ब्रह्मप्रेत की मुक्ति

दिन के उजाले में जिनका ज़िक्र हमारे रोमांच को बढ़ा देता है, रात के अँधेरे में वही हमारे होश उड़ा सकती हैं | हम बात कर रहे हैं प्रेतात्माओं की, जिनका रहस्यमय संसार यहीं है, हमसे बहुत दूर नहीं | ईश्वर की बनायी सृष्टि को समझ सकने का अभिमान करना, मनुष्य ने बहुत पहले ही … Continue reading ब्रह्मप्रेत की मुक्ति