जहाँ भूत ट्रेन को रोकने लगता है

जहाँ भूत ट्रेन को रोकने लगता हैहम सभी यह जानते हैं कि ट्रेन या तो रेलवे स्टेशन पर रूकती है या ऐसी जगह रूकती है जहाँ रेल ड्राइवर किन्हीं परिस्थितियों में ट्रेन को रोकने के लिए ब्रेक लगाते है। लेकिन आपको जानकर आश्चर्य होगा कि अपने ही देश में एक ऐसा रेल मार्ग है़ जहाँ ट्रेनें बिना ब्रेक लगाए रुकने लगती हैं। जैसे कोई अदृश्य शक्ति ट्रेन को रोकने के लिए बल लगा रही हो।

यह स्थान न तो कोई स्टेशन है़ और न ही कोई और स्टॉपेज। फिर ऐसा क्या रहस्य है कि इस रेल मार्ग पर ट्रेन की गति अपने आप धीमी होने लगती है। इस रेल मार्ग पर वह कौन से भूत-प्रेत का साया है जो आने-जाने वाली ट्रेनों पर सवार हो जाता है और ट्रेन में चेन पुलिंग होने लगती है।

आश्चर्य की बात यह है कि इस रेलवे ट्रैक पर ट्रेनों के साथ होने वाली यह रहस्यमय घटना एक निश्चित समय पर ही होती है। पूरे दिन इस रेल मार्ग पर ट्रेनें धड़ाधड़ दौड़ती रहती है। लेकिन जहाँ रात के 1 से 2 बजे के बीच का समय होता है तो इस रेलमार्ग में गुजरने वाली ट्रेनें बिना ब्रेक लगाए रुकने लगती है।

ऐसा क्यों होता है़? जिसके कारण इस रेल मार्ग पर ट्रेनें खुद रूकनें लगतीं है? दरअसल इसके पीछे एक दर्दनाक सच छिपा हुआ है। आज उसी सच को हम आपके सामने उजागर करने जा रहे हैं।

नार्दन रेलवे के लोन्स स्टेशन के करीब अपने आप रुकने वाली रेलगाड़ियों की यह घटना लगभग 60 साल से अधिक पुरानी हैं। कहा जाता है कि इस स्थान पर एक प्रेमी नवयुवक की दुर्भाग्यवश ट्रेन से कटकर मृत्यु हो गई थी। जिसके कारण ही इस रेल मार्ग पर भूत का साया उत्पन्न हो गया। आइये जानते हैं कि वह प्रेमी कौन था ? उसने रेलवे लाइन पर कूदकर जान क्यों दी? जानते हैं यह पूरी घटना क्या थी?

इस भूतिया स्थान का इतिहास 

यह यह घटना वर्ष 1960 की है। एक प्रेमी नवयुवक अपनी प्रेमिका से मिलने की चाह में एक फास्ट ट्रेन पर चढ़ गया, जो इस लोन्स जैसे छोटे से रेलवे स्टेशन पर नहीं रुकती थी। उस नवयुवक की प्रेमिका इसी लोन्स नामक छोटे से स्टेशन के करीब एक गाँव में रहती थी।

उसे अपनी प्रेमिका के दीदार की चाह थी या यह प्यार का जुनून था, जिसके कारण वह प्रेमी नवयुवक उस फास्ट ट्रेन में चढ़कर अपनी प्रेमिका से मिलने तो चल दिया। लेकिन जब उसकी प्रेमिका के गाँव का छोटा सा स्टेशन आया।

तब भी उसकी ट्रेन रुकी नहीं बल्कि रेल की पटरियों पर धड़ाधड़ दौड़ती चली जा रही थी। अब उस प्रेमी नवयुवक को ध्यान आया कि वह पैसेंजर नहीं बल्कि एक्सप्रेस ट्रेन पर चढ़ गया है जो छोटे-मोटे स्टेशन पर नहीं रुकती है।

