महाभारत युद्ध के समाप्त होने पर अश्वत्थामा द्वारा पाण्डवों का कपट पूर्वक वध करने का विचार करना

महाभारत युद्ध के समाप्त होने पर अश्वत्थामा द्वारा पाण्डवों का कपट पूर्वक वध करने का विचार करनामहाभारत युद्ध समाप्त हो चुका था और भीमसेन ने दुर्योधन का बेरहमी से वध कर डाला था | तब अश्वत्थामा, कृपाचार्य और कृत वर्मा ये तीनों वीर दक्षिण की ओर चले और सूर्यास्त के समय शिविर के पास पहुँच गये । इतने में ही उन्हें विजयाभिलाषी पाण्डव वीरों का भीषण नाद सुनायी दिया; अत: उनकी चढ़ाई की आशंका से वे भयभीत होकर पूर्व की ओर भागे तथा कुछ दूर जाकर उन्होंने मुहूर्त भर विश्राम किया ।

यह सब सुन कर राजा धृतराष्ट्र ने संजय से कहा “संजय ! मेरे पुत्र दुर्योधन में दस हजार हाथियों का बल था । उसे भीम सेन ने मार डाला-इस बात पर एकाएक विश्वास नहीं होता । मेरे पुत्र का शरीर वज्र के समान कठोर था । उसे भी पाण्डवों ने संग्राम भूमि में नष्ट कर दिया । इससे निश्चय होता है कि प्रारब्ध से पार पाना किसी प्रकार सम्भव नहीं है ।

भैया संजय ! मेरा हृदय अवश्य ही फौलाद का बना हुआ है जो अपने सौ पुत्रों की मृत्यु का संवाद सुनकर भी इसके हजारों टुकड़े नहीं हुए । भला, अब पुत्रहीन होकर हम बूढ़े-बुढ़िया कैसे जीवित रहेंगे ? मैं एक राजा का पिता और स्वयं राजा ही था । सो अब पाण्डवों का दास बनकर किस प्रकार अपना जीवन व्यतीत करूँगा ?

ओह ! जिसने अकेले ही मेरे सौ-के-सौ पुत्रों का वध कर डाला और मेरी जिंदगी के आखिरी दिन दुःखमय कर दिये, उस भीमसेन की बातों को मैं कैसे सुन सकूँगा ? अच्छा, संजय ! यह तो बताओ कि इस प्रकार बेटा दुर्योधन के अधर्म पूर्वक मारे जाने पर कृतवर्मा, कृपाचार्य और अश्वत्थामा ने क्या किया”?

संजय ने कहा “राजन् ! आपके पक्ष के ये तीनों वीर थोड़ी ही दूर गये थे कि इन्होंने तरह-तरह के वृक्ष और लताओं से भरा हुआ एक भयंकर वन देखा । वहाँ थोड़ी देर विश्राम करके उन्होंने घोड़ों को पानी पिलाया और थकावट दूर हो जाने पर उस सघन वन में प्रवेश किया ।

वहाँ चारों ओर दृष्टि डालने पर उन्हें एक विशाल वटवृक्ष दिखायी दिया, जिसकी हजारों शाखाएँ सब ओर फैली हुई थीं । उस वट के पास पहुँचकर वे महारथी अपने रथों से उतर पड़े और स्नानादि कर के संध्या वन्दन करने लगे । इतने में ही भगवान् भास्कर अस्ताचल के शिखर पर पहुँच गये और सम्पूर्ण संसार में निशा देवी का आधिपत्य हो गया ।

सब ओर छिट के हुए ग्रह, नक्षत्र और तारों से सुशोभित गगन मण्डल दर्शनीय वितान के समान शोभा पाने लगा । अभी रात्रि का आरम्भ काल ही था । कृतवर्मा, कृपाचार्य और अश्वत्थामा दुःख और शोक में डूबे हुए उस वटवृक्ष के निकट पास-ही-पास बैठ गये और कौरव तथा पाण्डवों के विगत संहार के लिये शोक प्रकट करने लगे ।

