भाग-२ (क्या लोहे को सोने में बदलना संभव है ?)

ब्रह्माण्ड और प्रति-ब्रह्माण्ड “तुम लोगों ने शास्त्रों में जिन विद्याओं के नाम मात्र सुने हैं, वे तथा उनके अतिरिक्त और भी न मालूम कितनी और हैं ?” इसी प्रकार बातें होते-होते शाम हो चली थी | पास में ही घड़ी रखी थी, महापुरुष ने देखा अब समय नहीं है, वे तुरंत उठ खड़े हुए और … Continue reading भाग-२ (क्या लोहे को सोने में बदलना संभव है ?)