स्वप्न ने करायी हत्यारे की पहचान

स्वप्न ने करायी हत्यारे की पहचानयह घटना मैनचेस्टर, इंग्लैंड की है | काफी समय पहले की बात है मैनचेस्टर के एक दंपत्ति के दो लड़के खो गये। हर जगह ढूँढा गया, पुलिस में भी शिकायत की गयी लेकिन बहुत पता लगाने पर भी पुलिस उन्हें खोज नहीं पाई। हताश और निराश उनके माँ बाप लगभग हार मान चुके थे लेकिन माँ के दिल के एक कोने में अभी भी आशा की एक किरण थी |

कुछ महीनों बाद उस महिला यानी उन दोनों बच्चों की माँ ने एक स्वप्न देखा | उसने देखा कि उसका पति उसके उन दोनों लड़कों को लेकर एक ऐसे स्थान पर गया जो बहुत ही सघन भीड़ वाला था |स्वप्न देखने के दौरान ही उस महिला ने एक स्थान पर चेस्टर सिटी लिखा देखा | फिर उसने देखा कि इसके बाद उसका पति बच्चों को लेकर एक खंडहर नुमा मकान में घुसा और वहाँ जाकर उसने उन दोनों बच्चों की हत्या कर दी। स्वप्न में ऐसा दृश्य देख कर माँ बिलख पड़ी |

हत्या करने का दृश्य देख कर वह महिला चीख कर उठ गयी | उसका पति उसके बगल में ही सोया था | उसने उससे पूछने की बहुत कोशिश की लेकिन उस महिला ने अपने पति को कुछ भी नहीं बताया | नींद टूटने पर उसे पूरा शक हो चुका था कि उसके दोनों बेटों की हत्या उसके पति ने ही की है जो पिछले कई दिनों से घर के बाहर था |

थोड़ी देर बाद उसने पुलिस में जाकर रिपोर्ट लिखाई पर स्वप्न में हत्या और हत्यारे को देखने की बात मानने के लिए पुलिस वाले बिल्कुल भी तैयार ही नहीं हो रहे थे । लेकिन उस स्त्री ने जोर डालकर कहा कि आप ऍफ़ आई आर लिखिए, मैंने स्वप्न में जो जो स्थान देखे हैं उन सबको पहचान जाऊँगी बस आप मुझे चेस्टर सिटी ले चलिये।

थोड़ी देर की बहस के बाद पुलिस वाले मान गये। कुछ पुलिस अधिकारी उस स्त्री को लेकर वहाँ पहुंचे तो एक स्थान को पहचानकर स्त्री तंग गलियों में गुजरती हुई उसी खंडहर नुमा मकान में जा पहुँची, जिसे उसने स्वप्न में देखा हुआ था ।

वहाँ जले हुए शव के निशान तथा गड़ी हुई हड्डियाँ मिली | इतने प्रमाण मिलते ही पुलिस अधिकारी सक्रीय हो गए | थोड़ी देर की मशक्कत के बाद हत्यारा बाप भी पकड़ा गया तो उसने सारी बातें अक्षरशः वैसे ही स्वीकार की जैसे कि स्वप्न के आधार पर स्त्री ने रिपोर्ट लिखाई थी।

लोग छुपकर पाप भी करते हैं और यह भी मानते हैं कि उन्हें तो कोई नहीं देख रहा पर यह घटना बताती है कि आपके जघन्य अपराध छुप नहीं सकते, कोई एक है जो सब कुछ देखता सुनता रहता है भले ही उसका विधान लोग देर से समझ पायें पर वह दंड देने और दिलाने से चूकता नहीं।