क्या महाभारत के युद्ध में युधिष्ठिर को कर्ण ने पराजित किया था और क्या युधिष्ठिरका जीवन, कर्ण से, राजा शल्य ने बचाया था

क्या महाभारत के युद्ध में युधिष्ठिर को कर्ण ने पराजित किया थामहाभारत युद्ध का आँखों देखा हाल बताते हुए संजय धृतराष्ट्र से कहते हैं “राजन् ! दूसरी ओर से युधिष्ठिर को आते देख आपका पुत्र दुर्योधन क्रोध में भर गया । उसने अपनी आधी सेना साथ ले सहसा निकट जाकर उन्हें सब ओर से घेर लिया और तिहत्तर क्षुरप्र मार कर उनको बींध डाला । कुन्तीनन्दन युधिष्ठिर ने भी क्रोध में भरकर आपके पुत्र को तुरंत ही तीस भल्ल मारे । यह देख उन्हें पकड़ने के लिये कौरव पक्ष के योद्धा टूट पड़े ।

उस समय शत्रुओं के खोटे विचार जान कर महारथी नकुल, सहदेव तथा धृष्टद्युम्न एक अक्षौहिणी सेना के साथ युधिष्ठिर के पास आ धमके । वहाँ पहुँचते ही सहदेव ने बड़ी फुर्ती के साथ दुर्योधन को बीस बाण मारे । इतने में कर्ण युधिष्ठिर की सेना का संहार करने लगा । उसके बाणों से पीड़ित होकर वह सेना सहसा भाग खड़ी हुई । तब राजा युधिष्ठिर को बड़ा क्रोध हुआ ।

उन्होंने तेज किये हुए पचास बाणों से कर्ण को बींध डाला । तदनन्तर, उन दोनों में भयंकर युद्ध छिड़ा । धर्मराज शान पर चढ़ाकर तेज किये हुए भाँति-भाँति के बाणों, भल्लों, शक्ति, ऋष्टि तथा मुसलों से आपकी सेना का संहार करने लगे । उस समय आपके योद्धाओं में हाहाकार मच गया । धर्मात्मा युधिष्ठिर जहाँ-जहाँ दृष्टि डालते थे, वहाँ-वहाँ के सैनिकों का सफाया हो जाता था ।

यह देख कर्ण अत्यन्त कुपित होकर युधिष्ठिर पर नाराच, अर्धचन्द्र तथा वत्सदन्त आदि का प्रहार करने लगा । युधिष्ठिर ने भी तेज किये हुए बाणों से कर्ण को घायल कर डाला । फिर कर्ण ने हँसते-हँसते तेज किये हुए बाणों तथा तीन भल्लों से युधिष्ठिर की छाती छेद डाली । इससे धर्मराज को बड़ी पीड़ा हुई । वे रथ के पिछले भाग में बैठ गये और सारथि को वहाँ से चल देने की आज्ञा की ।

उन्हें जाते देख दुर्योधन सहित सभी कौरव ‘इसे पकड़ो-पकड़ो’ कहकर चिल्लाते हुए उनके पीछे दौड़ पड़े । इतने ही में पांचाल योद्धाओं के साथ सत्रह सौ केकय वीरों ने आकर कौरवों को आगे बढ़ने से रोक दिया । उस समय राजा युधिष्ठिर बाणों के प्रहार से बहुत घायल हो गये थे । वे नकुल तथा सहदेव के बीच में होकर धीरे-धीरे छावनी की ओर जा रहे थे, उनका होश ठिकाने नहीं था ।

ऐसी अवस्था में भी कर्ण ने दुर्योधन के हित की इच्छा से युधिष्ठिर का पीछा किया और उन्हें तीन तीखे बाणों से बींध डाला । युधिष्ठिर ने भी कर्ण की छाती में बाण मारकर बदला चुकाया । इसके बाद तीन बाणों से उसके सारथि को और चार से चारों घोड़ों को बींध डाला । फिर नकुल और सहदेव ने भी बड़े प्रयास के साथ कर्ण पर बाणों की वर्षा की ।

इसी प्रकार सूत पुत्र कर्ण ने भी तीखी धार वाले दो भल्लों से नकुल और सहदेव को घायल कर दिया । फिर युधिष्ठिर के घोड़ों को मार कर एक भल्ल से उनके मस्तक के टोप को नीचे गिरा दिया । इसी तरह नकुल के भी घोड़ों को मौत के घाट उतार कर उसके रथ की ईषा और धनुष को भी काट डाला । रथ टूट जाने पर वे दोनों पाण्डु कुमार अत्यन्त घायल होकर सहदेव के रथ पर जा बैठे ।

उन दोनों को रथहीन देख उनके मामा मद्रराज शल्य को बड़ी दया आयी । उन्होंने सूतपुत्र से कहा- “कर्ण ! तुम्हें तो आज अर्जुन से युद्ध करना है, फिर अत्यन्त क्रोध में भरकर धर्मराज से किसलिये लड़ रहे हो ? इन्हें मारने से तुम्हें क्या फायदा होगा ? इधर देखो, अर्जुन रथियों की सेना का संहार कर रहे हैं । अपने बाणों की वर्षा से हमारी सम्पूर्ण सेना को काल का ग्रास बना रहे हैं ।

उधर, भीमसेन दुर्योधन को दबोचे हुए हैं | हम लोगों के देखते-देखते वे उसे मार न डालें-इसके लिये प्रयत्न करना चाहिये । इन माद्री के पुत्रों अथवा राजा युधिष्ठिर को मारने से क्या लाभ होगा ? दुर्योधन का प्राण संकट में पड़ा है, उसे चलकर बचाओ” । कर्ण ने शल्य की यह बात सुनी और देखा कि दुर्योधन भीम सेन के चंगुल में फँस चुका है, तो युधिष्ठिर और नकुल-सहदेव को वहाँ ही छोड़कर आपके पुत्र को बचाने के लिये वह दौड़ पड़ा ।

उसके चले जाने पर युधिष्ठिर सहदेव के तेज चलने वाले घोड़ों द्वारा वहाँ से खिसक गये । राजा को अपनी पराजय के कारण बड़ी लज्जा हो रही थी । नकुल और सहदेव के साथ अपने घायल शरीर से छावनी पर पहुँचकर वे रथ से उतरे और एक सुन्दर पलंग पर लेट गये । उस समय उनके देह से बाण निकाल डाले गये तो भी हृदय के घाव से उन्हें बड़ी पीड़ा होने लगी ।

उन्होंने दोनों भाई माद्री के पुत्रों से कहा “भीमसेन मेघ के समान गरज कर लड़ रहे हैं, तुम दोनों सहायता के लिये उनकी ही सेना में जाओ” । उनकी आज्ञा पाकर नकुल दूसरे रथ पर सवार हुआ । सहदेव के पास तो रथ था ही । दोनों भाई अपने शीघ्रगामी घोड़े हाँक कर भीमसेन की सेना में जा पहुंचे ।