बिना तोड़-फोड़ वास्तु उपाय

बिना तोड़-फोड़ वास्तु उपाय

वैसे तो मकान बनाने के पूर्व ही वास्तु विशेषज्ञ से परामर्श ले लेना चाहिए ताकि मकान में बनने वाले मुख्य द्वार, ड्राइंग रूम, किचेन, लैट्रीन, बाथरूम, स्टडी रूम , पूजा घर, बरामदा और सीढ़िया आदि उचित दिशाओं में बने और साथ ही जल तत्व, अग्नि तत्व आदि को सही स्थान मिले। लेकिन यदि मकान बनाते समय वास्तु विशेषज्ञों की राय नहीं ली जाती हैं। जिसके फलस्वरूप मकान में वास्तु शास्त्र के निर्देशों का पालन नही हो पाता हैं ।

तो उसके कारन कारण मकान में वास्तु दोष उत्पन्न हो जाता है। ऐसे वास्तुदोष युक्त मकान में रहना मंगलकारी नहीं होता है। घर में परिवार के सदस्यों में आपसी प्रेम नहीं रहता है़। घर में कलह का वातावरण बना रहता है। घर के सदस्यों को आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ता है। घर में रहने वाले लोगों की उन्नति का मार्ग अवरुद्ध हो जाता है। घर के सदस्य बीमार रहने लगते हैं। यह सभी घर में वास्तु दोष होने के ही लक्षण होते हैं।

इसलिए ऐसे मकान में वास्तु दोषों का समाधान आवश्यक है। जिसके कारण मकान में रहने वाले परिवार के सदस्यों को परेशानी का सामना करने से मुक्ति मिल सके। किसी भी घर के वास्तु दोष के समाधान के लिए दो प्रमुख उपाय हैं। जिनके द्वारा घर को वास्तु दोषों से मुक्त किया जा सकता है़। पहला उपाय यह है कि हम घर को उन वास्तु दोषों से मुक्त करने के लिए तोड़फोड़ करके अपेक्षित बदलाव लाए, जिससे वास्तु दोष समाप्त हो सके।

वास्तु दोष के लक्षण

लेकिन मकान में तोड़-फोड़ करने से, वास्तु दोष से मुक्त करने के लिए अधिक व्यय होने की संभावना रहती है़। इसके अतिरिक्त दूसरा उपाय बिना तोड़फोड़ किये वास्तु दोषों से मुक्ति पाने का है। आज हम इसी दूसरे उपाय की चर्चा करेंगे जिसमें कि हम बिना किसी बहुत अधिक खर्च के अपने जीवन में थोड़ा सा बदलाव लाकर अपने घर के अमंगलकारी वातावरण को मंगलकारी बना सकते हैं। यह वह रास्ता है़ जिसमें हम छोटा सा उपाय करके अपने घर को लाभकारी बना सकते हैं।

घर के मुख्य द्वार के सामने पानी का छिड़काव करें

घर के मुख्य द्वार के सामने पानी से छिड़काव आदि करके हमें उसे नम बनाये रखना चाहिए। हमारे द्वारा किया जाने वाला यह कार्य हमारे मकान को वास्तु दोषों से मुक्त करता है। साथ ही माँ लक्ष्मी के आने का मार्ग प्रशस्त करता है । अपने घर के आसपास पानी के छिड़काव करने से हमारे घर के आस-पास पेड़-पौधे एवं छोटे-छोटे जीव जंतुओं को उनके जीवन के लिए जल की प्राप्ति होती रहती हैं । कहावत है़ कि जीवन दान, महा कल्याण। फिर कर कल्याण तो हो कल्याण। इसलिए अपने घर के प्रवेश मार्ग पर किया गया जल छिड़काव वास्तु दोष मुक्ति का वह मार्ग है़ जो हमारे लिए सुख व समृद्धि की राह खोलता है़।

वास्तु के अनुसार घर

मकान में नित्य ॐ की ध्वनि बजायें

ऐसा मकान जो वास्तु दोषों से युक्त हो उस मकान के लिए यह बहुत अचूक उपाय है़। इसके अन्तर्गत घर में अनिवार्य रूप से प्रातः काल एवं सायंकाल के समय हल्की ध्वनि में ॐ या हनुमान चालीसा के पाठ का स्वर प्रसारित करें। यदि आप हिंदू धर्म के अलावा किसी अन्य धर्म के अनुयायी हैं तो अपने धर्म से संबंधित मंगलकारी ध्वनि को बजा सकते हैं।

