ॐ, जिस मंत्र के उच्चारण मात्र से बढ़ती हुई उम्र थम जाती है

ॐ, जिस मंत्र के उच्चारण मात्र से बढ़ती हुई उम्र थम जाती हैहर किसी की चाह होती है कि वह सदा जवां और खूबसूरत दिखे। इसके लिए लोग पार्लर में हजारों रुपए खर्च कर देते हैं। लेकिन आज हम आपको एक ऐसा उपाय बताने जा रहे हैं जिसमें आपका एक पैसा भी खर्च नहीं होगा।

वह अदभुद मंत्र आपको लंबे समय तक युवा बनाये रखने में बहुत सहायक होगा। यह चमत्कारिक मंत्र है ॐ 

ॐ का उच्चारण

यदि आप ॐ का उच्चारण सही तरीके से नित्य करते हैं तो आप जीवन में सदा प्रसन्न रहने का रहस्य पा लेंगें। इस मंत्र की कीमत जिसने भी जानी वह खुशियों से मालामाल हो गया क्योंकि यह ॐ शब्द डायमंड से भी अधिक मूल्यवान है। यह शब्द तीन अक्षरों से मिलकर बना है अ, उ और म।

ॐ शब्द का अर्थ

ॐ का शाब्दिक अर्थ है ब्रह्म में लीन हो जाना। वास्तव में ॐ शब्द के उच्चारण के द्वारा हम दैवीय शक्ति को प्राप्त कर लेते हैं जिसकी चमक आपके चेहरे पर नजर आने लगती है। एक शोध के अनुसार ओम का नियमित उच्चारण करने वाले लंबा जीवन जीते हैं।

ॐ के जाप का तरीका

इस मंत्र का उच्चारण करने के लिये घर या बाहर की ऐसी जगह होनी चाहिए, जहां शुद्ध वायु की उपस्थिति हो और वह जगह साफ-सुथरी हो। आपको करना क्या है? सबसे पहले सूर्योदय के समय नहा-धोकर साफ-सुथरे वस्त्र पहन लें।उसके बाद आपको जमीन पर एक आसन बिछाना है। उस आसान पर पद्मासन की अवस्था में बैठ जायें।

इसके बाद पहले गहरी सांस भरे और फिर उस को धीरे-धीरे छोड़ते हुये ॐ का लंबा उच्चारण करें। यह क्रिया आपको नित्य 108  बार करनी है। इसके उच्चारण से आपको मिलेगा अद्भुत अनुभव। जिस आंतरिक प्रसन्नता से अब तक कोसों दूर थे, उसे आप ॐ के उच्चारण द्वारा पा लेगें।

ॐ के जप का जादू

यह आपके जीवन में खुशियाँ बिखेरता है।

  • ॐ का उच्चारण करने से आपकी सारी टेंशन कोसों दूर भाग जाती है। आप अपने आपको रिलैक्स महसूस करते हैं। आपके मन-मस्तिष्क में अभूतपूर्व प्रसन्नता छा जाती है।
  • सबसे आश्चर्य की बात यह है कि ॐ के उच्चारण के फलस्वरुप पैदा हुई आंतरिक प्रसन्नता पूरे दिन आपके साथ रहती है। जो आपकी कार्य क्षमता को बढ़ाती है। ॐ के उच्चारण के कारण फूलों की तरह हंसता हुआ आपका मुख आपको हर जगह कामयाबी दिलाता है।

आलस्य को दूर भगाता है।

  • ॐ का उच्चारण आपके शरीर में स्फूर्ति लाता है और आलस्य को दूर भगाता है। आप अपने तन-मन में ताजगी का अनुभव करते हैं जिसके कारण आपकी अपने कार्यों में सक्रियता बढ़ जाती है।

रक्त संचार को नियंत्रित करता है।

  • आज के जीवन की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोगों में उच्च और निम्न रक्तचाप की शिकायत दोनों देखने को मिलती है। जिसके लिए ॐ का उच्चारण औषधि के रूप में काम करती है। ओम असीम शांति प्रदान करता है जिसके कारण रक्त संचार नियंत्रित रहता है।
  • वाराणसी के एक एडवोकेट अर्पित खरे अपना अनुभव बताते हैं कि वे पिछ्ले पाँच वर्षों से ओम को अपने जीवन में अपनाये हुए है। वे पहले हाई ब्लड प्रेशर की मेडिसिन लेते थे लेकिन ओम के नियमित उच्चारण से उन्हें उस टेबलेट से छुटकारा मिल गया।

