महाभारत में अर्जुन ने कौरवों की नारायणी सेना और संशप्तकों का किस प्रकार संहार किया

महाभारत में अर्जुन ने कौरवों की नारायणी सेना और संशप्तकों का किस प्रकार संहार कियामहाभारत युद्ध का आँखों देखा हाल सुनाते हुए संजय धृतराष्ट्र से कहते हैं-महाराज ! जिस समय क्षत्रियों का संहार करने वाला वह भयानक युद्ध चल रहा था, उसी समय दूसरी ओर बड़े जोर-जोर से गाण्डीव धनुष की टंकार सुनायी देती थी । वहाँ अर्जुन संशप्तकों का तथा नारायणी सेना का संहार कर रहे थे । महारथी सुशर्मा ने अर्जुन पर बाणों की बौछार की तथा संशप्तकों ने भी उन्हें अपने तीरों का निशाना बनाया ।

तत्पश्चात् सुशर्मा ने अर्जुन को दस बाणों से बींधकर श्रीकृष्ण की दाहिनी भुजा में भी तीन बाण मारे । फिर एक भल्ल मारकर उसने अर्जुन की ध्वजा छेद डाली । ध्वजा पर आघात लगते ही उसके ऊपर बैठे हुए विशाल वानर ने बड़े जोर से गर्जना करके सबको भयभीत कर दिया । उसका भयंकर नाद सुनकर आपकी सेना थर्रा उठी । डर के मारे कोई हिल-डुल तक न सका ।

थोड़ी देर में जब उन्हें होश आया तो सब-के-सब अर्जुन पर बाणों की बौछार करने लगे । फिर सबने मिल कर अर्जुन के विशाल रथ को घेर लिया । यद्यपि उन पर तीखे बाणों की मार पड़ रही थी, तो भी वे रथ को पकड़कर जोर-जोर से चिल्लाने लगे । किन्हीं ने घोड़ों को पकड़ा, किन्हीं ने पहियों को , कुछ लोगों ने रथ की ईषा पकड़ने का उद्योग किया।

इस प्रकार हजारों योद्धा रथ को जबरदस्ती पकड़ कर सिंहनाद करने लगे । कुछ लोगों ने भगवान् श्रीकृष्ण की दोनों बाँहें पकड़ लीं; कई योद्धाओं ने रथ पर चढ़कर अर्जुन को भी पकड़ लिया । श्रीकृष्ण ने अपनी बाँहें झटककर उन लोगों को जमीन पर गिरा दिया तथा अर्जुन ने भी अपने रथ पर चढ़े हुए कितने ही पैदलों को धक्के देकर नीचे गिराया ।

फिर आस-पास खड़े हुए संशप्तक योद्धाओं को निकट से युद्ध करने में उपयोगी बाण मारकर ढक दिया । फिर, अर्जुन ने देवदत्त तथा श्रीकृष्ण ने पांचजन्य नामक शंख बजाया । उनकी ध्वनि से पृथ्वी और आकाश गूंजने-से लगे । शंखों की आवाज सुनकर संशप्तकों की सेना भय से सिहर उठी । फिर अर्जुन ने नागास्त्र का प्रयोग करके उन सबके पैर बाँध दिये ।

पैर बँध जाने से निश्चेष्ट होकर वे पत्थर के पुतले-जैसे दिखायी देने लगे । उसी अवस्था में अर्जुन ने उनका संहार आरम्भ किया । जब मार पड़ने लगी तो उन्होंने रथ छोड़ दिया और अपने समस्त अस्त्र-शस्त्रों को अर्जुन पर छोड़ने का प्रयास किया; परंतु पैर बँधे होने के कारण वे हिल भी न सके । अर्जुन उनका वध करने लगे । इसी समय सुशर्मा ने गारुडास्त्र का प्रयोग किया ।

उससे बहुत-से गरुड़ प्रकट हो-होकर सर्पों को खाने लगे । उन गरुड़ों को देख सर्पगण लापता हो गये । इस प्रकार नागपाश से छुटकारा पाये हुए योद्धा अर्जुन के रथ पर सायकों तथा अन्य अस्त्र-शस्त्रों की वर्षा करने लगे । तब अर्जुन ने बाणों की बौछार से उनकी अस्त्रवर्षा का निवारण करके योद्धाओं का संहार आरम्भ किया । इतने में सुशर्मा ने अर्जुन की छाती में तीन बाण मारे ।

इससे अर्जुन को गहरी चोट लगी और वे व्यथित होकर रथ के पिछले भागमें बैठ गये । थोड़ी ही देर में उन्हें चेत हुआ, फिर तो उन्होंने तुरंत ही ऐन्द्रास्त्र को प्रकट किया । उससे हजारों बाण निकल-निकलकर चारों दिशाओं में छा गये और आपकी सेना तथा घोड़े हाथियों का विनाश करने लगे । इस प्रकार सेना का संहार होता देख संशप्तकों तथा नारायणी सेना के ग्वालों को बड़ा भय हुआ ।

उस समय वहाँ एक भी पुरुष ऐसा नहीं था, जो अर्जुन का सामना कर सके । सब वीरों के देखते-देखते आपकी सेना कट रही थी । वह स्वयं निश्चेष्ट हो गयी थी, उससे पराक्रम करते नहीं बनता था । यह सब मेरी आँखों-देखी घटना है । अर्जुन ने वहाँ लगभग दस हजार योद्धाओं को मार डाला था । संशप्तकों में से जो शेष बच गये थे उन्होंने मर जाने या विजय पाने का निश्चय करके फिर से अर्जुन को घेर लिया । फिर तो वहाँ अर्जुन के साथ आपके सैनिकों का बड़ा भारी संग्राम हुआ |