क्या वेदों, उपनिषदों, एवं ब्राह्मण ग्रंथों में भी भगवान के अवतार का वर्णन हुआ है

क्या वेदों, उपनिषदों, एवं ब्राह्मण ग्रंथों में भी भगवान के अवतार का वर्णन हुआ है

अवतार शब्द किससे बना है उपसर्गपूर्वक तृ धातु से ‘अवतार’ शब्द बना है। शाब्दिक रूप से समझे तो, ‘उच्च स्थान …

Read moreक्या वेदों, उपनिषदों, एवं ब्राह्मण ग्रंथों में भी भगवान के अवतार का वर्णन हुआ है

पौण्ड्रक कौन था, उसने अपने आप को भगवान का अवतार क्यों घोषित किया, कृष्ण ने उसका वध कैसे किया

पौण्ड्रक कौन था

हमारे सनातन धर्म के शास्त्रों तथा पौराणिक ग्रंथों में जहां भगवान के विभिन्न अवतारों का वर्णन मिलता है, वहीं वर्तमान …

Read moreपौण्ड्रक कौन था, उसने अपने आप को भगवान का अवतार क्यों घोषित किया, कृष्ण ने उसका वध कैसे किया

भगवान राम और भगवान कृष्ण के अवतारों का विशिष्ट वर्णन

भगवान राम और भगवान कृष्ण के अवतारों का विशिष्ट वर्णन

वैदिक ग्रंथों के अनुसार वेद अनंत कोटि ब्रह्मण्ड नायक भगवान के निःश्वास से उद्भूत हैं। इस आशय को गोस्वामी तुलसीदास …

Read moreभगवान राम और भगवान कृष्ण के अवतारों का विशिष्ट वर्णन

क्या साइबेरिया की तुंगुस्का घटना में कोई ब्लैकहोल पृथ्वी से टकराया था

क्या साइबेरिया की तुंगुस्का घटना में कोई ब्लैकहोल पृथ्वी से टकराया था

रूस के साइबेरिया का तुंगुस (Tungus) क्षेत्र, दिन था 30 जून 1908 का और घड़ी की सूइयाँ सुबह के सात …

Read moreक्या साइबेरिया की तुंगुस्का घटना में कोई ब्लैकहोल पृथ्वी से टकराया था

क्या परम पिता परमात्मा नित्य अवतार लेते हैं

क्या परम पिता परमात्मा नित्य अवतार लेते हैं

काल बड़ा ही निर्दयी है | जैसे जैसे समय आगे बढ़ता है, वैसे वैसे ही पल-प्रहर, दिन-रात, माह-वर्ष, युग-कल्प आदि …

Read moreक्या परम पिता परमात्मा नित्य अवतार लेते हैं

काल के भी काल अर्थात महाकाल के रूप में भगवान का अवतार

काल के भी काल अर्थात महाकाल के रूप में भगवान का अवतार

भगवान समस्त जगत के समस्त प्राणियों के नियामक हैं । उनकी लीला एवं उनके संकल्पों का रहस्य, माया में पड़ा …

Read moreकाल के भी काल अर्थात महाकाल के रूप में भगवान का अवतार

क्या प्रणव यानी ऊँकार, साक्षात परमात्मा का नामावतार और नादावतार है तथा इसके जप से भगवान की प्राप्ति हो जाती है

क्या समस्त वेदों का सार वह परब्रह्म ऊँकार ही है

ब्रह्म एक ही है | एकोहम द्वितीयो नास्ति। उस एक ही सत् (ब्रह्म), को ज्ञानी जन इन्द्र, मित्र, वरूण, अग्नि, …

Read moreक्या प्रणव यानी ऊँकार, साक्षात परमात्मा का नामावतार और नादावतार है तथा इसके जप से भगवान की प्राप्ति हो जाती है