी’ को आसमान में देखा जो बिलकुल भी आवाज़ नहीं कर रही थी |

लोगों का कहना था कि कभी वो सामान्य गति से हवा में तैरती और कभी वो, अचानक से, बहुत तेज़ गति से उड़ जाती | कुछ लोगों ने इसे अमेरिकी सेना के अभ्यास का एक हिस्सा माना लेकिन ऐसा नहीं था | कुछ प्रत्यक्षदर्शियों का कहना था कि ये उनके लिए एक जीवन परिवर्तित कर देने वाले अनुभव के जैसा था |

जांच करने पर F.A.A. (Federal Aviation Administration) की राडार रिपोर्ट से पता चला कि वो एक बिना ट्रांसपोंडर वाली चीज थी जो हवा में उड़ रही थी | ट्रांसपोंडर के न होने से, इस विमान के, सेना से या नागरिक विमानन से सम्बंधित होने की सम्भावना खारिज़ हो जाती है |

इस घटना की जाँच रिपोर्ट के मुताबिक वो उड़नतश्तरी करीब दो घंटे तक, बहुत धीरे-धीरे, इत्मिनान से, टेक्सास के ग्रामीण इलाकों में करीब 110 किलोमीटर के दायरे में घूमती रही | उसके आस-पास मौज़ूद सेना के विमानों और राडार के रेकॉर्डों से ऐसा प्रतीत होता है कि उन्होंने (अमेरिकी प्रशासन और सेना) इस अनजान और रहस्यमयी चीज के विरुद्ध कोई कदम नहीं उठाया | उस समय कोई कार्यवाही नहीं की गयी |

विडम्बना ये थी कि अमेरिकी सरकार ने जो अपनी पहली रिपोर्ट पेश की उसमे इसे आँखों का भ्रम बताया गया | उन्होंने इसे रौशनी का जबरदस्त परावर्तन बताया लेकिन राडार रिपोर्ट और प्रत्यक्षदर्शियों के अनुभव कुछ और ही कहानी कह रहे थे | ये पूरी घटना अपने आप में इस बात का जबरदस्त प्रमाण है कि अमेरिका में उड़न तश्तरियों  का दिखाई देना कोई नई बात नहीं है जबकि अमेरिकी प्रशासन और सेना सामान्यतः इससे दूर ही रहती है |

अमेरिका में परग्रहियों की इतनी दिलचस्पी क्यों है ? इसके उत्तर में अलग-अलग तर्क दिए जा सकते हैं लेकिन दुनिया को इसका रहस्य जानने में अभी कई वर्ष लग सकते हैं | आखिर साढ़े चार अरब वर्ष पुरानी पृथ्वी पर अभी कुछ सौ वर्ष ही तो हुए है बाहरी दुनिया को अमेरिकी धरती पर कदम रखे हुए !

अन्य रहस्यमय आर्टिकल्स पढ़ने के लिए, कृपया नीचे दिए गए लिंक्स पर क्लिक करें

https://rahasyamaya.com/was-interstellar-inspired-by-ancient-indian-cosmology-universe-black-holes-time-space-vedas-god-world/
https://rahasyamaya.com/an-unfinished-race/
https://rahasyamaya.com/how-dream-resolved-mystry-of-atomic-science/
https://rahasyamaya.com/part-2-can-iron-be-converted-into-gold/