क्या आपके घर की घड़ी सही दिशा में लगी है

क्या आपके घर की घड़ी सही दिशा में लगी हैक्या आप जानते हैं कि आपके घर की दीवार पर लगी घड़ी समय ही नहीं बताती बल्कि यह वह ताकतवर यंत्र है जो आपके समय को बदलने की क्षमता रखती है?

समय बदलना हो तो अपने घर में लगी दीवार घड़ी पर ध्यान दें 

जी हाँ, यह सच है कि यदि हमें अपना समय बदलना है तो हमारे घर में लगी घड़ी में यदि कोई वास्तु दोष है तो उस दोष का जल्द समाधान करना होगा। क्योंकि घर में सही दिशा में लगायी गयी घड़ी, जहाँ हमारे जीवन में अच्छा समय लाती है वहीं इसके विपरीत गलत दिशा में लगी घड़ी हमारे समय को खराब कर सकती हैं ।

हमें विपत्तियों में भी घेर सकती है। इसलिए घर में घड़ी लगाते समय इस बात का ध्यान रखना होगा कि उसे उचित दिशा और स्थान पर लगायें ताकि वास्तु की दृष्टि से वह हमें लाभ पहुँचा सके। वास्तु शास्त्र के पंडितों का कहना है कि घड़ी को केवल शो पीस की वस्तु समझने की भूल कभी न करें। क्योंकि घड़ी की गलत दिशा और गलत स्थान हमारे घर की दशा बदल कर रख देती है।

घड़ी लगाने से संबंधित सबसे महत्वपूर्ण बात

पहली बात यह है कि इस यंत्र को कभी दक्षिण दिशा में भूलकर भी न लगायें। क्योंकि दक्षिण दिशा में लगायी गयी घड़ी हमारी सोच को नकारात्मक बनाती है। दक्षिण दिशा में लगी घड़ी घर में तनाव और असफलता लाती है। अक्सर लोग घड़ी को सजावट की वस्तु की श्रेणी में रखकर घड़ी को अपने दरवाजे के ऊपर टांग देते हैं।

लेकिन यह बिल्कुल गलत है क्योंकि ऐसा करने से घर में धन की हानि होती है। दरवाजे पर लगी घड़ी घर में आती हुई लक्ष्मी को रोकती है। एक महत्वपूर्ण टिप्स यह है कि यदि आपको अपने कार्यक्षेत्र में सबसे आगे रहना है तो अपने घर की घड़ी की सुई को भी पाँच या दस मिनट आगे बढ़ाना होगा।

घड़ी को फ़ास्ट रखना चाहिए या स्लो 

ठीक समय से पाँच-दस मिनट घड़ी को आगे बढ़ाकर रखना अपने हर कार्य में सफलता पाने का एक अचूक मंत्र है जो आपकी उन्नति के सारे रास्ते खोल देता है । यह उपाय आपको सदैव आगे बढ़ने की ओर अग्रसर करता है।

कभी-कभी घरों में स्लो चलने वाली घड़ी लगीं होतीं हैं। घर में सही समय से धीमे चलने वाली घड़ी कभी ना रखें। क्योंकि यह आपकी प्रगति की चाल को धीमा कर देती है। इसलिये समय से पीछे चलने वाली घड़ी घर में बिल्कुल भी ना लगायें क्योंकि यह  परिवार के सदस्यों में आलस्य पैदा करेगी।

बंद घड़ी क्या क्या कर सकती है

यदि आपके घर में बंद घड़ी लगी है। जिसकी बैटरी समाप्त हो गई है तो तुरंत उसे हटा दें या उसकी बैटरी बदल दें। क्योंकि बंद घड़ी मृत्यु की प्रतीक है। बंद घड़ी आपके घर की समस्या को बढ़ाती है और संकटों को आमंत्रित करती है।