अब वह प्रेमी बहुत परेशान हो गया कि अब वह अपनी प्रेमिका से किस प्रकार मिल सकेगा? वह प्रेमी नवयुवक ट्रेन को रोकने के लिए उस ट्रेन की बोगी के अंदर चेन पुलिंग करने लगा।

लेकिन ट्रेन की बोगी के अंदर वाली चेन शायद खराब थी या और कोई तकनीकी प्रॉब्लम थी क्योंकि उसके द्वारा चेन पुलिंग करने के बाद भी ट्रेन नहीं रुक रही थी। अब वह प्रेमी नवयुवक बहुत हैरान-परेशान होकर भाग-भागकर उस बोगी की सारी चेनों को खींचने लगा।

लेकिन ट्रेन फिर भी तेज स्पीड में भागी चली जा रही थी। ट्रेन के सभी यात्री आश्चर्य से उस प्रेमी नवयुवक को देख रहे थे। जो किसी तरह बस इस ट्रेन को इस स्थान पर रुकवाना चाहता था ताकि वह किसी प्रकार अपनी प्रेमिका से मिल सके।

लेकिन ट्रेन तो पटरी पर तेज गति में दौड़ी चली जा रही थी। तब उस प्रेमी नवयुवक ने आव देखा न ताव, और ट्रेन से कूद पड़ा। ट्रेन से कूदते ही दुर्भाग्यवश वह नवयुवक पटरियों के बीच में आ गया और उसकी उसी समय दर्दनाक मृत्यु हो गई। ट्रेन में बैठे यात्रियों की कोशिश के बाद वह ट्रेन अब रुक गई थी ।

यात्रियों की भीड़ जब उसने प्रेमी नवयुवक के मृत शरीर के निकट पहुंची तो देखा उसके हाथ में एक लड़की का फोटो था। उसकी मौत की घटना के पीछे का कारण साफ हो गया। उस लड़के ने जिस जगह पर उस ट्रेन से छलांग लगाई थी, उसके पीछे के छोटे स्टेशन के एक गांव में उसकी प्रेमिका रहती थी।

जिससे मिलने के लिए वह ट्रेन से आ रहा था लेकिन जाने-अनजाने वह फास्ट ट्रेन पर चढ़ गया जो छोटे स्टॉपेज पर नहीं रुकती थी। उसने अपनी प्रेमिका के गाँव वाले छोटे स्टेशन पर उस ट्रेन को रोकने की लाख कोशिश की, लेकिन वह ट्रेन नहीं रुकी और अंत में उस प्रेमी नवयुवक ने कूदकर जान दे दी।

उस दिन की घटना के बाद इस रेल मार्ग पर अनोखी घटनायें घटित होने लगी। रात के समय इस रेल मार्ग से गुजरने वाली ट्रेन बिना ब्रेक लगाए रूकने लगतीं है़। यह रहस्यमय घटना यहाँ वर्षों से हो रही है। जब इस रेल मार्ग से गुजरने वाले रेल यात्रियों को इस घटना का पता चलता है तो वे अवाक रह जाते हैं। कुछ लोगों का कहना है कि इस रेल मार्ग पर जहां उस प्रेमी ने कूद कर जान दे दी, वहाँ उसकी आत्मा भटक रही है।

जो आती-जाती ट्रेनों को रोक रही है। सच जो भी हो लेकिन इस क्षेत्र में यह रेल मार्ग चर्चा का विषय है। इस मार्ग पर ट्रेन चलाने वाले रेलवे ड्राइवर अचंभित हो जाते हैं जब उनके ब्रेक बिना लगाये इस जगह के रेलवे ट्रैक पर ट्रेन खुद रुकने लगती है। कुछ लोगों का कहना है कि यदि उस दिन ट्रेन उस प्रेमी नवयुवक के रोकने पर रुक जाती तो इस ट्रैक पर भूत का साया नहीं होता।