थकावट छू मंतर करता है।

  • जिन्होने भी इस मंत्र ॐ का उच्चारण किया उन्होनें इसके चमत्कार को जान लिया। आप भी इस मंत्र को उस समय अवश्य आजमा कर देखें जब आप बहुत थके हुये हों यह चमत्कारिक उपाय तन और मन दोनों की थकावट को दूर करता है।दिन में कभी भी काम करते-करते यदि आप थकावट का अनुभव करें तो केवल 2 मिनट ओम का उच्चारण करके आप संपूर्ण शरीर में ऊर्जा का संचार कर सकते हैं।

गहरी नींद आती है।

  • यदि आप हर सुबह ओम का उच्चारण करते हैं तो आपकी नींद नियमित हो जाती है। इसके अलावा यदि किसी को नींद कम आने की समस्या है तो वह भी दूर हो जाती है।
  • अगर आप बिस्तर पर सोने के पूर्व हर रात ओम का उच्चारण करें तो आपको मिलेगी गहरी नींद जिसके कारण सुबह आपका चेहरा गुलाब की तरह खिला नजर आयेगा।

पाचन क्रिया को बेहतर करता है।

  • ॐ का उच्चारण आपके पाचन तंत्र को मजबूत बनाता है जिसके कारण आपको खुलकर भूख लगती है और खाना शरीर में लगता है। सबसे बड़ी बात ॐ का उच्चारण आपको सात्विक बनाता है।

थायराइड की शिकायत दूर करता है।

  • ॐ के उच्चारण के कारण आपके स्वर और गले में कंपन उत्पन्न होता है जिसके फलस्वरूप थायराइड ग्रंथि पर सुधारात्मक कार्य प्रारंभ हो जाता है। जिसके कारण आप थायराइड की समस्या से मुक्त हो जाते हैं

मानसिक समस्याएं दूर होती है।

  • ॐ के उच्चारण से मस्तिष्क से जुड़ी हुई तमाम परेशानियां दूर हो जाती हैं। आपका चिड़चिड़ापन और निराशा जैसी नकारात्मक स्थितियों में परिवर्तन होता है। होमियोपैथ चिकित्सक डॉ. कमल का कहना है कि मेरे पास मानसिक परेशानियों से जुड़े जो भी मरीज आते हैं उन्हें मैं अपनी दवा खाने के साथ-साथ ॐ के उच्चारण का परामर्श अवश्य देता हूँ क्योंकि यह ब्रेन बूस्टर है।

सांस की बीमारी जड़ से ठीक होती है।

  • यदि आपको अपने फेफड़े स्वस्थ रखने हैं तो ॐ का उच्चारण आपके लिए शत-प्रतिशत कारगर है क्योंकि इसमें वायु ओर स्वर का सब खेल है। ॐ के उच्चारण से सांस की हर बीमारी दूर हो जाती है।

स्मरण शक्ति बढ़ाता है।

  • यदि आप अपने बच्चों को ॐ का उच्चारण करायें तो वे कुशाग्र बनते हैं। उनकी एकाग्रता बढ़ती है साथ ही वे बच्चे अपने याद किए हुए पाठ को देर तक याद रख पाते हैं। सुबह का ॐ का उच्चारण आपके पढ़ने वाले बच्चों के लिए मानसिक टॉनिक है।
  • मध्य प्रदेश के रीवां की मनोचिकित्सक डॉ. आराधना ने दिमागी रूप से कमजोर बच्चों पर ॐ के जाप का प्रयोग करके देखा। उन्हें इस शोध से काफी सकारात्मक परिणाम देखने को मिले।

चेहरा उम्र से छोटा नज़र आता है।

  • ॐ के उच्चारण के कारण आपका चेहरा आपकी उम्र से काफी वर्ष कम नज़र आता है क्योंकि ओम का मंत्र आपकी बढ़ती हुई उम्र को थाम लेता है।