चिंतामन गणेश मंदिर, डिप्रेशन दूर करने के लिए डॉक्टर भी उस मंदिर में एक बार जाने की सलाह देते हैं

चिंतामन गणेश मंदिरभगवान राम जब माता सीता और भाई लक्ष्मण को लेकर बनवास के लिए निकले, तो उज्जैन के क्षेत्र में पहुंचकर न जाने क्यों उनको अनेक चिंताओं ने घेर लिया। प्रभु राम सोचने लगे कि भाई लक्ष्मण और पत्नी सीता को लेकर जंगल में निकल तो पड़े हैं लेकिन राह में किसी भारी समस्या का सामना न करना पड़े। इस चिंता से मुक्ति पाने के लिए उन्होंने भगवान श्री गणेश जी का ध्यान किया।

श्री गणेश भगवान ने उन्हें चिंता मुक्ति का वरदान दिया। भगवान गणेश की प्रेरणा से ही उन्होंने चिंता को दूर करने वाली भगवान गणेश की मूर्ति की स्थापना की। गणेश जी की कृपा से भगवान श्री राम के मन की सारी चिंताएं दूर हो गई।

अब उनके मन में चिंताओं की जगह प्रसन्नता ने अपना स्थान बना लिया। इसीलिए भगवान श्रीराम जंगलों में भी राजभोग की जगह कंदमूल खाकर और महल में रहने की जगह घास फूस की कुटिया में रहकर भी प्रसन्नचित्त रहते थे।

आपको जानकर आश्चर्य होगा कि भगवान श्री राम द्वारा स्थापित यह अदभुत मंदिर आज भी भव्य रुप में अपना यश पताका फहरा रहा है। भक्तगण आज भी इस मंदिर में नतमस्तक होकर अपनी सारी चिंताओं से मुक्ति पा लेते हैं।

कहाँ है यह मंदिर

चिंताओं से मुक्ति प्रदान करने वाला यह मंदिर चिंतामन गणेश मंदिर कहलाता है। यह मंदिर मध्य प्रदेश राज्य के उज्जैन में स्थित है। चिंतामन गणेश मंदिर उज्जैन के ही महाकालेश्वर मंदिर से कुछ दूरी पर बना हुआ है।

इस मंदिर में भगवान गणेश जी की सुंदर मूर्ति है। मंदिर में भगवान तीन रूपों में दर्शन दे रहे हैं वे तीन रूप हैं-चिंतामन, इच्छा मन और सिद्धिविनायक। विभिन्न रूप में विराजमान इस मंदिर के भगवान भक्तों के लिये कल्याणकारी हैं।

किसने कराया इस मंदिर का निर्माण

चिंतामन गणेश मंदिर की शुरूआत भगवान श्रीराम ने उस समय की जब वह वनवास के दौरान इस उज्जैन के क्षेत्र से गुजर रहे थे। बाद में अनेक शासकों ने इस मंदिर को भव्य स्वरूप प्रदान किया।

इस मंदिर का जीर्णोद्धार कराने वालों में महारानी अहिल्याबाई का नाम सबसे पहले लिया जाता है। जिस समय महारानी अहिल्या बाई अपने आसपास के दुश्मन राजाओं के आक्रमण से चिंता ग्रस्त रहती थी।

तभी एक दिन महारानी को उनके वरिष्ठ राजकीय पुरोहित ने उन्हें चिंतामन गणेश जी की शरण में जाने के लिए कहा। पुरोहित की बात मानकर महारानी अहिल्या बाई चिंतामन गणेश जी के मंदिर में नित्य पूजा अर्चना करने के लिए जाने लगी।

महारानी अहिल्याबाई के मन से चिंता दूर होने लगी 

वह अब निडर होकर अपना शासन करने लगी। चिंतामन गणेश जी की आराधना ने महारानी अहिल्या बाई के राज्य को सुख और समृद्धि से भर दिया। महारानी अहिल्या बाई ने चिंतामन गणेश मंदिर को एक अत्यंत सुंदर एवं भव्य रूप प्रदान किया। इतिहासकारों के अनुसार यह 18 वीं शताब्दी की बात थी।

चिंतामन गणेश मंदिर में कब लगता है भक्तों का मेला

वैसे तो पूरे वर्ष इस चिंतामन गणेश मंदिर में भक्तों का आवागमन लगा रहता है। लेकिन इस मंदिर में एक वह समय होता है़ जब दर्शन के लिए भारी भीड़ देखने को मिलती है। यह चिंतामन गणेश मंदिर गणेश चतुर्थी से लेकर अनंत चतुर्दशी तक दर्शनार्थियों से खचाखच भरा रहता है। इस समय आने वाले भक्तों को भगवान गणेश का विशेष आशीर्वाद मिलता है।

मनोचिकित्सक देते हैं चिंतामन गणेश मंदिर जाने की सलाह

आपको जानकर आश्चर्य होगा कि दवाओं से कोई परिणाम न निकलने पर मनोचिकित्सक अपने डिप्रेशन के रोगियों को चिंतामन गणेश मंदिर जाने की सलाह देते हैं। क्योंकि वे जानते हैं कि यह वह धाम है़ जहाँ चमत्कार होता है। भक्तगण निराशा में डूबे हुये मंदिर में प्रवेश करते हैं और आशा का अलौकिक प्रकाश लेकर वापस अपने घर जाते है।