अत्यन्त थके होने के कारण नींद ने उन्हें धर दबाया । इससे आचार्य कृप और कृतवर्मा सो गये । यद्यपि ये महामूल्य पलंगों पर सोनेवाले, सब प्रकार की सुख सामग्रियों से सम्पन्न और दुःख के अनभ्यासी थे, तो भी अनाथों की तरह पृथ्वी पर ही पड़ गये |

किंतु अश्वत्थामा इस समय अत्यन्त क्रोध और रोष में भरा हुआ था । इसलिये उसे नींद नहीं आयी । उसने चारों ओर वन में दृष्टि डाली तो उसे उस वटवृक्ष पर बहुत-से कौए दिखायी दिये । उस रात हजारों कौओं ने उस वृक्ष पर बसेरा लिया था और वे आनन्द पूर्वक अलग-अलग घोसलों में सोये हुए थे । इसी समय उसे एक भयानक उल्लू उस ओर आता दिखायी दिया ।

वह धीरे-धीरे गुनगुनाता वट की एक शाखा पर कूदा और उस पर सोये हुए अनेकों कौओं को मारने लगा । उसने अपने पंजों से कई कौओं के पर नोच डाले, किन्हीं के सिर काट लिये और किन्हीं के पैर तोड़ दिये ।

इस प्रकार अपनी आँखों के सामने आये हुए अनेकों कौओं को उसने बात-की-बात में मार डाला । इससे वह सारा वट वृक्ष कौओं के शरीर और अंगावयवों से भर गया । नष्ट रात्रि के समय उल्लू का यह कपट पूर्ण व्यवहार देखकर अश्वत्थामा ने भी वैसा ही करने का संकल्प किया ।

उस एकान्त देश में वह विचारने लगा, “इस पक्षी ने अवश्य ही मुझे संग्राम करने की युक्ति का उपदेश किया है । यह समय भी इसी के योग्य है । पाण्डव लोग विजय पाकर बड़े तेजस्वी, बलवान् और उत्साही हो रहे हैं । इस समय अपनी शक्ति से तो मैं उन्हें मार नहीं सकता और राजा दुर्योधन के आगे उनका वध करने की मैं प्रतिज्ञा कर चुका हूँ ।

अब यदि मैं न्यायानुसार युद्ध करूँगा तो निःसंदेह मुझे अपने प्राणों से हाथ धोना पड़ेगा । हाँ, कपट से अवश्य सफलता हो सकती है और शत्रुओं का भी खूब संहार हो सकता है ।

पाण्डवों ने भी तो पद-पद पर अनेकों निन्दनीय और कुत्सित कर्म किये हैं । युद्ध के अनुभवी लोगों का ऐसा कथन भी है कि जो सेना आधी रात के समय नींद में बेहोश हो, जिसका नायक नष्ट हो चुका हो, जिसके योद्धा छिन्न-भिन्न हो गये हों और जिसमें मतभेद पैदा हो गया हो, उस पर भी शत्रु को प्रहार करना चाहिये” ।

इस प्रकार विचार करके द्रोणपुत्र ने रात्रि समय सोये हुए पाण्डव और पांचाल-वीरों को नष्ट करने का निश्चय किया । फिर उसने कृपाचार्य और कृतवर्मा को जगाकर अपना निश्चय सुनाया | वे दोनों महावीर अश्वत्थामा की बात सुनकर बड़े लज्जित हुए और उन्हें उसका कोई उत्तर न सूझा । तब अश्वत्थामा ने एक मुहूर्त तक विचार करके अश्रुगद्गद होकर कहा, “महाराज दुर्योधन ग्यारह अक्षौहिणी सेना के स्वामी थे।

उन्हें अनेकों क्षुद्र योद्धाओं ने मिलकर भीमसेन के हाथ से मरवा दिया | पापी भीम ने एक मूर्द्धा भिषिक्त सम्राट के मस्तक पर लात मारी-यह उसका कितना खोटा काम था | हाय! पाण्डवों ने कौरवों का कैसा भीषण संहार किया है कि आज इस महान् संहार से हम तीन ही बच पाये हैं ।

मैं तो इस सबको समय का फेर ही समझता हूँ । यदि मोहवश आप दोनों की बुद्धि नष्ट नहीं हुई है तो इस घोर संकट के समय हमारा क्या कर्तव्य है, यह बताने की कृपा करें” ।