वास्तु के अनुसार घड़ी के रंगों का भी आपके जीवन पर सकारात्मक और नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। घर में बहुत गहरे रंगों की घड़ी लगाने से बचें। इसलिए घर में कभी काले, नीले और नारंगी रंग की घड़ी नहीं लगानी चाहिए। इसके स्थान पर हल्के रंगों वाली जैसे सफेद हरी, सुनहरी या सिल्वर रंग की घड़ी लगा सकते हैं।

घड़ी को कभी बेडरूम में नहीं लगाना चाहिए

क्योंकि यह अनिद्रा को बढ़ावा देती है। यह आपको चैन की नींद आने नहीं देती। बेडरूम में लगी घड़ी आपको सर दर्द और हाई ब्लड प्रेशर का शिकार बनाती है। घर में बहुत सारी घड़ियाँ लगाने से भी बचें। क्योंकि यह आपके मन की दृढ़ता को समाप्त करतीं हैं।

यदि आप बाजार से घड़ी खरीदने जा रहें हैं तो पेंडुलम वाली घड़ी खरीदें। ऐसी घड़ी आपकी उन्नति को प्रशस्त करती है। घड़ी का यह पेंडुलम नाव के उस चप्पू के सामान है जिसके चलने से नाव गहरे पानी में भी आगे बढती है।

उसी प्रकार घर की घड़ी में चलता हुआ पेंडुलम कठिन समय में भी आपको आगे ले जाने में सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करता है। पेंडुलम वाली घड़ी यदि पश्चिम दिशा की दीवार पर लगायी जाये तो सर्वोत्तम रहता है।

घर में लगने वाली दीवार घड़ी का सही आकार क्या होना चाहिए

ऐसा देखा गया है कि लोग बाजार से किसी भी आकृति की घड़ी लाकर दीवार पर लगा देते हैं। लेकिन वास्तु विशेषज्ञों के अनुसार घरों में यदि गोल या चौकोर आकार की घड़ी लगायी जाये तो वो घर में सुख और समृध्दि का समय लाती है।

घर में नुकीली आकृति वाली घड़ी न लगायें क्योंकि यह नकारात्मक ऊर्जा प्रदान करती है। स्टडी रूम की दीवार पर घड़ी पढ़ने वाले बच्चे की कुर्सी के ठीक सामने लगाना चाहिए। जिसके कारण आपके बच्चे का पढ़ाई का कार्य स्कूल के साथ-साथ चलता है।

उपहार में घड़ी का लेन-देन क्या उचित है

वह अन्य बच्चों से पिछड़ता नहीं है। एक महत्वपूर्ण बात घड़ी से संबंधित यह है कि उपहार में घड़ी का लेन-देन सर्वथा अनुचित है। वास्तु के अनुसार उपहार में घड़ी देने वाला अपना अच्छा या बुरा समय दूसरे को देता है और उपहार में घड़ी लेने वाला दूसरे का समय लेता है फिर चाहे वह समय बुरा हो या अच्छा।

इसीलिय वास्तुशास्त्र यही कहता है कि गिफ्ट में घड़ी के आदान-प्रदान से बचें। क्यों कि जाने-अनजाने आपका अच्छा समय दूसरे के पास जा सकता है और दूसरों का बुरा समय आपके पास आ सकता है।

घर में घड़ी लगाने की सही दिशा क्या है 

वास्तु की दृष्टि से आपको बस यह महत्वपूर्ण बात सदैव ध्यान रखनी है कि घर में घड़ी लगाने की सही दिशा उत्तर, पूर्व या पश्चिम है। ये दिशाएं घड़ी लगाने के लिए सबसे अच्छी मानी गयीं है।

यदि आपकी घड़ी इन तीनों दिशाओं के अतिरिक्त किसी अन्य दिशा में लगी है तो डायरेक्शन तुरंत बदल डालें। रहस्यमय के वास्तु विशेषज्ञ का कहना है कि यदि आप अपने घर में घड़ी लगाते समय सही दिशा और सही जगह का चुनाव करते हैं तो सच मानिए यह आपके लिए सुख और समृद्धि का द्वार खोल देगी।