घर की छत पर ध्वज (झंडा) लगाना, दे सकता है आपको ढेरों लाभ

घर की छत पर ध्वज (झंडा) लगाना, दे सकता है आपको ढेरों लाभआपने अपने आस -पास के घरों के ऊपर ध्वज या झंडे लगे हुये देखें होंगे। संभव है़ कि आपने भी कभी अपने घर के ऊपर ध्वज लगाने के बारे में सोंचा होगा। बल्कि हो सकता है़ कि आपने अपने घर की छत पर ध्वज लगाया भी हो। लेकिन यदि कोई भी कार्य निश्चित विधि -विधान के साथ किया जाता है़ तो ही हमें इच्छित फल की प्राप्ति होती है़।

ज्योतिष शास्त्र में घर की छत पर लगाये जाने वाले ध्वज के लिए निश्चित रंग बताये गये हैं। साथ इस बात के भी दिशा -निर्देश दिये गये हैं कि उस ध्वज का आकार कैसा हो। यह भी बताया गया है कि ध्वज पर कौन सा चिन्ह बना होना हमारे लिए शुभ है़।

अब मन में यह प्रश्न उठता है़ कि घर की छत पर झंडा लगाने के पीछे उद्देश्य क्या है़? अब आप थोड़ा विचार कीजिए कि प्राचीन काल में, किलों और राजमहलों के ऊपर ध्वज लगाये जाते थे और आपने य़ह भी सुना होगा कि उन महलों में कितनी सुख और समृध्दि होती थी (सिवाय उनके पतन काल के)।

कौन नहीं चाहेगा कि हमारे घर भी देवी लक्ष्मी की कृपा हो जाये। कहने का अर्थ यह की किसी भी घर को वैभवशाली बनाने में छत पर लगे ध्वज की भी बड़ी भूमिका है़। ध्वज को अपने आवासीय स्थान पर लगाये जाने से होने वाले लाभों के बारे में प्राचीन लोग अच्छी तरह जानते थे। लेकिन आज हम उस प्राचीन परंपरा को भूलते जा रहें हैं।

किन्तु यहाँ यह बताना भी आवश्यक होगा कि घर के ऊपर बिना सोंचे-समझे कोई भी ध्वज लगाना लाभकारी नहीं होताहै़। इसलिए हम इस लेख में पौराणिक पुस्तकों द्वारा उल्लेख किये गये मंगलकारी ध्वजों की ही चर्चा करेंगे, जिसमें से किसी एक ध्वज को लगाया जाना ही आपके लिए कल्याणकारी है़।

ज्योतिष और वास्तुशास्त्र के अनुसार हम आपको यह जानकारी देंगे कि आपको अपने जीवन में नयी ऊर्जा लाने के लिये अपने आवास पर किस आकृति का और कौन से रंग का ध्वज लगाना चाहिए। साथ ही हम इस बात को भी बताएंगे कि छत पर लगाये जाने वाले उस झंडे पर कौन सा चिन्ह बना होना चाहिए, जो आपके लिए उत्तम रहेगा ।

साथ ही इस बात की भी चर्चा करेंगे कि यह ध्वज अपने मकान की छत पर किस दिशा में लगाया जाना चाहिए, जिससे की उसका मंगलकारी प्रभाव आपके आवास पर सदा बना रहे। आइये पहले विस्तार से जानते हैं कि छत पर लगा ध्वज किस प्रकार हमारे जीवन को लाभान्वित करता है़।

घर के ऊपर ध्वज लगाने से लाभ

1.आर्थिक समस्याओं से मुक्ति मिलती है़

जिस घर के ऊपर भी ध्वज लगाया जाता है़ उस भवन पर दैवीय कृपा हो जाती है़। साथ ही ध्वज के प्रभाव से घर के समस्त वास्तु दोषों का अंत हो जाता है़। जिसके फलस्वरूप आर्थिक समृध्दि के रास्ते खुलने लगते हैं और घर में माँ लक्ष्मी की कृपा दिखाई देने लगती है़।

इसके लिए हमें इस बात को ध्यान अवश्य रखना होगा कि आपके द्वारा छत पर लगाये जाने वाला ध्वज त्रिकोणीय हो और उस पर स्वस्तिक का चिन्ह अवश्य अंकित हो।

