विक्रम बेताल की कहानियां, राजकुमारी त्रिभुवनसुन्दरी के लिए सर्वश्रेष्ठ वर कौन

विक्रम बेताल की कहानियां, राजकुमारी त्रिभुवनसुन्दरी के लिए सर्वश्रेष्ठ वर कौन

अपने काम में लगातार असफल रहने के बाद भी राजा विक्रमादित्य तनिक भी विचलित नहीं हुए और जा पहुंचे उस …

Read moreविक्रम बेताल की कहानियां, राजकुमारी त्रिभुवनसुन्दरी के लिए सर्वश्रेष्ठ वर कौन

विक्रम बेताल की कहानियां, तीन भाइयों में सबसे श्रेष्ठ कौन ?

विक्रम बेताल की कहानियां, तीन भाइयों में सबसे श्रेष्ठ कौन

अपनी धुन के पक्के विक्रमार्क ने जब बेताल को अपने कंधे पर लादा और आगे बढ़े तो मार्ग में उन्हें …

Read moreविक्रम बेताल की कहानियां, तीन भाइयों में सबसे श्रेष्ठ कौन ?

विक्रम बेताल की कहानियां, किसका पुण्य बड़ा, राजा का या सेवक का

विक्रम बेताल की कहानियां, किसका पुण्य बड़ा, राजा का या सेवक का

राजा विक्रमादित्य जब बेताल को पीठ पर लाद कर ले चले तो मार्ग में बेताल ने उन्हें अगली कथा सुनायी …

Read moreविक्रम बेताल की कहानियां, किसका पुण्य बड़ा, राजा का या सेवक का

विक्रम बेताल की कहानियां, पत्नी किसकी

विक्रम बेताल की कहानियां-पत्नी किसकी

बेताल ने राजा विक्रमादित्य को कथा सुनाने का क्रम जारी रखा | कर्मपुर नाम की एक नगरी थी। उसमें कर्मशील …

Read moreविक्रम बेताल की कहानियां, पत्नी किसकी

विक्रम बेताल की कहानियां, कन्या का असली वर कौन हुआ

विक्रम बेताल की कहानियां, कन्या का असली वर कौन हुआ

राजा विक्रमादित्य की पीठ पर सवार होते ही बेताल ने उनसे कहा “तुम भी बड़े हठी हो राजन, मैंने तुम्हे …

Read moreविक्रम बेताल की कहानियां, कन्या का असली वर कौन हुआ

विक्रम बेताल की कहानियां,ज्यादा पापी कौन स्त्री या पुरुष

विक्रम बेताल की कहानियां, ज्यादा पापी कौन

बेताल ने विक्रमादित्य को अपनी प्रतिज्ञा याद दिलाते हुए अगली कहानी सुनाना प्रारम्भ किया | भोगवती नाम की एक नगरी …

Read moreविक्रम बेताल की कहानियां,ज्यादा पापी कौन स्त्री या पुरुष

विक्रम बेताल की कहानियां, राजा, नौकर और उसके परिवार में सबसे ज्यादा पुण्य किसका ?

विक्रम बेताल की कहानियां-सबसे ज्यादा पुण्य किसका

राजा विक्रमादित्य भी अपनी धुन के पक्के थे | बेताल ने जैसे ही उनका कन्धा छोड़ा और वापस पेड़ पर …

Read moreविक्रम बेताल की कहानियां, राजा, नौकर और उसके परिवार में सबसे ज्यादा पुण्य किसका ?

श्री भगवान का चतुर्व्यूह रूप क्या है, उनके अवतार भेद क्या हैं, उनसे जीव की उत्पत्ति कैसे होती है

श्री भगवान का चतुर्व्यूह रूप क्या है, उनके अवतार भेद क्या हैं, उनसे जीव की उत्पत्ति कैसे होती है

अवतार का अर्थ सामान्य जन्म से नहीं है। अवतारी की तो जन्म-कर्म-जैसी समस्त लौकिक क्रियाएं दिव्य होती हैं। गीता में …

Read moreश्री भगवान का चतुर्व्यूह रूप क्या है, उनके अवतार भेद क्या हैं, उनसे जीव की उत्पत्ति कैसे होती है