इस संबंध में शास्त्र कहते है कि हमारे ऐसा करने से मकान के समस्त दोष तो नष्ट होते ही हैं वहीं आपके मकान में दैवीय शक्ति का वास होने लगता है। ऐसा कहा जाता है कि जहां दैवीय शक्ति का वास होता है वहां कोई दोष शेष नहीं रहता। साथ ही मकान का पूरा वातावरण सकारात्मक ऊर्जा से भर जाता है।

घर में हवन करें या धूप बत्ती जलाये

यदि आपके घर में कोई वास्तु दोष हो तो सप्ताह में एक बार भगवान के पूजन के पश्चात हवन करें। ताकि हवन का धुआं हमारे घर के वातावरण को शुद्ध बना सके। लेकिन यदि आप ऐसा करने में असमर्थ हैं तो घर में नित्य धूप बत्ती जलायें। यह धूपबत्ती लौभान या असगंध की हो तो अति उत्तम है। इसकी सुगंध आपके घर में नकारात्मक ऊर्जा का नाश करती है़ और सकारात्मक ऊर्जा भर देती है़।

यदि इस साप्ताहिक हवन में घर के सभी सदस्य भाग लें और गायत्री मंत्र के शुद्ध उच्चारण के साथ हवन सामग्री प्रज्जवलित अग्नि की लौ में डालें तो अति उत्तम है़। परिवार के सभी सदस्यों का मिलकर सामूहिक हवन घर में मंगलमय समय लाता है़।

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर की सीढ़ियाँ

घर में तुलसी के पौधे को स्थान दें

यह उपाय सदियों से अपनाया जा रहा है। आप अपने घरके उत्तर कोण में श्यामा अथवा रामा तुलसी लगायें। कहा भी जाता है कि जिस घर में तुलसी का पौधा होता है़ वहाँ का वातावरण दोष मुक्त और पवित्र होता है। नित्य श्रद्धा पूर्वक तुलसी के पौधे को जल अर्पित कर आप वास्तु दोषों से मुक्ति पा सकते हैं।

घर के द्वार पर स्वास्तिक का चिन्ह बनायें

स्वास्तिक हिन्दू धर्म का वह पवित्र चिन्ह है़ जो घर के तमाम दोषों को दूर कर घर में प्रसन्नता लाता है़। इसके लिए आपको हल्दी या सिंदूर से घर के मुख्य द्वार पर सही आकृति का स्वास्तिक का निशान बनाना चाहिए। जिस चिन्ह के धूमिल हो जाने के बाद उसे पुनः नया बनाना चाहिए। यह एक चमत्कारिक उपाय है़। यदि आप किसी अन्य धर्म से संबंघ रखते हैं तो आप अपने धर्म से संबंधित पवित्र चिन्ह बना सकते हैं।

हर मंगलवार सुंदरकांड का पाठ करें

घर के वास्तु दोष के समाधान के लिए यह वह उपाय है़ जो कभी खाली नहीं जाता। क्यों कि यह वह शक्तिशाली मार्ग है़ जिसके कारण आप और आपके घर पर बजरंग बली की कृपा हो जाती है़। जिस घर पर पवनसुत हनुमान जी की कृपा हो जाये उसका कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता।

इसलिए मंगलवार या शनिवार के दिन सायंकाल के समय हनुमान जी की मूर्ति के सामने घी का दीपक जलाकर शुद्ध उच्चारण के साथ सुंदर कांड का पाठ करना चाहिए और पाठ के पश्चात बेसन के लड्डू प्रसाद के रूप में परिवार के सदस्यों और पड़ोसियों में वितरित करना चाहिए।

भोजन सही दिशा में बैठकर करें

वास्तु दोषों को प्रभाव हीन करने के लिए हमें सही दिशा में बैठ कर अपना खानपान करना चाहिए। हम जब भी पानी पीयें तो पानी पीते समय हमारा मुंह उत्तर या पूर्व दिशा में होना चाहिए। साथ ही खाना खाते समय हमारा मुख पूर्व दिशा की ओर होना चाहिए। कभी भी दक्षिण दिशा की ओर मुंह करके खाना नहीं खाना चाहिए। हम अपने दैनिक जीवन में थोड़ा सा बदलाव लाकर घर में मंगलकारी वातावरण उत्पन्न कर सकते हैं ।