2.सकारात्मक ऊर्जा का विकास होता है़

घर के ऊपर ध्वज लगाये जाने का सबसे बड़ा लाभ यह है़ कि छत के ऊपर फहरते हुये ध्वज को जब हम और हमारे परिवार के बच्चे देखते हैं तो हमारे अंदर प्रसन्नता का संचार होता है़।

यह प्रसन्नता का संचार ही हमारे जीवन में सकारात्मक ऊर्जा भर देता है़। जिससे की ध्वज वाले घर में रहने वाला हर सदस्य प्रगति की ओर बढ़ता है़।

3. रोग और शोक का नाश होता है़

जब हम अपने घर की छत पर ध्वज को उत्तर-पश्चिम दिशा में लगाते हैं तो हमारे घर की सारी नकारात्मक ऊर्जा नष्ट हो जाती है़। हमारेआवास की निगेटिव एनर्जी के समाप्त होते ही घर के सारे रोगों ओर शोकों का नाश हो जाता है़ और दुर्घटनाओं से बच जाते हैं।

4. बुरी नजर से बचाता है़

घर में लगा ध्वज हमारी और हमारे घर की बुरी नजर से रक्षा करता है़। किसी भी व्यक्ति द्वारा हमारे आवास पर बुरी नजर डालने पर उसका कोई दुष्प्रभाव हम पर नहीं पड़ पाता है़, क्योंकि किसी व्यक्ति के द्वारा दी जाने निगेटिव एनर्जी फहरते हुये ध्वज के माध्यम से दूर कहीं छिटक जाती है़। जिससे की हम उसकी नकारात्मक दृष्टि से बच जाते हैं।

5. घर पर लगा ध्वज मंगल का प्रतीक है़

हम सभी जानते हैं कि किसी भी देव स्थान या मंदिर के ऊपर एक या अनेक ध्वज अवश्य लगाये जाते हैं। लेकिन जब हम अपने घर के ऊपर ध्वज लगा देते हैं तो हमारा घर भी एक मंदिर के समान बन जाता है़, जिसके कारण प्रभु की कृपा हमारे घर-आँगन में बरसने लगती है़।

6. पुरूषार्थ को बढ़ाता है़

घर के ऊपर ध्वज लगाने से हमारा जीवन पहले से अधिक उत्साही हो जाता है़। हम कोई भी बड़ा से बड़ा काम करने से पीछे नहीं हटते बल्कि ऐसी स्थिति में हमें असंभव कार्य को संभव बनाने की प्रेरणा मिलती है़। क्योंकि हमारे पुरुषार्थ को बढ़ावा मिलता है़।

ध्वज किस रंग का लगाया जाना चाहिए

बाजार में धार्मिक वस्तुओं की दुकानों पर तरह-तरह के ध्वज बिकते रहते हैं, लेकिन आपको उस रंग और आकार वाला ध्वज खरीदना चाहिए जो आपके लिये सर्वोत्तम हो। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार त्रिकोणीय आकार का केसरिया या पीले रंग का ध्वज आपको अपनी छत पर लगाना चाहिए। आपके ध्वज पर मंगलकारी ॐ या स्वस्तिक का चिन्ह अवश्य बना होना चाहिए।

ध्वज लगाये जाने में सावधानियाँ

घर की छत पर ध्वज लगाते समय वास्तु के नियमों का पालन अवश्य करना चाहिए। इसके लिए घर की छत पर ध्वज लगाते समय भी कुछ विशेष सावधानियाँ बरतनी चाहिए। नहीं तो लाभ के स्थान पर हानि हो सकती है़। वास्तुशास्त्र के अनुसार घर की छत पर कभी भी कटा-फटा अथवा मैला ध्वज नहीं लगाना चाहिए।

यदि आप अपनी छत पर ध्वज लगा रहें हैं तो वह साफ-सुथरा अवश्य होना चाहिए। साथ ही वह ध्वज उसी समय तक लगाये रखना चाहिए जब तक की उसका वास्तविक रंग बना रहे।

जब उसका रंग बारिश में धुल -धुलकर फीका हो जाये या ग्रीष्मकाल की तेज धूप में ध्वज का रंग बदरंग हो जाये तो ऐसी दशा में उसे उतार कर नया ध्वज लगा देना चाहिए, क्योंकि फीके रंग का ध्वज आपके जीवन में निराशा लाता है़। साथ ही वह घर में नकारात्मक ऊर्जा भी उत्पन्न करता है़।