समय, ब्रह्माण्ड एवं लोकोत्तर यात्राएं

प्राचीन भारतीय काल गणना का रहस्य ...

आप में से बहुतों के मन में कभी न कभी ये प्रश्न जरूर उठा होगा कि जब मापन की अन्य इकाइयाँ, जैसे दूरी नापने की इकाई (मीटर, किलोमीटर आदि) तथा भार नापने की इकाई (ग्राम, किलोग्राम आदि), 10, 100, 1000 आदि के अंतर से बढ़ती या घटती हैं तो समय मापन की इकाई (जैसे सेकंड्स, मिनट्स, घंटे आदि) में केवल 60 का अंतर क्यों होता है? कभी, जब आप बहुत अच्छा समय व्यतीत कर रहे हों तो दुःख भी होता ...

 More...

प्राचीन भारत के ग्रन्थों में ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति एवं ब्रह्माण्ड के रहस्य

आधुनिक विश्व के मनीषी जितना ब्रह्माण्ड सम्बन्धी खोजों में तत्परता से लगे हुए ...

 More...

ब्रह्माण्ड में असंख्य सूर्यों का अस्तित्व

हम सभी को पता है कि हमारे सौर-मंडल में एक ही सूर्य (Sun) है और वही इस धरती पर (और अगर ...

 More...

क्या इन्टरस्टेलर भारतीय ब्रह्माण्ड विज्ञान से प्रेरित थी

महर्षि चित्र ने अपने गुरुकुल में यज्ञ-आयोजित किया था । ऋत्विक् के लिये उन्होंने ...

 More...

क्या प्राचीन ऋषियों को समानांतर ब्रह्माण्डों का ज्ञान था ?

आज के आधुनिक ब्रह्माण्ड विज्ञान की नींव डाली महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन ...

 More...

सूक्ष्म जगत के अनसुलझे रहस्य

घटना 23 सितम्बर 1880 की है। टेनेसी (यू. एस. ए.) के एक किसान डेविड लैंगर का फार्म हाउस ...

 More...

दूसरी दुनिया से आये हरी त्वचा वाले भाई-बहन का रहस्य

एक अद्भुत प्रसंग की चर्चा 12 वीं सदी के ब्रिडलिंगटन के विख्यात संत विलियम ऑफ न्यूवर्ग ...

 More...

दूसरी दुनिया के दरवाज़े हैं ये रहस्यमय वर्महोल

अपनी धरती पर अब तक इस तरह के दो वर्म होल ढूँढ़े जा चुके हैं। इनमें से एक फ्लोरिडा ...

 More...

आत्महत्या के बाद किस संसार में जाते है लोग ?

आत्महत्या को जिंदगी की सबसे बड़ी भूल बताया गया है | आत्महत्या करने वाले ज्यादातर ...

 More...

संवेदनाओं का रहस्यमय संसार

द्वितीय विश्वयुद्ध की एक घटना का उल्लेख अपनी एक पुस्तक में करते हुये श्रीमती ...

 More...