वास्तु के अनुसार बेडरूम का कलर

घर के द्वार पर नित्य दीपक जलाएं

घर में किसी भी वास्तु दोष के समाधान के लिए हमें घर के मुख्य द्वार पर सरसों के तेल का एक छोटा सा दीपक जलाना चाहिए। यह छोटा सा दीपक आपके घर में बाहर से आने वाली नकारात्मक ऊर्जा के खिलाफ खड़ा होता है। जिसके कारण आपके घर में नकारात्मक ऊर्जा प्रवेश नहीं कर पाती।

सीढ़ियों के नीचे सुगंधित पौधों के पॉट्स रखें

यदि आपके घर की सीढ़ियों में कोई वास्तु दोष है तो सीढ़ियों के नीचे से सारा कबाड़ हटा दें और उसके स्थान पर सुगंधित पौधों के पार्ट्स रख दें। जिसके कारण उत्पन्न होने वाला सुगंधित वातावरण हमारे घर में खुशहाली लायेगा। साथ ही घर की नकारात्मकता को दूर करेगा।

घर की छत पर पंछियों को पीने के लिए जल रखें

घर के दोषों को दूर करने के लिए यह एक कारगर उपाय है। आप एक बर्तन में जल भरकर अपनी छत पर रख दें। इधर उधर से उड़कर आने वाले प्यासे पंछी जब आपके द्वारा रखे हुये जल को पीकर तृप्त होंगे तो उनके हृदय से निकलने वाली शुभकामनायें आपके लिए ईश्वर की कृपा के तुल्य होगी।

घर में फिश एक्वेरियम रखें

घर में फिश एक्वेरियम रखना वास्तु दोष दूर करने का सर्वोत्तम उपाय है क्यों इस मार्ग के द्वारा आप पानी में तैर रही छोटी-छोटी मछलियों के खानपान आदि का ध्यान रखने लगते हैं आपके द्वारा बढ़ाया गया यह कदम आपका भाग्योदय करने में सहायक होता है

घर में आने वाले मेहमानों को प्रसन्न रखें

ऐसा कहा जाता है कि भगवान हर जगह स्वयं नहीं पहुंच सकते इसलिए वह मेहमान के रूप में आपके घर में प्रवेश कर जाते हैं। यदि आप अपने घर में आए हुए मेहमान का ठीक तरह से आदर सत्कार करते हैं तो निश्चित रूप से आपका ऐसा करना घर में खुशहाली लाता है।

आपकी डोरबेल की तेज आवाज बिगाड़ सकती है घर की सेहत

आवारा पशुओं को रोटी दे

अपने घर के आस-पास विचरण करने वाले आवारा पशुओं को अपने खाने पीने की वस्तुओं में से कुछ हिस्सा अवश्य दें। आपके ऐसा करने  से घर में प्रभु कृपा का रास्ता खुलता है।

मकान में से अनुपयोगी वस्तुओं को हटाते रहें

ऐसा देखा गया है लोग कि अपने घरों में पुरानी और अनुपयोगी वस्तुओं को भी रखे रहते हैं। यह वस्तुएं आपके घर में वास्तु दोषों को बढ़ावा देती हैं। इसलिए ऐसे अनुपयोगी कबाड़ को घर से दूर करते रहें। साथ ही घर में पड़ी बंद घड़ी, टूटे बर्तन, फटे पुराने कपड़ों को तुरंत हटा दें। क्योंकि इनसे निकलने वाली नेगेटिव एनर्जी हमारे घर की पॉजिटिव एनर्जी को प्रभावित करती है ।

घर में काम करने वाले कर्मचारियों को प्रसन्न रखें

शास्त्र कहता है़ कि आपके घर में साफ सफाई आदि का काम करने वाले लोग शनि देव के प्रतिनिधि हैं। यदि आप इन मेहनतकश कर्मचारियों को समय-समय पर  धन या पुरस्कार आदि देकर प्रसन्न रखेंगे तो शनि देव आपसे खुश हो जाएंगे। जिस घर पर शनि देव की कृपा हो जाती है l वहाँ कोई दोष बाकी नहीं रहता।