समुद्र मंथन

समुद्र मंथन

समुद्र मंथन की कहानी पौराणिक काल की समुद्र मंथन की कहानी वास्तव में वह रहस्यमय कथा है जिसका रहस्य समुद्र से भी अधिक गहरा है। कभी-कभी इस घटना को काल्पनिक मानने का मन करता है। क्योंकि समुद्र मंथन में जिन …

Read more

झाड़ू कब खरीदे की घर में लक्ष्मी आयें

झाड़ू कब खरीदे की घर में लक्ष्मी आयें

जो लोग अब तक झाड़ू को घर की एक तुच्छ चीज समझते हैं वह सावधान हों जायें, क्योंकि आपका ऐसा सोंचना धन की देवी लक्ष्मी जी को नाराज कर सकता है। झाड़ू के रखरखाव की अनदेखी करना आपको आर्थिक संकट …

Read more

कुरुक्षेत्र युद्ध स्थान की भूमि, अपने में कई रहस्यों को समेटे हुए है

कुरुक्षेत्र युद्ध स्थान की भूमि, अपने में कई रहस्यों को समेटे हुए है

कुरुक्षेत्र, जी हाँ यह वही भूमि है़ जहाँ 5600 ईसा पूर्व महाभारत का घमासान युध्द हुआ था। क्या यह आपको मालूम है़ कि इस युध्द में पांडवो की तरफ से 1530900 सैनिक और कौरवों की ओर से 2405700 सैनिकों ने …

Read more

जानिये अचूक शनि मंत्र जो आपको नौकरी दिला सकता है, विपरीत परिस्थितियों में भी

जानिये अचूक शनि मंत्र जो आपको नौकरी दिला सकता है, विपरीत परिस्थितियों में भी

बेरोजगारी की स्थिति में व्यक्ति रोजगार पाने के लिए अपनी स्टडी और एक्सपीरियंस को तो बढ़ाता ही है लेकिन यदि वह साथ-साथ अध्यात्म का भी सहारा ले तो निश्चय ही उसे जल्द कामयाबी और परिणाम अपने अनुकूल प्राप्त होने की …

Read more

घर के सदस्यों का सम्मान पाना चाहते हैं तो कभी भी उनकी गीली तौलिया का उपयोग न करें

घर के सदस्यों का सम्मान पाना चाहते हैं तो कभी भी उनकी गीली तौलिया का उपयोग न करें

तौलिये का हमारे जीवन में हमारे लिए महत्वपूर्ण स्थान है़। सुबह के उठने से लेकर रात के सोने तक हमारा तौलिये से संपर्क बना रहता है़। ऐसे में वास्तुशास्त्र में तौलिये से संबंधित आवश्यक दिशा निर्देश दिये हैं। क्योंकि तौलिये …

Read more

आपकी डोरबेल की तेज आवाज बिगाड़ सकती है घर की सेहत

आपकी डोरबेल की तेज आवाज बिगाड़ सकती है घर की सेहत

ध्वनि की प्रकृति दो प्रकार की होती है पहली कर्कश ध्वनि और दूसरी मधुर। प्रकृति में भी दो तरह की आवाजें हमारे आसपास विद्यमान है पहले कौए की तेज आवाज और  दूसरा कोयल का मीठा स्वर। आपसे यदि यह पूछा …

Read more

कर्ण की उत्पत्ति कैसे हुई और महाभारत के सारे पात्र किन-किन देवता, दानव और असुरों के अंश से उत्पन्न हुए

महाभारत के सारे पात्र किन-किन देवता, दानव और असुरों के अंश से उत्पन्न हुए

जरासन्ध, शिशुपाल, शल्य, धृष्टकेतु और कंस पूर्व जन्म में कौन थे  वैशम्पायन जी कहते हैं, जनमेजय! अब मैं यह वर्णन करता हूँ कि किन-किन देवता और दानवों ने किन-किन मनुष्यों के रूप में जन्म लिया था। दानवराज विप्रचित्ति जरासन्ध और …

Read more

जरत्कारु ऋषि की कथा और आस्तिक मुनि का जन्म

जरत्कारु ऋषि की कथा और आस्तीक का जन्म 1

शौनक ऋषि ने पूछा, सूतनन्दन! आपने जिन जरत्कारु ऋषि का नाम लिया है, उनका जरत्कारु नाम क्यों पड़ा था? उनके नाम का अर्थ क्या है और उनसे आस्तिक का जन्म कैसे हुआ? उग्रश्रवा जी ने कहा, ‘जरा’ शब्द का अर्थ …

Read more

राजा परीक्षित की मृत्यु कैसे हुई

राजा परीक्षित

श्रीशौनक जी ने कहा-सूतनन्दन! राजा जनमेजय ने उत्तंक की बात सुनकर अपने पिता परीक्षित की मृत्यु के सम्बन्ध में जो पूछताछ की थी, उसका आप विस्तार से वर्णन कीजिये। उग्रश्रवा जी ने कहा-राजा जनमेजय ने अपने मन्त्रियों से पूछा कि …

Read more

जन्मेजय का नाग यज्ञ

naag yagya

उग्रश्रवा जी कहते हैं, ‘शौनकादि ऋषियो! अपने पिता की मृत्यु का इतिहास सुनकर जनमेजय को बड़ा दुःख हुआ। वे क्रुद्ध होकर हाथ-से-हाथ मलने लगे। शोक के कारण उनकी लम्बी और गरम साँस चलने लगी। आँखें आँसू से भर गयीं। वे …

Read more